Sex & Sexuality: आखिर क्यों महिला जो Sexual Desire रखती है वह बुरी है?

Sex & Sexuality: आखिर क्यों महिला जो Sexual Desire रखती है वह बुरी है? Sex & Sexuality: आखिर क्यों महिला जो Sexual Desire रखती है वह बुरी है?

Vaishali Garg

21 Jun 2022

हमारी विविध सामाजिक और सांस्कृतिक मान्यताओं के बावजूद, एक चीज जो हम दुनिया भर की महिलाओं को बांधती है, वह है हमारी Sexual desire का दमन। जब सेक्स की बात आती है तो समाज जो दोहरा मापदंड रखता है, उनका मतलब है कि कुछ सेक्सुअल व्यवहार महिलाओं के लिए अनुपयुक्त माने जाते हैं, जबकि पुरुषों के मामले में एक सुविधाजनक क्योंकि पुरुषों की जब बात आती है तब तो हमारी सोसाइटी की आँख बंद हो जाती है।

हमारे समाज में सामाजिक मानदंडों का संरक्षक patriarchy है जो खुले तौर पर पुरुषों का पक्ष लेते हैं। नैतिक आचार संहिता इस प्रकार से तैयार की गई है कि यह सो कॉल्ड कमजोर सेक्स के व्यवहार पर नियंत्रण रखते हुए सभी पहलुओं में अपने पसंदीदा लिंग को लाभ पहुंचाते हैं।

महिला की सेक्सुअल इच्छाओं का दमन करके, patriarchy महिलाओं को सेक्स संबंध बनाने की इच्छा से दूर रखते हैं बस उनसे प्रजनन पहलू पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद रखते हैं । शायद Patriarchy नहीं चाहते कि महिलाएं autonomous बनें जो अपने निर्णय खुद ले सकें और अपनी फुलफिलमेंट की तलाश कर सकें। 

अपनी पुस्तक द क्रिएशन ऑफ पैट्रिआर्की में गेर्डा लर्नर लिखती हैं, "सांस्कृतिक विकास में एक महत्वपूर्ण कदम महिलाओं का कमोडिटीकरण था, जिसके अनुसार "महिलाएं स्वयं एक संसाधन बन गईं" जिनकी सेक्स इच्छाओं को नियंत्रित किया जाता था, आदान-प्रदान किया जाता था, अन्यथा पुरुष लाभ के लिए उपयोग किया जाता था।" उनके शब्द 36 साल पहले लिखे गए थे, लेकिन वे जो सच्चाई दिखाती हैं, वह बहुत पुरानी है।

हम पुरुषों और महिलाओं की सेक्शुअल डिजायर को अलग-अलग क्यों देखते हैं?

Patriarchy महिलाओं की सेक्शुअल डिजायर को नियंत्रित करना चाहते है, इसका एक कारण यह है कि वे अपने पुरुष साथी की अक्षमता को दिखाना नहीं चाहते हैं। क्योंकि यादि ऐसा हो तो महिलाओं को दूसरे को चुनने की आवश्यकता होती है। एक ऐसे समाज में जो अभी भी अरेंज मैरिज की वकालत करता है, महिलाओं को सेक्स स्वतंत्रता की अनुमति देने के परिणाम कुछ ऐसे हैं जिनसे निपटने के लिए patriarchy तैयार नहीं है।

महिलाओं के पास शरीर है, लेकिन पुरुष इसके मालिक हैं, लेकिन ऐसा क्यों?

उदाहरण के लिए, एक अनुभवहीन महिला को बिस्तर में एक पुरुष की अक्षमता बताने की संभावना कम होगी, हालांकि, एक अनुभवी महिला को उसकी अपर्याप्तता और अयोग्यता का पता तुरंत चल जाएगा। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि महिलाओं के पास शरीर होता है, लेकिन पुरुष इसके मालिक होते हैं। स्कूलों में सेक्स एजुकेशन का अभाव और फिल्मों आदि में सेक्शुअल डिजायर का सुस्त प्रतिनिधित्व बडिंग यूथ को काफी नुकसान पहुंचाता है। महिलाओं की सेक्शुअल डिजायर को नकारात्मक रूप से देखा जाता है। और जो महिलाएं इसके बारे में बोलती हैं उनको एक बेड इनफ्लुएंसर कहा जाता है हमारे समाज में।

लिंग के आधार पर सेक्शुअल डिजायर को अस्वीकार करने और मान्य करने वाले दोहरे मानकों से कैसे निपटा जाए?  हम सभी के एक सेक्स-पॉजिटिव समाज की ओर कैसे कदम बढ़ा सकते हैं? हम महिला की सेक्शुअल डिजायर की अभिव्यक्ति के लिए स्वीकृति को कैसे प्रोत्साहित कर सकते हैं?

एक समाज के रूप में हमें महिलाओं के वस्तुकरण को जड़ से खत्म करना होगा।  महिलाओं में सेक्शुअल डिजायर स्वाभाविक रूप से होती हैं और इस प्रकार उनकी अभिव्यक्ति एक मूर्खता नहीं बल्कि एक आवश्यकता है। वे समाज के patriarchy के लिए केवल आनंद की वस्तु नहीं हैं और हमें इन्हें ये बताना होगा की महिलाओं की सेक्सुअल डिजायर को नियंत्रित ना करें। 

अनुशंसित लेख