Conjunctivitis: मौसम बदलने से कंजक्टिवाइटिस के मामले बढ़े

Apurva Dubey
17 Oct 2022
Conjunctivitis: मौसम बदलने से कंजक्टिवाइटिस के मामले बढ़े

बारिश के लंबे समय तक चलने के कारण कंजक्टिवाइटिस जैसे आई इन्फेक्शन बढ़ रहे हैं। कंजक्टिवाइटिस को गुलाबी आंखें भी कहा जाता है, लक्षणों में लाल, खुजली और पानी वाली आंखें शामिल हैं। यह सलाह दी जाती है कि ओवर द काउंटर ड्रॉप्स के साथ खुद से इलाज न करें।

Conjunctivitis: मौसम बदलने से कंजक्टिवाइटिस के मामले बढ़े

विशेषज्ञों का कहना है कि कंजंक्टिवाइटिस के मरीजों की संख्या में अधिक वृद्धि हुई है। आई टेस्ट के सबसे आम लक्षण आंखों के आसपास लालिमा, पानी, खुजली, चुभन, दर्द और सूजन हैं। कंजंक्टिवाइटिस के कई रोगी कुछ वायरल सर्दी, खांसी और बुखार के साथ भी उपस्थित होते हैं।

कंजक्टिवाइटिस के लक्षण 

विशेषज्ञों का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति को कंजक्टिवाइटिस के लक्षणों में से एक की रिपोर्ट करता है, तो उन्हें तुरंत इसकी सूचना पास के नेत्र रोग विशेषज्ञ को देनी चाहिए और ओवर-द-काउंटर बूंदों के साथ स्वयं दवा नहीं लेनी चाहिए क्योंकि उनके लोंगटर्म इफ़ेक्ट हो सकते हैं। यहां कुछ टिप्स दी गई हैं। 

  • ओवर-द-काउंटर उत्पादों को ना कहें: डॉक्टर द्वारा बताए अनुसार आई ड्रॉप या लुब्रिकेंट का उपयोग करें। ओवर-द-काउंटर उत्पादों का उपयोग करने की बिल्कुल भी अनुशंसा नहीं की जाती है।
  • आखों को हाथ से न छुएं: कंजंक्टिवाइटिस में आँखों से दूसरी आँख या फिर किसी और की आँखों में इन्फेक्शन का खतरा बढ़ा हुआ होता है। इसीलिए जितना हो सके अपनी आँखों को धक् कर रखें और इसे धुप और डस्ट से बचा कर रखे। 
  • आखों पर साफ़ पानी मारें: अगर आपकी आँखों का इन्फेक्शन दिन-बी-दिन बढ़ता जा रहा है, तो समझ जाएँ कि आपको अपनी आई का खास ख्याल रखने की जरुरत है। इसके लिए आप ठन्डे साफ़ पानी का इस्तेमाल करें और जोर-जोर से छींटे मार कर अपनी आँखों को साफ़ करें।  
  • टिश्यू का इस्तेमाल है जरुरी: कसी भी पब्लिक प्लेस पर अपने साथ हैंकी, रुमाल, चस्मा या टिश्यू जरूर रखें। या आपके इन्फेक्शन को स्प्रेड होने से रोकता है। इसके साथ ही यह बाहर के पॉल्यूशन, धुप और गर्मी को डायरेक्ट आँखों की कनेक्शन में आने से रोकता है।   
अनुशंसित लेख
नवीनतम कहानियां