Advertisment

मां बनने के बाद महिलाओं के सामने आने वाले 5 चैलेंज

हर मां अपने बच्चे की देख-रेख और उसकी परवरिश के लिए हर एक कोशिश करती है और साथ मे संघर्ष भी। मां बनना किसी भी महिला के लिए ज़िंदगी की सबसे बड़ी खुशी होती है। साथ ही मां बनते ही हर महिला के ऊपर एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी भी आ जाती है।

author-image
Pushpa Chauhan
New Update
New mom tips 1

Image credit - image file

5 Challenges That Women Face After Becoming Mothers: हर मां अपने बच्चे की देख-रेख और उसकी परवरिश के लिए हर एक कोशिश करती है और साथ मे संघर्ष भी। मां बनना किसी भी महिला के लिए ज़िंदगी की सबसे बड़ी खुशी होती है। साथ ही मां बनते ही हर महिला के ऊपर एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी भी आ जाती है। जैसे-जैसे समय बीतता है वैसे-वैसे मां और बच्चे की बॉन्डिंग भी मजबूत होती है, दोनों की ज़िंदगी, बच्चा जहां दुनिया को समझने के लिए प्रयास करता है वहीं मां बच्चे का सही तरीके से पालन-पोषण करने और उसे एक स्वस्थ और अच्छा नागरिक बनाने के प्रयास करती है। बच्चे के जन्म के बाद हर महिला को ज़िंदगी में नये अनुभव होते हैं। इनमें से कुछ अनुभव अच्छे और कुछ कम अच्छे होते हैं। वहीं, न्यू मदर्स के सामने कई चुनौतियां भी आती हैं। अनुभव की कमी और मन में अनजाना डर, उलझन और सही सपोर्ट ना मिलने के कारण ये चुनौतियां और भी गम्भीर महसूस करती हैं। इसी के साथ उन्हें कुछ अच्छे लम्हे मिलते हैं। 

Advertisment

मां बनने के बाद महिलाओं के सामने आने वाले 5 चैलेंज

1. शारीरिक पुनर्प्राप्ति और स्वास्थ्य

गर्भावस्था और डिलीवरी के बाद, महिलाओं को अपने शरीर को पुनर्प्राप्त करने में समय लगता है। इसमें सामान्य तौर पर शरीर की ताकत और ऊर्जा वापस पाना शामिल है। डिलीवरी के दौरान आई चोटें या सर्जरी (जैसे सी-सेक्शन) के बाद ठीक होने में समय लग सकता है। हार्मोनल परिवर्तन के कारण शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव आ सकता है। ऐसे में महिलाओं को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता है। 

Advertisment

2. नींद की कमी

नवजात शिशु की देखभाल में नींद की कमी एक बड़ी चुनौती होती है। शिशु के रात में जागने और बार-बार दूध पिलाने के कारण माँ की नींद पूरी नहीं हो पाती। नींद की कमी से थकान, चिड़चिड़ापन और यहां तक कि अवसाद भी हो सकता है। जिसके कारण महिला अपनी नींद पूरी नहीं कर पाती हैं।

3. समय प्रबंधन

Advertisment

शिशु की देखभाल, घरेलू कामकाज और अपनी व्यक्तिगत जरूरतों को संतुलित करना मुश्किल हो सकता है। बहुत सी महिलाएं मातृत्व के साथ-साथ कामकाजी जिम्मेदारियों को भी निभाती हैं, जिससे समय का सही प्रबंधन आवश्यक हो जाता है। वह अपने आप को समय नहीं दे पाती है, यही सब कामो में उनका समय बीत जाता है।

4. भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य

प्रसवोत्तर अवसाद (Postpartum Depression) एक गंभीर समस्या है, जिससे कई महिलाएं जूझती हैं।भावनात्मक तनाव, चिंता और अकेलापन महसूस करना आम बात है, खासकर जब परिवार और दोस्तों से पर्याप्त समर्थन नहीं मिलता। वह अपने आप को अकेला महसूस करने लगती है।

5. सामाजिक और पारिवारिक दबाव

समाज और परिवार से उम्मीदें और दबाव भी एक बड़ी चुनौती होती है। महिलाओं से अक्सर अपेक्षा की जाती है कि वे परफेक्ट माँ बनें और सभी जिम्मेदारियों को बिना किसी शिकायत के निभाएं। बच्चों की परवरिश में सही फैसले लेने और बच्चों के भविष्य के बारे में चिंतित रहना भी एक मानसिक बोझ होता है।

इन सभी चुनौतियों से निपटने के लिए परिवार और दोस्तों का समर्थन, स्वस्थ जीवनशैली और यदि आवश्यक हो तो प्रोफेशनल सहायता लेना महत्वपूर्ण होता है। इससे उन्हें सहायता मिलती है।

मां बनने के बाद 5 चैलेंज
Advertisment