बायोकॉन की फाउंडर किरण मजूमदार शॉ ने ग्लोबल वैक्सीन इक्विटी पर वन शेयर वर्ल्ड द्वारा आयोजित एक वर्चुअल पैनल डिस्कशन में भाग लिया। रिपोर्ट्स के अनुसार मजूमदार ने कहा कि भारत के पास महामारी से निपटने के लिए एनफ रिसोर्सेज नहीं हैं और COVID-19 की दूसरी लहर ने भारत को “सुनामी की तरह” कैसे हिट किया है।

किरण मजूमदार शॉ ने कहा कि पिछले साल के ऑप्पोजित, पान्डेमिक ने भारत के ग्रामीण और शहरी दोनों हिस्सों को प्रभावित किया है और मामलों में उछाल के लिए राज्य के चुनावों और त्योहारों को दोषी ठहराया है। “इस बार शहरी भारत में और अधिक भयावह रूप से यह ग्रामीण भारत है जो इन्फेक्ट भी हो गया है क्योंकि हमारे पास स्टेट एलेक्शंस का एक ग्रुप और कई धार्मिक त्योहार हैं जो वास्तव में इस डरावनी बढ़ोतरी  से जुड़ गए हैं। ”

जैसे-जैसे मामले हर दिन तेजी से बढ़ रहे हैं, भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं में भारी बढ़ोतरी हो रही है। मजूमदार ने कहा कि देश में महामारी से निपटने के लिए मेडिकल सुप्प्लाईज़ के पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। उसने कहा, “इसलिए अस्पताल बेड्स और ऑक्सीजन, हमारे पास आज जिस तरह के नंबर्स हैं, उन्हें मैनेज करने के लिए पर्याप्त ह्यूमन रिसोर्स नहीं हैं। हमारे पास मरीजों का इलाज करने के लिए पर्याप्त दवाएं नहीं हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि हमारे पास लोगों को जल्दी से वैक्सीन लगाने के लिए पर्याप्त वैक्सीन नहीं हैं। देश की फिलहाल स्थिति के पीछे के कारणों पर प्रकाश डालते हुए, उन्होंने कहा कि देश की बड़ी आबादी कई चुनौतीपूर्ण कारणों में से एक हो सकती है। उन्होंने वैश्विक समुदाय से रिक्वेस्ट  कि वह संकट के इस समय में आगे आए और भारत की मदद करे।

फॉरेन सेक्रेटरी हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि अब तक 40 से अधिक देशों ने घोषणा की है कि वे भारत को ऑक्सीजन सिलेंडर और मशीनरी जैसी मेडिकल सुप्प्लाईज़ प्रदान करेंगे।

मजूमदार ने आगे बात की कि साल  2021 की शुरुआत में भारत कैसे कॉंफिडेंट और कम्पलसेंट महसूस कर रहा था कि दुनिया के अन्य देशों को वैक्सीन दान किए गए थे और अब प्रोडक्शन प्रोसेस में तेजी लाने की जरूरत है।

किरण मजूमदार शॉ ने कहा, “यदि भारत सुरक्षित नहीं है, तो मैं आपको बता सकती हूं कि दुनिया सुरक्षित नहीं है।”

Email us at connect@shethepeople.tv