न्यूज़

इंडियन-ओरिजिन साइंटिस्ट ने वर्क फ्रॉम होम करके फिफ्थ स्टेट ऑफ मैटर बनाई

Published by
Ayushi Jain

ब्रिटेन की फिजिसिस्ट डॉ. अमृता गाडगे ने कोरोनोवायरस लॉकडाउन के दौरान घर से काम करते हुए मैटर की पांचवी स्टेट (Fifth State Of Matter) का निर्माण किया है।  उन्होंने लॉकडाउन के दौरान अपने कंप्यूटर का इस्तेमाल करके सभी एक्सपेरिमेंट्स किये। लैब न्यूज़ के अनुसार, ससेक्स यूनिवर्सिटी (Sussex University) में क्वांटम सिस्टम्स एंड डिवाइसेस लेबोरेटरी में काम करने वाले डॉ. गाडगे ने बोस-आइंस्टीन कंडेनसेट (Bose-Einstein Condensate) बनाया है – जिसे  मैटर का पाँचवाँ स्टेट माना जाता है (जहाँ सभी कोल्ड एटम्स एक साथ मिल जाते है) । यूनिवर्सिटी के क्वांटम डिपार्टमेंट के रीसर्चर्स का मानना ​​है कि यह पहली बार है जब किसी ने लैब से दूर रहकर बोस-आइंस्टीन कंडेनसेट बनाया है।

इंडियन ओरिजिन की फिजिसिस्ट लैब से दो मील दूर रहती हैं। उन्होंने लेजर और रेडियो रेज़ को कण्ट्रोल करने और बीईसी बनाने के लिए अपने कंप्यूटर पर तकनीक का इस्तेमाल किया। अब, रीसर्चर्स का कहना हैं कि यह उपलब्धि अंतरिक्ष या पानी के अंदर क्वांटम तकनीक के ब्लू प्रिंट्स तैयार कर सकती है।

और पढ़िए: 70 प्रतिशत माताएँ अपने बच्चे के पालन पोषण के लिए इंटरनेट पर निर्भर है : सर्वे

मैटर की पाँचवी स्टेट क्या है?

पांचवीं स्टेट की डेवलपमेंट रिसर्च बाकी चार स्टेट्स – सॉलिड, लिक्विड, गैस और प्लाज्मा के बनने के बाद होती है। पीटर क्रुजर, ससेक्स यूनिवर्सिटी में एक्सपेरिमेंटल फिजिक्स के प्रोफेसर ह। उनका मानना ​​है कि मैटर की पांचवीं स्टेट “गैस में एटम्स के आयनाइज़ होने पर बनती है।

रीसर्चर्स का कहना हैं कि यह उपलब्धि अंतरिक्ष या पानी के अंदर क्वांटम तकनीक के ब्लू प्रिंट्स तैयार कर सकती है।

एक्सपेरिमेंट के बारे में बात करने पर और उसके सफल रिजल्ट के बारे में उन्होंने कहा, “हम सभी बेहद उत्साहित हैं कि हम लॉकडाउन के दौरान लैब से दूर रहकर भी अपने एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं।”

“यह रिसर्च 1920 के दशक के मध्य से अल्बर्ट आइंस्टीन और भारतीय फिजिसिस्ट सत्येंद्र नाथ बोस की भविष्यवाणी पर आधारित है जिसमें कहा गया था कि क्वांटम मेकेनिक्स का इस्तेमाल करके बहुत सारे पार्टिकल्स एक पार्टिकल के रूप में काम कर सकते है, इस तरह ही मैटर की पांचवी स्टेट का रिसर्च किया गया”  पीटर ने कहा।

और पढ़िए: 23 वर्षीय भारतीय मूल की डॉक्टर ने मिस इंग्लैंड का ताज जीता

यूनिवर्सिटी के क्वांटम डिपार्टमेंट के रीसर्चर्स का मानना ​​है कि यह पहली बार है जब किसी ने लैब से दूर रहकर बोस-आइंस्टीन कंडेनसेट बनाया है।

डॉ गाडगे की मेहनत

 जब डॉ गाडगे से उनके मुश्किल एक्सपेरिमेंट्स और कॅल्क्युलेशन्स के बारे में पूछा गया और वह इसे अपने घर से कैसे कर पाईं, तो उन्होंने बताया, “रिसर्च टीम लॉकडाउन में घर से काम कर रही है और इसलिए हम हफ्तों तक अपनी लैब में नहीं जा पाए हैं। । अगर हम लैब में काम करते तो प्रोसीजर बहुत स्लो होता क्योंकि एक्सपेरिमेंट अनस्टेबल है और हमे हर रन के बीच में 10 से 15 मिनट का कूलिंग टाइम देना था। ”

उन्होंने बताया, “यह स्पष्ट रूप से कुशल नहीं है और मैन्युअल तरीके से करने के लिए काफी लॅबोरियस तरीका है क्योंकि मैं घर पर सिस्टेमेटिक स्कैन करने या इनस्टेबिलिटी को ठीक करने में सक्षम नहीं हूं जैसे कि मैं लैब में काम कर सकती थी। लेकिन हम अपनी रिसर्च को जारी रखने के लिए दृढ़ थे, इसलिए हम घर बैठकर अपने एक्सपेरिमेंट करने के नए तरीके तलाश रहे थे । “

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

7 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

8 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

8 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

8 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

9 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

10 hours ago

This website uses cookies.