Suicide Cases in Kerala : केरल में 3 महिलाओं ने लगातार किया आत्महत्या

Suicide Cases in Kerala : केरल में 3 महिलाओं ने लगातार किया आत्महत्या Suicide Cases in Kerala : केरल में 3 महिलाओं ने लगातार किया आत्महत्या

SheThePeople Team

02 Jul 2021

महिलाओं ने किया आत्महत्या - केरल में 3 महिलाओं का 48 घंटे के भीतर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है। यह मामला जून 21 से 22 तक का है। उन्होंने जाने से पहले नोट छोरा जिसमें उन्होंने दहेज को अपनी मृत्यु का कारण बताया था। आत्महत्याओं के कारण केरल में जेंडर को लेकर विवाद छिड़ गई है।


पिछले महीने ही हुई थी शादी


21 जून की रात को आयुर्वेद बीएएमएस की छात्रा 22 वर्षीय विस्मया वी. नायर कोल्लम जिले के सस्थामकोट्टा में अपने पति के घर पर लटकी हुई पाई गई थी। अपनी मृत्यु से पहले अपने रिश्तेदारों को व्हाट्सएप के जरिए मैसेज भेज बताया था कि जिसमें पति किरण पर टॉर्चर करने का आरोप लगाया था।

हम दोनों ने पिछले मई में शादी की थी। वही उनके पिता त्रिविक्रमण ने दूल्हे को 10 लाख रुपये की एक नई कार, 1.25 एकड़ जमीन और 100 सॉवरेन सोना दहेज के रूप में उपहार में दिया था।


लड़की के परिवार ने कराई थी शिकायत दर्ज


इस घटना के बाद दुल्हन के परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और किरण को 24 जून को गिरफ्तार कर लिया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि विस्मया की मौत फांसी के कारण हुई थी। लेकिन यह अभी भी पुष्टि नहीं हुई है कि यह आत्महत्या का मामला था या हत्या का। सरकार ने इस मामले की जांच के लिए इंस्पेक्टर जनरल हर्षिता अट्टालुरी नियुक्त किया है।

पति ने आग लगाकर की हत्या


ठीक 24 घंटे बाद एक और एक और ऐसा मामला सामने आया था। जिसमें 24 वर्षीय अर्चना को उसके पति ने विझिंजम में कथित तौर पर आग लगा दी थी। दंपति ने भी 2020 में शादी की थी। इस लड़की के परिवार ने भी पति पर दहेज संबंधी टॉर्चर का आरोप लगाया था।

22 जून को उत्तराखंड के हवलदार के घर में 19 वर्षीय सुचित्रा विष्णु फांसी पर लटकी मिलीं थी। उसके परिवार ने भी दहेज संबंधी प्रताड़ना का आरोप लगाया है।

केरल में महिलाओं की स्थिति


युवा गृहिणियों द्वारा आत्महत्या यह दिखाता है कि केरल में महिला की हालत इतनी बदतर है। जो महिलाओं के अधिकार के लिए और सशक्तिकरण के बारे में सार्वजनिक रूप से आवाज उठाते हैं।

मलयालम फिल्मों में ​​आध्यात्मिक नेता भी महिलाओं को रोल मॉडल के रूप में मनाते हैं। लेकिन केवल तब तक जब तक वे अपने घरों की चार दीवारों तक सीमित हैं, अपने बच्चों, ससुराल वालों की देखभाल करती है।

महिलाओं ने किया आत्महत्या

अनुशंसित लेख