Empowering Mothers: अपने माँ को सशक्त बनाने के कुछ टिप्स

Empowering Mothers: अपने माँ को सशक्त बनाने के कुछ टिप्स Empowering Mothers: अपने माँ को सशक्त बनाने के कुछ टिप्स

Monika Pundir

16 Jun 2022

सबसे बुरे अनुभवों में से एक जो एक बच्चे को झेलना पड़ सकता है, वह है परिवार या समाज के हाथों अपनी माँ का ऑपरेशन। चाहे वह घरेलू हिंसा, वर्बल एब्यूज, रेस्ट्रिक्शन्स या अपने सपनों का पीछा करने के निषेध के माध्यम से हो, हमारी माताओं को कई तरह से ऑपरेस किया जाता है।

ऑपरेशन न केवल इसका सामना करने वाली महिलाओं के जीवन को, बल्कि उनके बच्चों के जीवन को तबाह कर देता है। यह उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित करता है। इन घावों को भरने के लिए एक एडल्ट बच्चा जो सबसे अच्छी चीज कर सकता है, वह है खुद को और अपनी माताओं को सशक्त बनाना। माताओं को न केवल अपनी बेटियों को फेमिनिस्ट परवरिश देनी चाहिए बल्कि बेटियों को भी अपनी मां को नारीवादी बनाना चाहिए। सिर्फ बेटी ही क्यों? हर बच्चे को फेमिनिज्म से जुड़ा होना चाहिए, क्यूंकि फेमिनिज्म का अर्थ समानता है।

यहां 5 तरीके हैं जिनसे आप अपनी माताओं को सशक्त बना सकते हैं -

1.घर के काम बाटे 

बरसों से माताएं पूरे परिवार के लिए खुद को रसोई में ही सीमित कर लेती हैं। वे रसोई से बाहर केवल सफाई और धुलाई जैसे अन्य घरेलू काम करने के लिए निकलते हैं। शायद ही कभी माताओं को आराम करने और अपने लिए कुछ करने का समय मिलता है। इसलिए बेटियों के रूप में आप भार बांटकर घर के काम का बोझ कम कर सकती हैं। 

आपको घर के पुरुषों को भी काम का बोझ बांटने के लिए प्रेरित करना चाहिए। अपनी माताओं को यह कल्पना करने के लिए प्रोत्साहित करें कि घर के बाहर भी एक जीवन है।

2. अपनी माँ को परिवार के साथ खाने के लिए कहें

अक्सर भारतीय घरों में, महिलाओं को परिवार के अन्य सदस्यों के साथ खाने की मेज पर बैठने की अनुमति नहीं होती है। ज़्यादहतर सयुंक्त परिवारों में औरतों को अपने पति और बच्चों के खाने की प्रतीक्षा करनी पड़ती है। आखिरी रोटी, ज्यादातर कच्ची या ज्यादा पकी हुई, माताओं के हिस्से में छोड़ दी जाती है। लेकिन ये बदलना होगा। 

प्रिय बच्चे, खाने की मेज पर अपनी माताओं के लिए जगह बनाएं और परिवार के साथ अच्छा खाने में उनकी मदद करो। ज्यादातर मामलों में, माताएं अपनी कंडीशनिंग के कारण ऐसा करने से हिचकती हैं। इस बदलाव को आगे बढ़ाना आपका कर्तव्य है।

3. अन्याय को कॉलआउट करने के लिए अपनी माँ को प्रोत्साहित करें

हमने अपनी माताओं को अपने वैवाहिक घरों में अन्याय सहते देखा है। वे अपने बच्चों की खातिर जवाब देने या झगड़ा करने से बचने का कोशिश करती हैं। वे नहीं चाहते कि उनके बच्चे अपने पिता के नाम के बिना बड़े हों। लेकिन बच्चों को अपनी माताओं को आवाज़ उठाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, भले ही अपराधी कोई भी हो। 

उनका समर्थन करें और उन्हें यह एहसास कराएं कि उनका व्यक्तित्व और स्वाभिमान मायने रखता है। उसे अपने बच्चों के लिए एक रोल मॉडल बनना है, इसलिए उसे किसी भी तरह के भेदभाव और अन्याय का विरोध करना होगा। 

4. उसे अपने पैसे का कंट्रोल लेना चाहिए

परिवार चाहे कितना भी अमीर हो, महिलाओं से हमेशा पैसे खर्च करने से पहले अनुमति लेने की अपेक्षा की जाती है। यह माना जाता है कि महिलाएं फिनांशल निर्णय नहीं ले सकती हैं। अपनी माताओं को यह समझने में मदद करें कि उन्हें फिनांशल निर्णय लेने का अधिकार है। परिवार के पैसे पर उनका समान अधिकार है और इसलिए यह तय करने का समान अधिकार है कि इसका उपयोग कैसे किया जाना चाहिए। वे परिवार का हिस्सा हैं, बाहरी व्यक्ति नहीं।

5. अपनी माताओं को अपना मत (ओपिनियन)  रखने में प्रोत्साहन करें 

एक माँ की राय तभी मायने रखती है जब वे रसोई के बारे में हों। अन्य मामलों में राय को खारिज कर दिया जाता है क्योंकि यह माना जाता है कि माताएं जानकार या पर्याप्त अनुभवी नहीं हैं। यह आपका कर्तव्य है कि आप अपनी माताओं को अपने मन की बात कहने के लिए प्रोत्साहित करें। किताबें और समाचार पढ़ने और राय तैयार करने के लिए समय खोजने में उनकी मदद करें। उन्हें बिना किसी झिझक के पुरुषों के बीच बोलने के लिए प्रोत्साहित करें और सहमत और असहमत होने के अपने अधिकारों के साथ खड़े हों।

अनुशंसित लेख