Violence: भारतीय अधिकारी भारत में लैंगिक हिंसा से कैसे निपटते हैं?

महिलाओं के खिलाफ हिंसा के कुछ हालिया मामलों के संबंध में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट समन्वयक द्वारा कुछ अनुचित टिप्पणियां की गई हैं। जानें इस ओपिनियन ब्लॉग में भारतीय अधिकारी भारत में लैंगिक हिंसा से कैसे निपटते हैं?

Vaishali Garg
26 Dec 2022
Violence: भारतीय अधिकारी भारत में लैंगिक हिंसा से कैसे निपटते हैं?

Violence

Violence: भारत में जेंडर वायलेंस लॉकडाउन के बाद से बहुत अधिक मात्रा में बढ़ गया है, फिर चाहे वह बलात्कार के मामले हो, महिलाओं के ऊपर तेजाब फेंकने के मामले हो, शारीरिक शोषण का मामला हो या अन्य किसी प्रकार की हिंसा हो। हर दूसरे तीसरे दिन इस टाइप की घटनाएं अखबारों की सुर्खियां बनते हैं।

हर 11 मिनट में एक महिला के साथ गलत व्यवहार किया जाता है

International Day for the Elimination of Violence Against Women के अवसर पर यूएन के प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि हर 11 मिनट में एक महिला के साथ गलत व्यवहार किया जाता है। वह घर वाले ही होते हैं जो एक महिला के साथ ज्यादती करते हैं उसको मार डालते हैं। आगे बात करते हुए एंटोनियो ने बताया कि यह मामले लॉकडाउन में काफी अधिक मात्रा में बड़े हैं जहां महिलाओं को कई प्रकार की घरेलू हिंसा का सामना करना पड़ा।

इस साल दिल्ली में हुई बड़ी हत्याकांड के बाद, समाचार पत्र इसी तरह के मामलों की रिपोर्टिंग का एक सराहनीय काम कर रहे थे। हेडलाइन जैसे-

"एक महिला की हत्या करने और उसके शरीर को जलाने के लिए आदमी को गिरफ्तार किया गया जिसके साथ वह रिश्ते में था।"

"अरावली पहाड़ियों में एक ट्रॉली बैग से मानव अवशेष बरामद।"

"मनुष्य अपने परिवार के चार लोगों को एक के बाद एक मार डालता है।"

किसी और से शादी करने से नाराज शख्स ने पूर्व प्रेमिका की हत्या की, उसके शरीर के 6 टुकड़े किए"।

वर्ष 2020 मेंजब कोविड-19 एक मंडराता खतरा था, भारत में संयुक्त राष्ट्र ने महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के मामलों पर चिंता व्यक्त की।  इसमें कहा गया है कि भारतीय अधिकारियों के लिए यह जरूरी है कि ऐसे अपराधों के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दी जाए। भारत ने इस तरह की inappropriate कमेंट्स पर रिजेक्शन व्यक्त की और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा:

"महिलाओं के खिलाफ हिंसा के कुछ हालिया मामलों के संबंध में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट समन्वयक द्वारा कुछ अनुचित टिप्पणियां की गई हैं। भारत में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर को पता होना चाहिए कि इन मामलों को सरकार ने बेहद गंभीरता से लिया है।”

Violence: भारतीय अधिकारी भारत में लैंगिक हिंसा से कैसे निपटते हैं?

भारत एक सक्षम देश है भारत ने हमेशा हर कदम पर अपने आप को हर फील्ड में साबित किया है। भारत अपने आंतरिक मामलों के लिए किसी और राष्ट्र की हस्तक्षेप नहीं पसंद करता है ऐसे में आइए जानते हैं आखिर कैसे भारत में पड़ता है ऐसे मामलों से वास्तव में। तो भारत लैंगिक हिंसा और कदाचार के मामलों से वास्तव में कैसे निपट रहा है?

"पटना में छेड़छाड़ के आरोपी व्यक्ति को स्थानीय पंचायत ने पांच उठक-बैठक लगाकर छोड़ दिया।"

"बिहार के नवादा जिले के कन्नौज गांव के एक व्यक्ति को स्थानीय पंचायत ने 5 साल की बच्ची से दुष्कर्म के आरोप में सजा दी है। अपने अपराधों का प्रायश्चित करने के लिए उसकी सजा पाँच उठक-बैठक थी।"

"दोषी बलात्कारी रिहा, फूल मालाओं से स्वागत।"

यहां किसी का नाम न लेते हुए भी, एक दर्शक के तौर पर अगर आप खबरों को फॉलो कर रहे हैं,  तो आप पहले से ही बता सकते हैं कि हेडलाइन्स किस केस से जुड़ी हैं। सरकार ने दोषियों के बरी होने को सही ठहराने के लिए फाइल नोटिंग जारी करने से इनकार कर दिया।  बलात्कार के दोषियों की रिहाई के बाद गुजरात में उनका फूलमालाओं से स्वागत किया गया। जब दिल्ली का बड़ा हत्याकांड सुर्खियां बटोर रहा था, तो सार्वजनिक परिवहन पर हर फोन स्क्रीन इसे अपने एकमात्र एजेंडे के रूप में फॉलो करती दिख रही थी उस रुचि को उठाते हुए, मीडिया ने इसी तरह के मामलों के कई उदाहरण सामने लाए। लेकिन सनसनीखेज दिल्ली मर्डर केस के सुर्खियों में आने से पहले यह रिपोर्टिंग कहां थी? और लैंगिक हिंसा के इस अमानवीय मामले के प्रति भारतीय कितने संवेदनशील हैं?

extremist इसे एक सांप्रदायिक मामले में बदलने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। conformists ने अपने विचारों को मजबूत करने के लिए पीड़ित को दोष देने की मांग की। तब भारत में Gender Violence का क्या हुआ?

हिंदुस्तान टाइम्स की समाचार रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़े बताते हैं कि बहुत से महिलाएं खुद को हिंसक और अपमानजनक रिश्तों से जोड़ लेती हैं। महिलाएं अपने जीवनसाथी के हाथों हिंसा को self-justification देने का दबाव महसूस करती हैं। महिलाओं को एक विशेष धर्म का पालन करने के लिए टारगेट किया जाता है। भारत में marginalized sections की महिलाओं को अपने जीवनसाथी के हाथों हिंसा का सामना करने की अधिक संभावना है। जब भारतीय अधिकारी इन सबसे कैसे निपट रहे थे?  इससे पहले कि आप सवाल करने की हिम्मत करें कि आपको अनुचित कमेंट्स के लिए उनकी अरुचि को ध्यान में रखना चाहिए। यह

आर्टिकल शिवांगी मुखर्जी के आर्टिकल से प्रेरित है
 

image widget

Read The Next Article