Dear Mother In Law: बेटे का ध्यान आकर्षित करना प्रतियोगिता नहीं है

Dear Mother In Law: बेटे का ध्यान आकर्षित करना प्रतियोगिता नहीं है Dear Mother In Law: बेटे का ध्यान आकर्षित करना प्रतियोगिता नहीं है

Vaishali Garg

15 Jun 2022

भारतीय माताएं अपने बेटों पर इतना अधिकार रखती हैं कि वे अपने बेटे के जीवन में दूसरी महिला (अपनी बहू) को तक सहन नहीं कर सकती हैं।  लेकिन उन्हें उसकी शादी करनी होगी क्योंकि यही सामाजिक मानदंड की मांग है और परिवार के नाम को भी तो आगे बढ़ाने के लिए वारिस की जरूरत है, है ना? लेकिन, बहुओं की मौजूदगी से भारतीय सास को खतरा क्यों महसूस होता है? इसके कई कारण है-

1. पुत्र की प्राप्ति से मां को शक्ति मिलती है

भारत में, पुत्र को जन्म देने का अर्थ है कि एक महिला ने अपना अंतिम कर्तव्य पूरा कर लिया है।  नतीजतन, वह अपने परिवार की शक्ति केंद्र बन जाती है, केवल एक बेटे की उपस्थिति से उसकी स्थिति बयां होती है। उन्हें जन्म के बाद से पहली बार यह शक्ति और प्रतिष्ठा मिलती है। पहले उसके अस्तित्व को एक बोझ के रूप में देखा जाता था, लेकिन वह सब बदल जाता है, बस एक आनुवंशिक लॉटरी जीतकर। इसलिए, वह इस विशेष दर्जे को छोड़ना नहीं चाहती- खासकर अपने घर में और अपने बेटे के जीवन में।

पहली बार इन्हे खतरा महसूस तब होता है जब एक दूसरी महिला (इनकी बहु) घर में आती है और इनके बेटे का ध्यान आकर्षित करती है।  तब उन्हे लगता है कि अब अपने बेटे का ध्यान वापस पाना है। इसलिए वह अपनी बहू में कमियों निकलती हैं, कि वह उतना अच्छा खाना नहीं बना सकती, जितना वह बनाती है, या कि वह एक अच्छी हाउस मैनेजर आदि नहीं है।

2. भारतीय महिलाएं आश्रित हैं

अधिकांश भारतीय माताएं गृहिणी हैं। वह अपना सारा जीवन अपने बच्चों के पालनपोषण में लगा देती है।  सामाजिक मानदंडों के कारण वे अपनी बेटियों के साथ नहीं रह सकतीं हैं इसलिए वह बेटे के साथ रहती हैं। साथ ही, हमारे समाज में महिलाएं पुरषों पर निर्भर होती हैं, चाहे वह उनके पिता, भाई, पति और फिर पुत्र क्यों ना हो।

भारत में ज्यादातर महिलाओं को अच्छी गृहिणी, बहू, पत्नियां और मां बनने के लिए पाला और प्रशिक्षित किया जाता है और उन्हें कभी भी करियर उन्मुख बनने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाता और इसलिए वे आर्थिक रूप से अपने पुरुषों पर निर्भर होती हैं। अधिकांश पुरुषों से अपने माता-पिता की देखभाल करने की अपेक्षा की जाती है, पति के बाद महिला अपनी जरूरतों के लिए बेटे पर निर्भर होती है। इसलिए वह यह सुनिश्चित करना चाहती है कि उसका बेटा उसे पहली प्राथमिकता दे।

3. बेटियों को मां-बाप का ख्याल रखने नहीं मिलता

भारतीय समाज के अनुसार बेटियां पैदा होने के समय से ही 'पराया धन' होती हैं।  उन्हें किसी अन्य परिवार की बहू और पत्नी बनने के लिए तैयार और पाला जाता है। क्योंकि उसको शादी करके दूसरे घर जाना होता है तो वह वहां की जिम्मेदारी होती है। इसलिए उसे कोई जिम्मेदारी नहीं दी जाती है। और यही वजह है कि माता-पिता की देखभाल की पूरी जिम्मेदारी बेटे के पास होती है।

शुक्र है कि हमारे सुप्रीम कोर्ट ने अब हर भारतीय बेटी को अपने माता-पिता की देखभाल करने का अधिकार दिया है।  2016 से बॉम्बे हाईकोर्ट के एक ऐतिहासिक फैसले में कहा गया है कि एक विवाहित महिला भी अपने माता-पिता की जिम्मेदारी उठा सकती है। 

मेरा मानना है कि यह महिलाओं की समानता की दिशा में अब तक का सबसे नेक कदम है और इससे भारतीय बेटों को माता-पिता की अकेले देखभाल करने की जिम्मेदारी कम हो जाएगी।  यह सास-बहू को अपने बेटे का ध्यान आकर्षित करने के लिए अपनी बहुओं के साथ प्रतिस्पर्धा करने से भी रोक सकता है। यह सास को अपने बेटे का ध्यान आकर्षित करने के लिए अपनी बहुओं के साथ प्रतिस्पर्धा करने से भी रोक सकता है।

बेशक अब चीजें बदल रही हैं।  कार्यबल में अधिक महिलाओं के साथ, आजकल माताएँ अपने बेटों से वित्तीय सहायता या किसी अन्य प्रकार के लिए निर्भर नहीं हैं।  मुझे लगता है कि एक समाज के रूप में हमारा यह महसूस करना अच्छा होगा कि बेटा किसी प्रकार का बैंक खाता नहीं है जिसमें आप पैसा डालते हैं और अपने बुढ़ापे में मुफ्त आश्रय के रूप में वापसी की उम्मीद करते हैं।  

अगर यही तर्क है, तो हमें यह दिखावा करना बंद कर देना चाहिए कि भारत में मातृत्व की पूजा की जानी चाहिए। अपने बेटों को भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल करना और उनके जीवन को नियंत्रित करना माता-पिता की ओर से स्वार्थ के अलावा और कुछ नहीं है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके पास उनके बुढ़ापे में उनकी देखभाल करने के लिए कोई है।

अनुशंसित लेख