Who Is Lakshita Dagar? 21 साल की लड़की बनी उज्जैन से सरपंच

Who Is Lakshita Dagar? 21 साल की लड़की बनी उज्जैन से सरपंच Who Is Lakshita Dagar? 21 साल की लड़की बनी उज्जैन से सरपंच

Swati Bundela

28 Jun 2022

लक्षिता के साथ कुल 8  महिलाओं ने इलेक्शन लड़ा था।  इन्होने 487 वोट के मार्जिन से यह चुनाव जीता था। यह इलेक्शन कुल तीन भागों में हुआ था ऑफर जबसे लक्षिता जीती हैं तभी से यह न्यूज़ में बनी हुई हैं।

कौन है लक्षिता डागर?

लक्षिता ने पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा मास कम्युनिकेशन में किया है।  इससे पहले इन्होने रेडियो जॉकी और पत्रकार के तौर पर काम भी किया है।  इनका मन है कि यह फैशन डिसाइनिंग की फील्ड में करियर बनाए।  

इनके इंटरव्यू के दौरान लक्षिता ने कहा कि उनका गाँव उनके लिए सबसे पहले आता है। इन्होंने अपने घोषणा पत्र में पानी, नाली और स्ट्रीट लाइट के सुधर को लेकर लिखा था।  

इसके अलावा इन्होंने सभी के लिए हाउसिंग स्कीम का वादा किया था ताकि जितने गाँव के लोगों के पास घर नहीं हैं उन्हें घर मिल सकें।  

इन्होंने कहा कि यह प्रधान मातृ आवास योजना ऐसे लोगों एक पास लेकर जाएंगी जिनके पास खुद के घर नहीं हैं या फिर जिनके पास कच्चे घर हैं।  इसके अलावा यह सिकलाँग और बुजुर्ग को पेंशन दिलाने पर भी काम करेंगे ।  

इनका सपना है कि यह एक इंगलिश मध्यम स्कूल खोलें और बच्चे वहां पढ़ सकें।  यह चाहती हैं कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे टेक्नोलॉजी में आगे बड़े और स्मार्ट हों।  

ऐसा पहली बार नहीं है जब एक यंग लड़की ने अपने हाँथ में चुनाव की और गाँव की बागदौड संभाली है।  इससे पहले गुडगाँव की शहनाज़ खान ने उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से चुनाव लड़ा था जब यह 24 साल की थीं।  

शहनाज़ ने चुनाव जीतने पर कहा था कि मेवात में लोग अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजते हैं पर मैं उन्हें खुद का उदाहरण देकर पढाई का महत्व समझाउंगी।  

अनुशंसित लेख