Prenatal Depression: प्रेगनेंसी में रहें स्ट्रेस से दूर

Apurva Dubey
12 Aug 2022
Prenatal Depression: प्रेगनेंसी में रहें स्ट्रेस से दूर

यह आपकी पहली प्रेगनेंसी हो या दूसरी, लेकिन एक माँ का अपने बच्चे के लिए, उसके अच्छे स्वास्थ और जन्म देने के ख़याल से ही तनाव पैदा होने लगता है। प्रेगनेंसी में अक्सर महिलाएं इस तरह के विचारों से डिप्रेशन का शिकार होने लगती हैं। हालाँकि यह बिलकुल सामान्य स्थिति हैं लेकिन फिर भी इस तरह के अवसाद और स्ट्रेस से प्रेग्नेंट महिलाएं जितना दूर रहें उतना ही बेहतर होता है। यह देखा गया है कि हर 7 में से 1 महिला इस प्रीनेटल डिप्रेशन की शिकार है। अध्ययनों से पता चलता है कि मां और बच्चे पर प्रीनेटल डिप्रेशन के छोटे-छोटे प्रभाव भी होते हैं। असल में प्रेगनेंसी के बाद के जोखिम को बढ़ाता है।

Prenatal Depression: प्रेगनेंसी में रहें स्ट्रेस से दूर  

प्रीनेटल डिप्रेशन प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं में उदासी, बेचैनी, चिंता और क्रोध का कारण बन सकता है। प्रीनेटल डिप्रेशन को बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करने से भी जोड़ा गया है। इसलिए, इसे पूरी तरह से रोकने के लिए सही उपाय करना अनिवार्य है। 

एक प्रेग्नेंट महिला क्या खाती है, वह कैसे कसरत करती है, उसकी लाइफस्टाइल और उसका वातावरण, ये सभी फैक्टर हैं जो एक माँ को प्रीनेटल डिप्रेशन होने की संभावना का बनाते हैं। इस लेख में, हम चर्चा करते हैं कि प्रीनेटल डिप्रेशन की संभावना को कम करने के लिए इन फैक्टर्स को कैसे बदला जा सकता है।

प्रीनेटल डिप्रेशन को रोकने के तरीके: 

थेरेपी 

प्रीनेटल डिप्रेशन की संभावना कम करने के लिए हमे मेंटली के साथ-साथ फीसीक्ली भी फिट होने की बहुत जरुरत होती है। अगर आप चाहो तो को मेन्टल हेल्थ के रिगार्डिंग थेरेपी ले सकते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान अपने एक्सपीरियंस और फीलिंग्स को शेयर करने के लिए महिला का प्रीनेटल डिप्रेशन से उभारना भी जरुरी है। 

रोजाना व्यायाम है जरुरी 

एक्सरसाइज करने से शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं। व्यायाम करने से माँ के शारीरिक स्वास्थ्य का प्रबंधन करने में मदद मिलती है और बच्चे के स्वास्थ्य में भी सुधार होता है। व्यायाम करने से मां के मानसिक स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाने में मदद मिलती है। व्यायाम करने से सेरोटोनिन, डोपामाइन आदि जैसे हैप्पी हार्मोन रिलीज होते हैं जो मूड को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। हैप्पी हार्मोन का यह स्राव अवसाद और चिंता के लक्षणों को भी कम कर सकता है।

बातचीत करना न भूलें 

किसी भी रिलेशनशिप में बातचीत करना काफी इम्पोटेंट है। हार्मोन में बदलाव से भी मूड में बदलाव हो सकता है। यह आवश्यक है और अपने आसपास के लोगों से बात करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। अपने आसपास के लोगों के साथ अपने विचारों और भावनाओं को साझा करने से आपको अपनी मानसिकता को सुधारने के लिए सही तरीके से नेविगेट करने में मदद मिल सकती है।


अनुशंसित लेख