Symptoms Of Anxiety In Kids: बच्चों में एंग्जायटी के कारण और चिन्ह

Symptoms Of Anxiety In Kids: बच्चों में एंग्जायटी के कारण और चिन्ह Symptoms Of Anxiety In Kids: बच्चों में एंग्जायटी के कारण और चिन्ह

Monika Pundir

27 Jun 2022

एंग्जायटी डिसऑर्डर बच्चे और टीनएजर्स में सबसे आम मेन्टल हेल्थ समस्या है​​। एक बच्चे के लिए ऐसी समस्या से निपटना बहुत ही कठिन हो सकता है​​। साथ ही, बच्चों में ऐसी समस्या पहचानने की भी काबिलियत या मैच्योरिटी नहीं होती है​​। इस ब्लॉग में पढ़िए बच्चो में ऑक्सीटी की कुछ संकेत जिन्हें माता पिता को ध्यान में रखना चाहिए​​। साथ ही, बच्चों में एंग्जायटी के संभव कारण, जिनसे हो सके तो बच्चों को बचाया जाना चाहिए​​।

बच्चों में एंग्जायटी के संकेत:

  • किसी चीज़ में ध्यान न दे पाना 
  • स्कूल में ग्रेड गिरना 
  • खाने के पैटर्न में बदलाव​​। अक्सर एंग्जायटी से पीड़ित बच्चे खाने की संख्या कम कर देते हैं​​।
  • पेट और पाचन से संबंधित समस्या बार बार होना​​।
  • छोटी छोटी बातों पर बहुत गुस्सा होना या घबरा जाना​​।
  • पहले से अधिक रोना​​। जैसे बच्चे बड़े होते हैं, वे रोना कम कर देते हैं, पर अगर इसका विपरीत हो, यह चिंता की बात है​​।

बच्चों में एंग्जायटी के कारण:

1.  बार बार स्कूल, घर या शहर बदलना​​

किसी भी वजह से बार बार स्कूल, घर या शहर बदलने का मतलब है बच्चे को उसके कम्फर्ट जोन से बार बार निकाल देना​​। बच्चे के दोस्त, जान पहचान वाले लोग और एरिया, सब छूट जाते हैं​​। यह उनके लिए स्ट्रेसफुल हो सकता है​​।

2. बच्चों के सामने माता पिता की लड़ाई​​

 बच्चो के सामने किसी की भी लड़ाई उन्हें डरा सकता है​​। अगर यह रेगुलर हो जाए तो यह एंग्जायटी का कारण हो सकता है​​। वे ऐसा भी सोच सकते हैं की झगड़ा उनके कारण हो रहा है​​। इसलिए माता पिता को कभी भी अपने बच्चों के सामने झगड़ा नहीं करना चाहिए​​। विवाद होना किसी भी परिवार में नॉर्मल है, पर अगर आप बात को बढ़ता देख रहे हैं तो अलग कमरे में चले जाईये​​।

3. किसी करीबी की मृत्यु 

करीबी रिश्तेदार या दोस्त के मृत्यु के कारण बच्चे को एंग्जायटी हो सकती है​​। मृत्यु ऐसी चीज़ है जो बड़ों को भी हिला देती है,  तो बच्चों पर असर तो पड़ेगी ही​​।

4. अब्यूस या बुलइंग 

अगर आपके बच्चे को किसी प्रकार की अब्यूस या बुलीइंग का सामना करना पड़े, यह उसपर एंग्जायटी के रूप में निशान छोड़ सकता है​​। आपको अपने बच्चे में अब्यूस या बुलीइंग के चिन्ह देखने के लिए सतर्क रहना होगा​​। 

5. गंभीर बीमारी या आघात 

अगर आपके बच्चे को गंभीर चोट पहुँचती है, या उसे कोई बीमारी का सामना करना पड़ा, उसे एंग्जायटी हो सकती है​​। एक्सीडेंट उन्हें उस चीज़ का डर पैदा क्र सकते हैं, जिससे उनका एक्सीडेंट हुआ​​।

आप क्या कर सकते हैं?

अगर आप अपने बच्चे में एंग्जायटी के चिन्ह देख रहे हैं, तो सबसे ज़रूरी चीज़ है उनसे बात करना​​। उनसे बात कर के आपको पता करना होगा की वह क्या चीज़ है जो उन्हें स्ट्रेस कर रही हैं​​। आपको समझना होगा की जो आपके लिए छोटी बात है, बच्चे के लिए स्ट्रेस की बात हो सकती है​​। आपको उनके साथ समय बिताना होगा और उन समस्याओं के समाधान का प्रयास करना होगा​​। 

कोशिश के बाद भी अगर आप उनके एंग्जायटी को कम नहीं कर पा रहे, आपको साइकोलॉजिस्ट या चाइल्ड थेरेपिस्ट की मदद लेनी पड़ेगी​​। इसमें कोई स्टिग्मा या दुःख की बात नहीं है​​। हर बच्चा अलग होता है​​, और उसके ज़रूरतें अलग होती हैं​​। उनके ज़रूरत को पूरा करने में कोई शर्म की बात नहीं​​।

अनुशंसित लेख