ओपिनियन

क्या आप भी माँ-बाप के प्रेशर में आकर शादी कर रहे हैं?

Published by
Hetal Jain

शादी एक ऐसा पड़ाव है जो हर इंसान की जिंदगी में आता है। इंसान शादी कुछ वजहों और थोड़ी एक्सपेक्टेशंस के साथ करता है। कोई शादी तब करता है जब उन्हें लगता है कि वे किसी को पसंद करते हैं, उन्हें कोई मिल गया है जिसके साथ वे अपनी पूरी जिंदगी बिता सकते हैं। कुछ लोग शादी इसलिए करते हैं क्योंकि वे अपनी जिंदगी अकेले नहीं बिताना चाहते। इसलिए वे या तो खुद या अपने पैरेंट्स से अपने लिए एक लाइफ पार्टनर खोजने को कहते हैं। पर क्या आप शादी करने की सबसे गलत वजह जानते हैं? माँ-बाप के प्रेशर में आकर शादी करना।

क्या शादी किसी के प्रेशर में आकर करनी चाहिए?

शादी लाइफ का एक इंपॉर्टेंट डिसीजन होता है। तो किसी से शादी करना आपकी खुद की चॉइस होनी चाहिए। अपने मां-बाप के प्रेशर में आकर शादी का डिसीजन लेना गलत है। हमारे देश में आज भी ऐसे कई लड़के और लड़कियां हैं जो सिर्फ़ इसलिए शादी के लिए हां कर देते हैं क्योंकि उनके माता-पिता उन पर दबाव डाल रहे हैं। क्या शादी सिर्फ़ एक काम भर है जिसे निपटाने की आपको इतनी जल्दी पड़ी है?

क्या शादी एक काम या ज़िम्मेदारी है?

हमारे देश में शादी एक इवेंट की तरह देखी जाती है जिसमें कम से कम 2500 से ज्यादा लोग हो, 4-5 डिफरेंट तरह के फंक्शंस हों जो कम से कम 3-4 दिनों तक चले, खाने के बहुत सारे काउंटर हो और पता नहीं क्या-क्या। इन सब अरेंजमेंट्स की सारी जिम्मेदारी लड़का लड़की के बजाय उनके माता-पिता पर होती है और शायद इसी कारण वे शादी को एक काम, एक जिम्मेदारी की तरह समझते हैं जिसे वे जल्द से जल्द पूरा कर देना चाहते हैं।

क्या शादी की वाकई में कोई सही उम्र है?

हमारे यहां तो एक ही रूल है कि जब तक माता-पिता को ऐसा लग रहा है कि वें सही सलामत हैं, उनके पास जॉब है, कमाई है, वे लोन ले सकते हैं या फिर सब कुछ अफोर्ड कर सकते हैं तब उनकी इच्छा है कि उनके बच्चों को वे सेटल कर दें। इसलिए वे अक्सर बच्चों को प्रेशराइज करते हैं जल्दी शादी करने के लिए।

शादी करने का सही वक्त क्या है?

हमें यह सिखाया जाता है कि हर चीज को करने का एक सही वक्त होता है। यही बात शादी करने और बच्चे करने पर भी लागू होती है। लेकिन क्या माँ-बाप ने कभी यह सोचा है कि अपनी इस रिस्पांसिबिलिटी या सो – कोल्ड मैरिज इवेंट को पूरा करने में वें कहीं अपने बच्चों को लाइफ लोंग कॉम्प्लिकेशंस तो नहीं दे रहे? हमें शादी तभी करनी चाहिए जब हम उसके लिए पूरी तरीके से तैयार हो ना कि माँ-बाप के प्रेशर में आकर।

Recent Posts

महिलाओं के राइट्स: क्यों सोसाइटी सिर्फ महिलाओं की ड्यूटीज से ही रहती है ऑब्सेस्ड?

आज भी सोसाइटी में कई लोगों का ये मानना है कि महिलाओं की सबसे पहली…

3 hours ago

रायसा लील: 13 साल में ओलिंपिक पदक जीतने के बाद सामने आया ये पुराना वायरल वीडियो

टोक्यो ओलंपिक्स में स्केटबोर्डिंग में इस साल ब्राज़ील की रायसा लील ने रजत पदक जीता…

4 hours ago

बंगाल की महिलाओं से जबरजस्ती पोर्न शूट कराया गया, मामला राज कुंद्रा से जुड़ा है

इन में से एक महिला ने कहा कि यह वीडियोस कई वेबसाइट पर पोस्ट की…

5 hours ago

क्यों टूटती हुई शादियों को नहीं मिलती है सोसाइटी की एक्सेप्टेन्स?

हमारे देश में सदियों से शादी को एक "पवित्र बंधन" माना गया है जिसका हर…

5 hours ago

हैप्पी बर्थडे कुब्रा सेठ, जानिए एक्ट्रेस कुब्रा सेठ के बारे में 5 बातें

कुब्रा सेठ इनके कक्कू के रोल के लिए फेमस हैं जो कि सेक्रेड गेम्स में…

6 hours ago

मुंबई: डॉक्टर ने ली थी टीके की दोनों खुराक फिर भी दो बार कोविड रिपोर्ट आई पॉजिटिव

मुंबई के एक 26 वर्षीय डॉक्टर की 13 महीनों में तीन बार पॉजिटिव रिपोर्ट आई…

6 hours ago

This website uses cookies.