Advertisment

हमारे समाज में Body Shaming इतनी आम क्यों है?

बॉडी शेमिंग एक ऐसा मुद्दा है जो हमारे समाज में आम है और लोगों को अहसास भी नही होता है कि वह जो कह रहे हैं दूसरे के साथ वह बॉडी शेमिंग है और यह नकारात्मकता पैदा करता है। आइये जानते हैं कि आखिर हमारे समाज में बॉडी शेमिंग इतनी आम क्यों है?

author-image
Priya Singh
New Update
How To deal with Body Shaming

Why Body Shaming Is So Common In Our Society: बॉडी शेमिंग एक ऐसा मुद्दा है जो एकदम आम है हमारे समाज में और लोगों को अहसास भी नही होता है कि वह जो कह रहे हैं या कर रहे हैं दूसरे के साथ वह बॉडी शेमिंग है और यह नकारात्मकता पैदा करता है। अक्सर हम सभी सुनते हैं कि अरे इसको देखो कितनी मोटी है सारा खाना यही खा जाती है, अरे उसको देखो वह कितनी पतली है लगता है घर वाले खाना ही नही देते हैं, अरे उसको देखो कितना पेट निकला है फ़िटनेस का जरा भी ख्याल नही है। अरे वह देखो चेहरे पर स्किन कम पिम्पल्स ज्यादा हैं। बिलकुल भी साफ-सफाई का ख्याल ही नही है और ऐसी अनेकों बातें लोग बोल जाते हैं और उन्हें यह बिलकुल आम लगत है और हंसी में ही निकल जाता है लेकिन वे ये कभी नही सोचते कि इसका सामने वाले के बॉडी और माइंड में गलत प्रभाव पड़ता है। लोगों को एक परफेक्ट बॉडी शेप साइज़ और कलर में इनता ज्यादा इंटरेस्ट बन चुका है कि वे कब किसे बॉडी शेमिंग का शिकार बना दें उन्हें खुद भी नही पता होता। आइये जानते हैं कि आखिर हमारे समाज में बॉडी शेमिंग इतनी आम क्यों है?

Advertisment

 हमारे समाज में बॉडी शेमिंग इतनी आम क्यों है?

1. अपेक्षाएँ

बॉडी इमेज के आसपास सांस्कृतिक मानदंड व्यापक रूप से अलग होते हैं, लेकिन कई संस्कृतियों में, सुंदरता के विशिष्ट आदर्श होते हैं जो गहराई से बंधे होते हैं। ये अपेक्षाएँ अवास्तविक और बहिष्करणीय हो सकती हैं, जिससे व्यक्तियों को उनके अनुरूप न होने पर अपने शरीर पर शर्मिंदगी महसूस कराई जा सकती है।

Advertisment

2. शिक्षा का अभाव

बहुत से लोग बॉडी शेमिंग के हानिकारक प्रभावों के बारे में नहीं जानते हैं या शरीर के प्रकारों की विविधता को नहीं समझते हैं। शरीर की सकारात्मकता और स्वीकृति पर शिक्षा के बिना, व्यक्ति अनजाने में हानिकारक दृष्टिकोण और व्यवहार को कायम रखते हैं।

3. असुरक्षा

Advertisment

जो लोग अपने शरीर के बारे में असुरक्षित महसूस करते हैं वे बॉडी शेमिंग के माध्यम से अपनी असुरक्षा दूसरों पर डाल सकते हैं। किसी और की उपस्थिति की आलोचना करना व्यक्तियों के लिए अपनी स्वयं की कथित खामियों से ध्यान हटाने का एक तरीका हो सकता है।

4. पावर डायनेमिक्स

बॉडी शेमिंग का उपयोग दूसरों पर नियंत्रण या प्रभुत्व के रूप में किया जा सकता है। किसी की शक्ल-सूरत की आलोचना करके, व्यक्ति जानबूझकर या अनजाने में, उस पर शक्ति या श्रेष्ठता का दावा करना चाह सकते हैं।

Advertisment

5. स्वास्थ्य के बारे में गलत धारणाएँ

एक गलत धारणा है कि शरीर के आकार या आकृति का स्वास्थ्य से सीधा संबंध है। यह मोटे लोगों को हीन महसूस कराकर इस धारणा को जन्म दे सकता है कि फिटनेस स्वस्थता के बराबर है। स्वस्थ रहता एक बहुत ही बेहतर चीज है लेकिन केवल दिखावट ही किसी की भलाई का निर्धारण नहीं करती है।

बॉडी शेमिंग किसी भी प्रकार से सही नही है अगर कोई मोटा है इसका मतलब यह बिलकुल नही है कि वह हेल्दी नही है। या फिर कोई पतला है तो भी वह हेल्दी न हो ऐसा नही कहा जा सकता है। इसलिए शरीर की सकारात्मकता को बढ़ावा देना, सामाजिक मानदंडों को चुनौती देना, सहानुभूति और समझ को बढ़ावा देना और मीडिया और विज्ञापन में समावेशी प्रतिनिधित्व की वकालत करना शामिल होना चाहिए। बॉडी शेमिंग के हानिकारक प्रभाव को पहचानकर और अधिक स्वीकार्य और दयालु समाज बनाने की दिशा में काम करना आवश्यक है।

body shaming बॉडी शेमिंग Society
Advertisment