Advertisment

जानिए बेबाक अंदाज वाली Anuja Chauhan के जीवन और उपलब्धियों के बारे में

कमाल की लेखिका और पटकथा लेखक अनुजा चाव्हान ने शो "द रूल ब्रेकर" में अपने जीवन के अनुभवों को साझा किया। जानिए उनके लेखन की बेबाकी और चुनौतियों से जूझने के प्रेरक सफर के बारे में।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Anuja Chauhan

How did Anuja Chauhan become a famous author? क्या आप उन लेखकों को जानते हैं जो अपनी कहानियों के माध्यम से समाज में व्याप्त जटिलताओं को बेबाकी से उजागर करते हैं? वही लेखक जो पाठकों को न केवल मनोरंजन देते हैं बल्कि उन्हें विचार करने और सवाल उठाने के लिए भी प्रेरित करते हैं। ऐसी ही एक बेधड़क लेखिका हैं अनुजा चाव्हान।

Advertisment

चौहान को सिर्फ एक लेखिका कहना कम होगा। वह एक सफल विज्ञापनकर्मी, पटकथा लेखक और अपने आप में एक ब्रांड हैं। उन्होंने समकालीन साहित्य जगत में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। उनकी कहानियां न केवल रोमांचक और मनोरंजक होती हैं बल्कि पाठकों को अपने पात्रों के साथ जीने का एहसास भी कराती हैं। अनुजा  ने "द ज़ोया फैक्टर" और "दो बहुतेरी ठाकुर गर्ल्स" जैसी कई लोकप्रिय फिल्मों और शो के लिए पटकथा लेखन किया है।

हाल ही अनुजा ने हाल ही में शैली चोपड़ा के शो "The Rulebreaker Show" में शिरकत की। इस कार्यक्रम में उन्होंने अपने जीवन और अनुभवों के बारे में खुलकर बातचीत की। 

जानिए बेबाक अंदाज वाली Anuja Chauhan के जीवन और उपलब्धियों के बारे में

Advertisment

अनुजा चौहान के माता-पिता ने उन्हें सफल बनाने में कैसे मदद की

अपनी बेबाक शैली में अनुजा ने बताया, "मैंने यात्रा के दौरान कई बार छेड़छाड़ का सामना किया है। लेकिन अच्छी बात यह रही कि मेरे माता-पिता ने मुझे कभी भी डीटीसी बसों में यात्रा करना या ऐसे अनुभवों के कारण अन्य चीजें करना बंद करने के लिए नहीं कहा।" 

"मैं हमेशा अपने अनुभवों के बारे में खुलकर बात करती थी। जब भी ऐसी घटनाएं होती थीं, तो उन्होंने कभी नहीं कहा, 'यह करना बंद करो' या 'वह करना बंद करो।' इसके बजाय, उनकी सलाह सरल लेकिन सशक्त थी: 'सुरक्षित रहो और बेधड़क रहो।'"

Advertisment

अक्सर माता-पिता अपने बच्चों के साथ किसी भी बुरी घटना के बाद डर से प्रतिक्रिया देते हैं। वे उन्हें अपने पसंद के काम या जरूरतों को पूरा करना बंद करने की चेतावनी देते हैं, सिर्फ इसलिए कि दुनिया हमेशा सुरक्षित नहीं है। लेकिन, अनुजा चाव्हान की तरह माता-पिता भी हैं, जिन्होंने उन्हें "बेदधड़क" बनने और अपने सपनों को पूरा करने के लिए प्रोत्साहित किया। इस सशक्त समर्थन ने उन्हें न केवल सफलता हासिल करने में मदद की, बल्कि यह अन्य माता-पिताओं के लिए भी एक प्रेरणा है कि वे अपने बच्चों को चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रोत्साहित करें, न कि डर से पीछे हटने दें।

लेखन में झलकती अनुजा चाव्हान की बेधड़क शैली

अनुजा की बेधड़क शैली उनके लेखन में भी परिलक्षित होती है, जहां वे जटिल विषयों को संवेदनशीलता के साथ पेश करती हैं। उनकी रचनाएँ "द हाउस दैट बीजे बिल्ट" (2015), "बाज़" (2017), "क्लब यू टू डेथ" (2021) और "द फास्ट एंड द डेड" सामाजिक मानदंडों, व्यक्तिगत संघर्षों और अदम्य मानवीय spirit को दर्शाती हैं।

Advertisment

अनुजा की अविश्वसनीय यात्रा, जीवन के प्रति उनके बेधड़क दृष्टिकोण और पाठकों को मंत्रमुग्ध करने वाली उनकी कहानियों के बारे में अधिक जानने के लिए उन्हें शाइली चोपड़ा के साथ "द रूल ब्रेकर" शो पर बातचीत करते हुए देखें।

The Rulebreaker Show Anuja Chauhan Rulebreaker Show
Advertisment