कहते हैं कि शादी एक खूबसूरत अहसास होता है। यह एक ऐसा पड़ाव है जो हर व्यक्ति के जीवन में आता है। जो उसका जीवन जीने और जीवन को देखने, दोनों का नज़रिया ही बदल देता है। शादी करने से सिर्फ़ आपको एक जीवनसाथी ही नहीं मिलता परंतु उसके रूप में आपको एक नया दोस्त, एक सहारा भी मिलता है। आपका जीवन-यापन करना जैसे आसान सा हो जाता है। तो क्या शादी करने का कोई सही वक्त है?

राइट माइंडसेट के साथ शादी करें

शादी हमारी लाइफ का एक बहुत ही इंपोर्टेंट डिसीजन होता है। इसलिए यह ज़रूरी है कि हम एक सही माइंडसेट के साथ शादी करें। हम तभी शादी करें जब हम अपनी लाइफ किसी और के साथ बिताने के लिए पूरी तरीके से तैयार हों, प्रिपेयर्ड हों। अगर ऐसा नहीं हो तो इसका भुगतान दोनों पार्टनर्स के साथ-साथ उनके परिवारों को भी करना पड़ता है। शादी का सही वक्त

शादी एक लाइफ लॉन्ग कमिटमेंट है

शादी कोई एक दिन की बात नहीं है। यह एक लाइफ लॉन्ग कमिटमेंट है। शादी करने पर एक व्यक्ति का जीवन पूरी तरीके से बदल जाता है। उसकी जिम्मेदारियां, खुद को और दूसरों को लेकर बढ़ जाती है। ज़रूरी नहीं है की कोई व्यक्ति जो अब तक अपने माँ-बाप के भरोसे पल रहा हो वो अपने जीवन में इतने सारे बदलावों के लिए रेडी हो। इसलिए यह ज़रूरी है कि हम तभी शादी करें जब हम इस कमिटमेंट को करने के लिए तैयार हों।

शादी करना एक पर्सनल चॉइस होनी चाहिए

शादी करना एक व्यक्ति के खुद की चॉइस होनी चाहिए ना की किसी के प्रेशर में आकर। आपने कभी सोचा है कि अगर आप अपने मां-बाप के प्रेशर में आकर शादी करें और फिर शादी के बाद अगर आप अपने पार्टनर की तरफ डेडिकेटेड फील नहीं करते, उनकी तरफ कोई अफेक्शन फील नहीं करते, या आप उनके साथ एक लॉन्ग टर्म फ्यूचर नहीं देखते। इस तरह की प्रॉब्लम में फसने से अच्छा है कि आप तभी शादी करें जब आप उसके लिए रेडी हों। शादी का सही वक्त

शादी के साथ जिम्मेदारियां भी

हर एक व्यक्ति के पास जैसे शादी करने की वजह होती है वैसे ही शादी न करने की भी वजह होती है। शादी करने के बाद एक व्यक्ति की उसके काम, परिवार और पर्सनल लाइफ सबको लेकर जिम्मेदारियां बढ़ जाती है। तो हमें शादी तब करनी चाहिए जब हम उसके साथ आने वाली जिम्मेदारियों और सारे कंसीक्वेंसेस के लिए तैयार हों।

Email us at connect@shethepeople.tv