अधिकारियों ने अन्नोउंस किया कि 26 जनवरी को रिपब्लिक डे प्रोग्राम में सीआरपीएफ की सभी महिला बाइकर्स परेड में जोखिम भरा साहसी स्टंट दिखाएगी।

image

65-सदस्यीय यूनिट 350सीसी  रॉयल एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल पर अपने अक्रोबेटिक स्किल्स को 90 मिनट से अधिक लंबी परेड के अंत में पेश करेगी।

सीआरपीएफ के स्पोकेसपर्सन डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल  (डीआईजी) मूसा धिनकरन ने पीटीआई को बताया कि यह पहली बार होगा कि उनकी महिला बाइकर्स रिपब्लिक डे परेड की सदस्य बनने जा रही हैं। “यह कंटिंजेंट, 2014 में स्थापित, हमारे द्वारा किए गए कर्तव्यों के सभी क्षेत्रों में महिलाओं को शामिल करने के लिए हमारे समर्पण का एक हिस्सा है,” उन्होंने कहा।

1986 में, सीआरपीएफ  ने एशियाई क्षेत्र में पहली सशस्त्र महिला बल को ट्रेन किया था। और अभी, इसमें छह ऐसे संयोजन हैं जिनमें से प्रत्येक में 1,000 से अधिक कर्मचारी हैं।

लीडर ऑफ़ कंटिंजेंट

इंस्पेक्टर सीमा नाग कंटिंजेंट को लीड करेंगी। वह रैपिड एक्शन फोर्स (आरऐएफ ) के साथ तैनात हैं। आरएएफ सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फाॅर्स  (सीआरपीएफ) की एक्स्ट्रा-आर्डिनरी एंटी -रिओट्स कनफ्लिक्ट यूनिट  है। यह दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण पैरामिलिटरी आर्गेनाइजेशन है जिसके रैंक में लगभग 3.25 लाख वर्कर्स हैं।

सीआरपीएफ ट्रेनर्स ने टीम के सदस्यों को स्पष्ट रूप से चुना। वे 25 से 30 आयु वर्ग में हैं। “कई कॉम्बैट रैंक ऑफ़ फोर्सेज से बने,” एक अन्य कार्यकारी ने कहा।

“इस महिला बाइकर्स टीम ने, देश के प्रमुख गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती समारोह में पिछले साल 31 अक्टूबर को गुजरात के केवडिया में परफॉर्म किया था। इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे।”- एग्जीक्यूटिव ने कहा ।

महिला सी.आर.पी.एफ. का इतिहास

1986 में, सीआरपीएफ ने एशियाई क्षेत्र में पहली सशस्त्र महिला बल को ट्रेन किया था। और अभी , इसमें छह ऐसे अस्सेम्ब्लेजेस हैं जिनमें से प्रत्येक में 1,000 से अधिक कर्मचारी हैं।

इस वर्ष की गणतंत्र दिवस परेड में, सभी महिला सीआरपीएफ टुकड़ी साहसी बाइक चलाने की नौ एक्टिविटीज़ के रूप में प्रस्तुत करेगी। वे कई मोटरसाइकिलों पर एक मानव पिरामिड बनाकर सामने आएँगी।

65-सदस्यीय इकाई 350 सीसी रॉयल एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल पर अपने कलाबाजी कौशल को 90 मिनट से अधिक लंबी परेड के अंत में पेश करेगी।

2018 की परेड में, बॉर्डर सिक्योरिटी फाॅर्स (बीएसएफ ) की एक महिला बाइकर्स की टुकड़ी ने एक समान उपस्थिति दर्ज की थी। 2015 में, सेना, नौसेना और वायु सेना की मार्च करने वाली महिलाओं ने राष्ट्रीय परेड में प्रदर्शन किया था। परंपरा के अनुसार, बीएसएफ और सेना की बाइक-जनित डेयरडेविल्स अपनी बाइक चलाते हुए हर साल रिपब्लिकडे की परेड समाप्त करते हैं। इस साल सीआरपीएफ महिला कर्मियों को यह मौका मिला हैं, अधिकारी ने कहा।

Email us at connect@shethepeople.tv