Indian Army: भारत में पहली बार 30 महिलाओं ने सेना में संभाली कमान

सेना में महिला ऑफिसर्स की संख्या बढ़ाने की पहल करने वाली सेना ने सशस्त्र बलों में प्रवेश करने की इच्छा रखने वाली युवा महिलाओं के लिए एक नई दिशा निर्धारित की है। जानें अधिक इस टॉप स्टोरीज न्यूज़ ब्लॉग में -

Vaishali Garg
17 Jan 2023
Indian Army: भारत में पहली बार 30 महिलाओं ने सेना में संभाली कमान

Women Commanders In Army

Indian Army: सेना में महिला कमांडरों को देखने की उम्मीद अब एक वास्तविकता बन चुकी क्योंकि भारतीय सशस्त्र बलों ने विशिष्ट हथियार इकाइयों में तीस से अधिक महिला अधिकारियों की भर्ती की है, जो उन्हें भारतीय सेना में कमांड भूमिकाओं के लिए योग्य बनाती हैं। आपको बता दें की जिन महिला अधिकारियों ने अब भारतीय सेना में कमान की भूमिकाएँ हासिल कर ली हैं, उन्हें आगे बढ़ने के लिए उच्च रैंक पर पदोन्नति के लिए भी माना जाएगा।

Women Commanders In Army

सेना हेडक्वार्टर से एक अपडेट के मुताबिक 30 महिला ऑफिसर्स की फर्स्ट लिस्ट को सभी संबंधित विभागों ने मंजूरी दे दी है जिसमें कोर ऑफ इंजीनियर, इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल इंजीनियर सिग्नल और ऑर्डिनेंस शामिल है। डिपार्टमेंट से अपेक्षा की जाती है कि जब और अधिक ऑफिसर्स को कमांड पदों के लिए चुना जाएगा तो वह और अधिक सूचियां साफ करेंगे। यह खबर कैप्टन शिवा चौहान के एक ऐतिहासिक फैसले में सियाचिन ग्लेशियर में तैनात होने के बाद आई है, क्योंकि दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र में पहली बार किसी महिला ऑफिसर को इस तरह के ऑपरेशन में तैनात किया गया था।

महिला अधिकारियों को मिल रहे हैं समान अवसर 

साल की शुरुआत में भारतीय सेना ने आर्टिलरी रेजिमेंट में भी महिलाओं को कमीशन देने का निर्णय लिया और इसके लिए एक प्रस्ताव केंद्र सरकार को भी भेजा गया है। जिन महिला अधिकारियों को कमान की भूमिका दी जा रही है, वह 1992 से 2005 तक के बैच की हैं। सेना के स्पोकपर्सन के मुताबिक़, "प्रक्रिया कर्नल रैंक के संबंध में महिलाओं के लिए 108 रिक्तियों के लिए पदोन्नति बोर्ड रखने वाली सेना का एक हिस्सा है।"

सेना में महिला ऑफिसर्स की संख्या बढ़ाने की पहल करने वाली सेना ने सशस्त्र बलों में प्रवेश करने की इच्छा रखने वाली युवा महिलाओं के लिए एक नई दिशा निर्धारित की है। अग्निपथ योजना ने हाल ही में सौ से अधिक महिलाओं के अपने पहले बैच को नियुक्त किया है जो मार्च 2023 से शुरू होने वाले ट्रेनिंग में शामिल होंगी।

विदेशी देशों और संयुक्त राष्ट्र शांति मिशनों के साथ संयुक्त सैन्य प्रैक्टिस में महिला ऑफिसर्स की तैनाती निश्चित रूप से संभावनाओं के संबंध में इक्वालिटी हासिल करने के दृष्टिकोण में आगे बढ़ने का एक तरीका है।

गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र को नारी शक्ति का हर रूप में अवलोकन करने को मिलेगा, क्योंकि परेड 'नारी शक्ति' के वास्तविक सार की शुरुआत करेगी। आपको बता दें की परेड की थीम हाल ही में महिला सशक्तिकरण के रूप में लॉक डाउन की गई थी।

महिला ऑफिसर्स को आखिरकार एक समान मंच की पेशकश की जा रही है, सशस्त्र बलों में अधिक भर्ती और तैनाती के संबंध में अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। यह कहा जा रहा है भारतीय सेना में कमांडरों के रूप में अपनी भूमिका का प्रयोग करने वाली महिलाओं को भविष्य के लिए और अपने देश की सेवा करने की इच्छा रखने वाली युवा महिलाओं की आने वाली पीढ़ी के लिए उम्मीद है।

Read The Next Article