माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे तेज़ महिला COVID-19 प्रतिबंधों के कारण नेपाल में फ़सी

माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे तेज़  महिला COVID-19 प्रतिबंधों के कारण नेपाल में फ़सी माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे तेज़  महिला COVID-19 प्रतिबंधों के कारण नेपाल में फ़सी

SheThePeople Team

22 Jun 2021

Tsang Yin-hung, जो इस साल माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली सबसे तेज महिला बनीं थी, अब बीजिंग द्वारा लगाए गए COVID-19 प्रतिबंधों के कारण चीन के अन्य पर्वतारोहियों के साथ नेपाल में फंसी हुई हैं। नेपाल में एवरेस्ट के शिविर कैंप के एरिया में भी संक्रमण का प्रकोप देखा जा रहा है, जिससे कई देशों के पास वहां से यात्रा को रोकने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है।

Tsang Yin-hung ने 23 मई को नेपाल में दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ाई की


हॉन्ग कॉन्ग की 45 वर्षीय टीचर Tsang Yin-hung ने 23 मई को नेपाल के काठमांडू लौटने से पहले पिछले महीने 25 घंटे 50 मिनट में बेस कैंप से 17,390 फीट की ऊंचाई पर दुनिया की सबसे ऊंची चोटी 29,032 फीट पर चढ़ाई की। लेकिन यिन-हंग को अभी भी घर वापस जाने की जरूरत है, रॉयटर्स की रिपोर्ट।

काठमांडू मई से आंशिक रूप से बंद है। यिन-हंग ने कहा कि शिखर पर चढ़ना उसके लिए संभव और प्राप्त करने योग्य था लेकिन "घर वापस जाने की उम्मीद नहीं लग रही है"। यिन-हंग, ने कहा कि चीन वापस जाने का कोई रास्ता नहीं है क्योंकि नेपाल से कोई भी उड़ान वर्तमान में चालू नहीं है।

Tsang Yin-hung: माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे तेज महिला


शिखर पर पहुंचने में, पिछले महीने, यिन-हंग ने, नेपाल के फुंजो झांगमु लामा द्वारा बनाया गया रिकॉर्ड (39 घंटे और छह मिनट) को तोड़ दिया, जब उन्होंने 2018 में 39 घंटे 6 मिनट में चढ़ाई पूरी की।

Agence Frances-Presse के अनुसार, मुख्य भूमि चीन में जन्मी, त्सांग यिन-हंग, अपने परिवार के साथ 10 साल की उम्र में हांगकांग चली गईं थी। यिन-हंग ने न्यूयॉर्क पोस्ट को बताया कि वह बेस कैंप और शिखर के बीच कपड़े बदलने के लिए केवल दो बार रुकी, और रास्ते में कई अन्य पर्वतारोहियों का सामना न करने का श्रेय वह "भाग्य" को देती हैं।

2017 में, हांगकांग निवासी शीर्ष पर पहुंचने वाली क्षेत्र की पहली महिला बनीं। हिमालय की चोटी पर चढ़ने का यह उनका तीसरा प्रयास था।

 

अनुशंसित लेख