Children In Joint Family: क्या जॉइंट फैमिली में बच्चों का सही विकास होता है?

Children In Joint Family: क्या जॉइंट फैमिली में बच्चों का सही विकास होता है? Children In Joint Family: क्या जॉइंट फैमिली में बच्चों का सही विकास होता है?

Apurva Dubey

12 Aug 2022

संयुक्त परिवार, विशेष रूप से हमारे दादा-दादी की पीढ़ी के दौरान, भारतीय समाज में एक आदर्श माना जाता था, क्योंकि यह परिवार के युवा सदस्यों के बीच पारिवारिक मूल्यों और 'भारतीय परंपराओं' को पोषित करने और विकसित करने में मदद करेगा। हालांकि, एक यूजर ने हाल ही में ट्विटर पर अपनी राय दी और कहा कि संयुक्त परिवार परिवार में बच्चों के लिए एक पोषण और स्वस्थ वातावरण प्रदान करने में विफल रहता है। ट्वीट ने संयुक्त परिवारों के साथ आने वाली जटिलताओं और नाटक को प्रकाश में लाया और कई उपयोगकर्ताओं ने इसी तरह के अनुभव साझा किए।

Children In Joint Family: जॉइंट फैमिली है बच्चे के विकास में बाधा

बड़े परिवार की बात करें तो इसमें आप अपने छोटे-मोटे निर्णय भी अकेले ले नहीं सकते। इसके लिए सभी बड़ों की हामी की आवश्यकता होती है। मसलन शादी-ब्याह का मामला हो, कोई कोर्स करना हो, कहीं आना जाना हो। ऐसे अनेक फ़ैसले आप परिवार के अन्य सदस्यों की हामी के बिना स्वतंत्र रूप से नहीं ले सकते।

टिप्पणियों में अधिकांश महिलाओं ने राय से सहमति व्यक्त की और व्यक्त किया कि कैसे भारतीय परिवार स्वस्थ सीमाओं को बनाए रखने की अवधारणा को नहीं समझते हैं और चाहते हैं कि परिवार के सदस्य एक-दूसरे के लिए 'टॉलरेंस' विकसित करें, चाहे वह किस तरह का टोल ले रहा हो उनका मानसिक स्वास्थ्य।

अधिकांश भारतीय संयुक्त परिवारों की अवधारणा का समर्थन करते हैं, क्योंकि उनके अनुसार यह हमारी संस्कृति में बताए गए 'पारिवारिक मूल्यों' का प्रतीक है। हालांकि, निस्संदेह, एक संयुक्त परिवार में रहना भावनात्मक रूप से थका देने वाला काम हो सकता है और यदि एक सुरक्षित स्थान और स्वस्थ सीमाएँ नहीं बनाई जाती हैं तो यह कई लोगों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है।

संयुक्त परिवार में यदि अन्य बच्चों की आदतें अलग हों और आप अपने बच्चे को इन आदतों से अलग रखना चाहते हैं लेकिन आप मजबूरन ऐसा नहीं कर सकते। क्योंकि आपके बच्चों की परवरिश कई हाथों में होती है जिस कारण आपका कंट्रोल न के बराबर होता है।

न्यूक्लियर फैमिली में भो होती है प्रॉब्लम 

आज के समय में लोग मजबूरन नौकरी या काम के लिए बाहर जाकर रहते हैं फिर आर्थिक रूप से सशक्त होने के बाद भी वे एकल ही रहना पसंद करते हैं। जिसका परिणाम यह होता है कि उनके बच्चे भी परिवार के साथ मिलकर रहने से वंचित रह जाते हैं। कभी-कभी तो माता-पिता के कंट्रोल से बाहर निकल जाते हैं। कारण होता है माता-पिता का उनके लिए टाईम न होना। बच्चे अकेलेपन के शिकार हो जाते हैं। फलस्वरुप उन्हें डिप्रेशन होने लगता है। फ़िर वे इंटरनेट का सहारा लेते है। जहां वे एक काल्पनिक दुनियां से जुड़ जाते हैं। काल्पनिक दोस्त, काल्पनिक सलाहकार। जहां वे अपनी समस्याएं साझा करने लगते हैं जो कि उन्हें नहीं करना चाहिए। 


अनुशंसित लेख