News: लोकल ट्रेन में महिला ने दिया बच्चे को जन्म

33 वर्षीय प्रिया वाकचौरे अपनी डिलीवरी के लिए अस्पताल जा रही थीं, तभी ट्रेन में प्रिया का पानी टूट गया। जब ऐसा लगा कि बच्चा बाहर आने वाला है, तो डिब्बे में साथी महिला यात्रियों ने प्रसव में प्रिया की मदद की। आइए जानते हैं पूरी खबर आज की न्यूज़ ब्लॉग में-

Vaishali Garg
03 Dec 2022
News: लोकल ट्रेन में महिला ने दिया बच्चे को जन्म

Woman Gives Birth On Train

News: 2 दिसंबर को अस्पताल जाने वाली एक महिला के लिए लोकल ट्रेनों में दोस्ती की कहानी सच साबित हो गई, जब उसने साथी ट्रैवलर्स की मदद से ट्रेन में ही अपने बच्चे को जन्म दिया। 33 वर्षीय प्रिया वाकचौरे अपनी डिलीवरी के लिए अस्पताल जा रही थीं, तभी ट्रेन में प्रिया का पानी टूट गया। जब ऐसा लगा कि बच्चा बाहर आने वाला है, तो डिब्बे में साथी महिला यात्रियों ने प्रसव में प्रिया की मदद की।

महिला ने ट्रेन में दिया बच्चे को जन्म(Woman Gives Birth On Train)

2 तारीक को अटगांव निवासी प्रिया वाकचौरे को सुबह करीब साढ़े चार बजे लेबर पेन शुरू हुआ और तब उसने अपनी मां के साथ कल्याण अस्पताल जाने का फैसला किया। दोनों अस्पताल पहुंचने के लिए एक लोकल ट्रेन में बैठे क्योंकि उसकी डिलीवरी वहीं होनी थी। हालांकि, आगे जो हुआ वह प्रिया और ट्रेन में साथी यात्रियों के लिए अप्रत्याशित और हैवी था। प्रिया का पानी तब टूटा जब ट्रेन टिटवाला स्टेशन से ठीक पहले उल्हास नदी के ऊपर थी। प्रिया के आश्चर्य के लिए, उसका बच्चा आंशिक रूप से बाहर था और ऐसा लग रहा था कि उसे उसी समय प्रसव करना होगा। तब डिब्बे में मौजूद महिलाएँ उसके बचाव में आईं और बच्चे को सुरक्षित और आराम से जन्म देने में उसकी काफी मदद की।

जब वह लोकल ट्रेन ठीक दो मिनट बाद टिटवाला स्टेशन पहुंची, तो प्रथम श्रेणी के डिब्बे की एक महिला, जहां घटना हुई थी, रेलवे सुरक्षा बल कक्ष (RPF) की ओर उन्हें सतर्क करने के लिए दौड़ी। वहां की सहायक वरिष्ठ निरीक्षक दिनेश कुमार और हेड कांस्टेबल राम पंचपांडे डिब्बे में गए और मोटरमैन को चेतावनी दी कि जब तक प्रिया और उसके बच्चे को सुरक्षित रूप से प्लेटफॉर्म पर नहीं ले जाया जाता तब तक ट्रेन को रोक कर रखें।

ट्रेन में मौजूद थी एक नर्स

उस ट्रेन में एक नर्स भी थी जो मदद के लिए आगे आई। एक अन्य नर्स, जिसे स्टेशन पर आने और सहायता करने के लिए बुलाया गया था, ने गर्भनाल को काट दिया और महिला के साथ तब तक रही जब तक कि माँ और बच्चे दोनों को एक स्ट्रेचर पर 300 मीटर दूर एक अस्पताल में नहीं ले जाया गया, क्योंकि अस्पताल में कोई एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं थी उस समय।  

प्रिया वाकचौरे के भाई ने पूरी घटना मीडिया को बताते हुए कहा कि क्योंकी उसकी बहन की पति शहर से बाहर थे और कोई वाहन उपलब्ध नहीं था, इसलिए उसने तेजी से पहुंचने के लिए ट्रेन से यात्रा करने का ऑप्शन चुना। उन्होंने अपनी बहन के सबसे चुनौतीपूर्ण समय में मदद करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद दिया और अंत तक उनकी मदद करने वाले पुलिस अधिकारियों के प्रति भी अपना आभार व्यक्त किया।

Read The Next Article