Advertisment

COVID-19 का डर ऐसा कि 2 साल से घर के बाहर नहीं निकलीं मां और बेटी

भारत के आंध्र प्रदेश से एक चौकाने वाली खबर सामने आ रही है जहां पर 2 महिला कुयूरू गांव में अपने घर में कोविड-19 के डर से कैद हो गई थी। जानें पूरी खबर आज के न्यूज़ ब्लॉग में-

author-image
Vaishali Garg
21 Dec 2022
COVID-19 का डर ऐसा कि 2 साल से घर के बाहर नहीं निकलीं मां और बेटी

Women rescued from self confinement

COVID-19: महामारी का डर 2020 में दुनिया में पहली बार आने के बाद से आज भी लंबे समय तक बना हुआ है। लॉकडाउन के दौरान self isolation सामान्य दिनचर्या का हिस्सा बन गया था, virus के कॉन्टेक्ट का डर लोगों के मन में गहराई तक समा गया था। इस तरह या किसी और तरह। आंध्र प्रदेश की दो महिलाओं के लिए यह डर और भी बुरा था। एक 46 वर्षीय महिला और उसकी 21 वर्षीय बेटी को उनके घर से बचाया गया क्योंकि उनके घर की चारदीवारी के भीतर लगभग दो साल तक रहने के कारण उनकी स्वास्थ्य स्थिति बिगड़ गई थी।

Advertisment

Women rescued from self confinement

भारत के आंध्र प्रदेश से एक चौकाने वाली खबर सामने आ रही है जहां पर 2 महिला कुयूरू गांव में अपने घर में कोविड-19 के डर से कैद हो गई थी। इतने लंबे समय तक एक घर में कैद रहने के कारण दोनों की तबीयत काफी बिगड़ गई। लेकिन अधिकारियों और लोगों की मदद से उन्हें बचा लिया गया है। वायरस के कांटेक्ट में ना आए दोनों मां बेटी इसलिए दोनों ने घर से कभी इन 2 सालों में कदम बाहर नहीं रखा, ना ही किसी को अपने कभी घर के अंदर आने दिया। महिला का पति दोनों को खाने पीने का सामान मुहैया कराता रहता था। हालांकि, हाल ही में महिला और उसकी 21 वर्ष की बेटी की तबीयत अचानक बहुत बिगड़ गई और उसके पति ने अस्पताल के अधिकारियों को इसके बारे में सूचना दें।

डर ऐसा कि 2 साल से घर के बाहर नहीं निकली मां और बेटी

Advertisment

बताया गया की मां और बेटी दोनों कुछ मनोवैज्ञानिक मुद्दों से जूझ रही हैं।  इस ख़बर की जानकारी मंगलवार को तब पता चली जब महिला के पति ने स्थानीय चिकित्सा की पेशकश की और सहायक नर्स और मिडवाइफ (एएनएम) ने उनके घर का दौरा किया। जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ एम शांति प्रभा ने मीडिया को बताया कि दंपति पुरानी बीमारी से भी पीड़ित थे और इसका इलाज चल रहा था। "वे भी मनोरोग उपचार प्राप्त कर रहे हैं, हालांकि, बेटी मां का अनुसरण करती है और अलग तरह से व्यवहार करती है।"

मेडिकल टीम को महिला के विरोध का सामना करना पड़ा क्योंकि उसने और उसकी बेटी ने टीम के लिए दरवाजा नहीं खोला था। हालांकि, काफी जद्दोजहद और पति के आश्वासन के बाद उन्होंने उन्हें घर में घुसने दिया। फिलहाल दोनों महिलाओं का इलाज सरकारी अस्पताल में चल रहा है और उनकी काउंसलिंग भी की जा रही है। COVID-19 

इससे पहले 20 साल 2021 जुलाई में इस तरह की एक घटना सामने आ चुकी है जहां गोदावरी जिले में वायरस के डर से 3 महिलाएं लगभग 15 महीने के लिए सेल्फ आइसोलेट हो गई थीं।

Advertisment
Advertisment