Who Is Afreen Fatima? दरवाज़े पर सरकार ने क्यों दी दस्तक? जानें वजह

Who Is Afreen Fatima? दरवाज़े पर सरकार ने क्यों दी दस्तक? जानें वजह Who Is Afreen Fatima? दरवाज़े पर सरकार ने क्यों दी दस्तक? जानें वजह

Sanjana

13 Jun 2022

क्यों चला जावेद के घर पर बुल्डोजर 

आफरीन फातिमा के पिता जावेद मोहम्मद के घर को 11 जून को बुलडोजर के दम पर कुचल दिया गया। जावेद मोहम्मद वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के लीडर भी है। अथॉरिटी द्वारा जावेद पर यह आरोप लगाया गया है कि उन्होंने सरकारी जमीन पर गैरकानूनी तरीके से घर बनाया है। पुलिस द्वारा आरोप लगाया गया है कि जावेद ही प्रयागराज में होने वाली हिंसा के मास्टरमाइंड है।

12 जून रविवार को जावेद का घर पूरी तरह से नष्ट कर दिया गया। घर के अंदर के सामान को बाहर एक जगह लाकर रख दिया। जावेद के वकीलों ने कोर्ट में एक पीआईएल फाइल की है जिसमें उन्होंने लिखा है कि यह डिमोलिशन झूठे ग्राउंड पर हुआ है। उन्होंने सीजेआई को घर की मरम्मत और परिवार के लिए मुआवजे की अपील की है। उनका यह घर उनकी बीवी के नाम पर है लेकिन नोटिस जावेद के नाम से आया है।

आफरीन फातिमा कौन है? क्यों हो रही है कॉन्ट्रोवर्सी?

आफरीन फातिमा और जावेद मोहम्मद एंटी CAA प्रोटेस्ट के मुख्य चेहरे रह चुके हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस के द्वारा जावेद पर प्रयागराज में होने वाली हिंसा का मास्टरमाइंड होने का आरोप लगाया गया है। इस आरोप के चलते उन्हें शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके बाद उनकी बीवी परवीन और बेटी आफरीन को भी लपेटे में ले लिया।

शुक्रवार के दिन नूपुर शर्मा के खिलाफ हो रहे प्रोटेस्ट में जावेद मुख्य भूमिका में थे। नूपुर शर्मा के मुहम्मद पर विवादास्पद बयानों के बाद ये प्रोटेस्ट जावेद ने ही लीड किए है। आफरीन के भाई उमाम जावेद ने कहा कि 11 जून को पुलिस फिर से उनके घर पहुंच गई। पुलिस ने उन्हें तुरंत घर खाली करने की धमकी दी और 2:00 बजे फिर लौट कर आने को कहा।

जावेद और आफरीन अपनी हरकतों के चलते कॉन्ट्रोवर्सी का केंद्र बने हुए हैं। रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने उत्तर प्रदेश, बंगाल और झारखंड मैं प्रोटेस्ट करने वाले 400 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

आफरीन ने नेशनल कमीशन ऑफ वूमेन से अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने पहले भी कहा था कि अगर इस शहर में कुछ भी होता है तो उसका इल्जाम उनके पिता पर लगा दिया जाता है।

आफरीन 2019 के एंटी CAA प्रोटेस्ट का मुख्य चेहरा थी। उस वक्त वह जवाहरलाल यूनिवर्सिटी से मास्टर्स कर रही थी। वह स्टूडेंट यूनियन ऑफ वूमेन की प्रेसिडेंट भी थी। उन्होंने शाहीन बाग के प्रोटेस्ट में भी काफी योगदान दिया है। हाल ही में हिजाब के अधिकार को सुरक्षित करने के लिए भी उन्होंने कई प्रोटेस्ट किए।

अनुशंसित लेख