Cryptic Pregnancy: क्या है, ट्रेंडिंग क्यों है, और किसको इसका खतरा है?

Cryptic Pregnancy: क्या है, ट्रेंडिंग क्यों है, और किसको इसका खतरा है? Cryptic Pregnancy: क्या है, ट्रेंडिंग क्यों है, और किसको इसका खतरा है?

Monika Pundir

28 Jun 2022

सोमवार के दिन की खबर में एक यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली महिला पेट दर्द की शिकायत लेकर टॉयलेट गयी, और बच्चे को जन्म दे कर वापस आयी​​। यह उसके 20 वे जन्मदिन के एक दिन पहले की घटना है​​। इस वाइरल न्यूज़ पर सोशल मीडिया पर बहुत चर्चा हुई​​। कई लोग लड़की का मज़ाक उड़ा रहे हैं, की 9 महीने में वह खुद, या उसका परिवार या जान पहचान के लोग प्रेग्नेंसी कैसे नहीं पहचान पाए? यह एक क्लासिक केस है क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी की​​।

क्रिप्टिक प्रेगनेंसी क्या है?

क्रिप्टिक प्रेगनेंसी का अर्थ है एक ऐसी प्रेगनेंसी जिसमें नार्मल सिम्पटम्स नहीं होते। प्रेग्नेंसी के नॉर्मल, जाने-माने संकेत हैं उल्टी, सिर चकराना, पीरियड्स का न होना और लगभग 20 सप्ताह (4 महीने) के बाद बेबी बंप का दिखना। 

क्रिप्टिप प्रेगनेंसी के ऐसे कुछ भी संकेत नहीं होते। अक्सर इर्रेग्युलर पीरियड होने वाले महिला को क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी होते हैं, इसलिए पीरियड्स की कमी को भी वे नहीं पहचानते। साथ ही, बच्चे का गर्भ में पोज़िशन ऐसा होता है की महिला का पेट ज़्यादा बड़ा नहीं दीखता। यहां तक की, कुछ प्रेगनेंसी में अल्ट्रासाउंड के बिना प्रेगनेंसी पहचानना संभव ही नहीं, क्योंकि होम टेस्ट्स भी फेक नेगेटिव रिजल्ट देते हैं।

क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी का खतरा किसे है?

क्रिप्टिक प्रेगनेंसी का खतरा उन महिलाओं को है जिन्हें:

1. इर्रेगुलर पीरियड्स होती हैं 

जिन लोगों को इर्रेगुलर पीरियड्स होते हैं, उन्हें पीरियड्स का न होना अजीब नहीं लगेगा। इसलिए वे प्रेग्नेंसी के इस महत्वपूर्ण संकेत को नहीं पहचान पाते।

2. PCOS या PCOD है

यह दोनों ओवरी में सिस्ट से सम्बन्धित समस्या है। जिन लोगों को यह समस्या है, उनके हार्मोनल इम्बैलेंस के कारण प्रेगनेंसी के सिम्पटम्स न हो सकते हैं।

3. ओरल कंट्रासेप्शन मिस कर दिया हो 

ओरल कंट्रासेप्शन हार्मोनल होता है। अगर आप इसे किसी एक दिन मिस कर देते हैं, आपके क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी के चांस होते हैं।

4. हाल ही में ओरल कंट्रासेप्शन बंद किया हो 

अगर आप ओरल कंट्रासेप्शन बंद करते हैं, आपका हार्मोनल साइकल नार्मल होने में समय ले सकता है। इस बीच अगर आप प्रेग्नेंट हो जाते हैं, आपके क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी की चांस है।

5. मेनोपॉज़ के करीब होना 

मेनोपॉज़ के करीब शरीर बहुत सारी चैंजेस से गुज़रता है। मेनोपॉज़ और प्रेग्नेंसी के कुछ संकेत समान भी है। इसलिए ऐसे समय में क्रिप्टिक प्रेग्नेंसी की चांस बढ़ जाती है।

6. मेन्टल इलनेस 

जिन महिलाओं को मेंटल इलनेस है, या वे मेंटल इलनेस के दवा लेते हैं, अगर वे प्रेग्नेंट हो जाये, काफी समय तक उसके संकेत छुपे हुए रह सकते हैं।  

कॉम्प्लीकेशन्स 

एक क्रिप्टिक प्रेगनेंसी बच्चे के जन्म तक छुपी रह सकती है। इससे जुड़े कॉम्प्लीकेशन्स हैं:

  • प्री नेटल केयर यानी गर्भावस्था में मिलने वाली केयर से बहुत देर तक वंचित रहना 
  • सही दवा न लेना 
  • बच्चे के प्रीमैच्योर या अंडरवेट जन्म होने की संभावना 
अनुशंसित लेख