न्यूज़

श्रीदेवी: 10वी के बोर्ड में 95% स्कोर करने वाली अपने कौम की पहली लड़की

Published by
Mahima

TOI की रिपोर्ट के अनुसार अन्नामलाई टाइगर रिजर्व (ATR) में एक आदिवासी बस्ती से सोलह वर्षीय श्रीदेवी कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत लाने वाली अपनी कम्युनिटी की पहली लड़की बनी। लगभग एक महीने पहले, केरल सरकार ने लड़की की मदद करने के लिए परीक्षा केंद्र तक पहुँचने के लिए एक विशेष बस की व्यवस्था की थी। श्रीदेवी तमिलनाडु-केरल सीमा पर स्थित तिरुप्पूर जिले के पुचुकोत्तमपराई आदिवासी बस्ती से ताल्लुक रखती हैं, जहाँ बिजली और मोबाइल नेटवर्क कवरेज एक स्ट्रगल है।

श्रीदेवी ने क्या कहा :

श्रीदेवी ने केरल के चालकुडी के एक रेजिडेंशियल स्कूल में पढ़ाई की, और अब वे हायर सेकेंडरी एजुकेशन लेना चाहेंगी। “मैं शायद ही विश्वास कर सकती हूं कि मैंने अपनी दसवीं कक्षा की परीक्षा में ए-प्लस ग्रेड – 95% से अधिक स्कोर किया है ,” लड़की ने कहा। उसकी उपलब्धि महत्वपूर्ण है क्योंकि उनकी समुदाय के ज़्यादातर स्टूडेंट्स कथित तौर पर मिडिल स्कूल के बाद पढ़ाई छोड़ देते हैं या उनकी शादी करा दी जाती है ।

उसकी उपलब्धि महत्वपूर्ण है क्योंकि उनकी समुदाय के ज़्यादातर स्टूडेंट्स कथित तौर पर मिडिल स्कूल के बाद पढ़ाई छोड़ देते हैं या उनकी शादी करा दी जाती है ।

कठिनाई

उनके पिता एम चेल्लमुतू एक किसान हैं। वह अपनी बेटी के बारे में चिंतित थे कि वह परीक्षा हॉल में पहुँच भी पायेगी या नहीं, क्योंकि लॉकडाउन लागू होने के बाद वह अपनी बस्ती में लौट आई। केरल की अथॉरिटी इस मामले के बीच आयी और श्रीदेवी को तमिलनाडु सीमा से स्कूल तक ले जाने के लिए एक वाहन की व्यवस्था की।

श्रीदेवी को परीक्षा केंद्र तक पहुंचने के लिए जंगल से होकर गुजरना पड़ा, जहां मोबाइल सिग्नल उपलब्ध नहीं है। परीक्षा लिखने के लिए वह एक कमरे में अकेली बैठी थी। इसके अलावा, मातृभूमि के अनुसार, परीक्षा के बाद, उसे खुद को क्वारंटाइन भी करना पड़ा,।

और पढ़िए: केरल: छत पर ऑनलाइन क्लासेस अटेंड करने वाली लड़की को मिला हाई-स्पीड इंटरनेट

उनके पिता ने क्या कहा:

श्रीदेवी ने कहा कि शुरू में जब लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, तो उन्होंने केरल की सीमा तक पहुंचने के लिए कई किलोमीटर पैदल चलकर और कई किलोमीटर अपने पिता की बाइक पर यात्रा की थी। “मुझे वास्तव में गर्व है कि मेरी बेटी ने परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त किए हैं। लोगों को जो कहना है वो कहते रहे, मैं अपनी बेटी की शिक्षा जारी रखूँगा। हम अपने बच्चों को अपनी बस्ती के भीतर छुपाना नहीं चाहते हैं और उन्हें प्रोफेशनल हाइट्स पर ले जाने से रोकना नहीं चाहते हैं।” उसके पिता ने बोला।

“लोगों को जो कहना है वो कहते रहे, मैं अपनी बेटी की शिक्षा जारी रखूँगा।” श्रीदेवी के पापा

“कड़े विरोध के बीच, चेल्लमुतू ने अपनी बेटी को शिक्षित करने का एक ब्रेव डिसिशन लिया .. और लड़की ने मौके का समझदारी का इस्तेमाल किया। एक प्रेरणा के रूप में, हमें उम्मीद है कि कई विल्लागेरस अपने बच्चों को शिक्षित करने के लिए आगे आएंगे, ”पी शनमुगम, तमिलनाडु ट्राइबल एसोसिएशन के वाईस प्रेजिडेंट ने कहा।

और पढ़िए : ऑनलाइन क्लासेस नहीं अटेंड कर पा रही भारत की बहुत सी लड़कियां, जानिए 3 कारण

Recent Posts

ऐश्वर्या राय की हमशक्ल ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, जानिए कौन है ये लड़की

आशिता सिंह राठौर जो हूँबहू ऐश्वर्या राय की तरह दिखती है ,इंटेरटनेट पर खूब वायरल…

3 hours ago

आंध्र प्रदेश सरकार 30 लाख रुपये की नगद राशि के इनाम से पीवी सिंधु को करेगी सम्मानित

शटलर पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मैडल जीतने पर आंध्र प्रदेश सरकार देगी…

4 hours ago

Justice For Delhi Cantt Girl : जानिये मामले से जुड़ी ये 10 बातें

रविवार को दिल्ली कैंट एरिया के नांगल गांव में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार…

4 hours ago

ट्विटर पर हैशटैग Justice For Delhi Cantt Girl क्यों ट्रैंड कर रहा है ? जानिये क्या है पूरा मामला

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में दिल्ली कैंट के पास श्मशान के एक पुजारी और तीन पुरुष कर्मचारियों…

5 hours ago

दिल्ली: 9 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, हत्या, जबरन किया गया अंतिम संस्कार

दिल्ली में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार किया गया, उसकी हत्या कर दी गई…

6 hours ago

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

20 hours ago

This website uses cookies.