Fasting Benefits: क्या व्रत रखना है फायदेमंद?

Fasting Benefits: क्या व्रत रखना है फायदेमंद? Fasting Benefits: क्या व्रत रखना है फायदेमंद?

Apurva Dubey

19 Aug 2022

अक्सर किसी न किसी तीज-त्यौहार पर महिलाएं भगवान् की भक्ति में उपवास यानि व्रत रखती हैं। लेकिन क्या आप उपवास का वैज्ञानिक महत्व जानते हैं? क्या आपको पता है कि उपवास किस प्रकार से आपके हेल्थ के लिए फायदेमंद होता है? बेशक, भारत में उपवास को धर्म और आस्था से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन धार्मिक महत्व से अलग उपवास के फायदे हेल्थ से भी जुड़े हैं। आज हम चर्चा करेंगे कि क्या फ़ास्ट यानि व्रत रखने से आपके स्वस्थ के लिए फायदेमंद होता है? 

Fasting Benefits: क्या व्रत रखना है फायदेमंद? 

बॉडी डीटॉक्स करता है 

उपवास के फायदे में शरीर को साफ करना शामिल है। रिसर्च पेपर के अनुसार, अगर ऐसा उपवास रखा जाए, जिसमें खाद्य पदार्थों के सेवन के बजाय तरल पदार्थ शामिल हों, तो शरीर सही तरह से डिटॉक्सीफाई हो सकता है। इससे पाचन बेहतर होने के साथ ही पेट संबंधी परेशानियां और त्वचा संबंधी समस्याएं कम हो सकती हैं। हफ्ते में कम से कम एक दिन व्रत रखना जरुरी है। ऐसा करने से हमारे शरीर के टॉक्सिक एलिमेंट बहार निकल जाते हैं। 

वेट लॉस में है सहायक 

आधे से ज्यादा लोगों की समस्या मोटापा है। ऐसे में वक्त रहते इस पर ध्यान न दिया गया, तो यह कई शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकता है। वैसे वजन कम करने के लिए उपवास अच्छा तरीका हो सकता है। इंटरमिटेंट फास्टिंग से बढ़ती चर्बी को कम करने में मदद मिल सकती है। इस उपवास में ठोस पदार्थों की जगह पेय पदार्थों का सेवन किया जाता है या फिर खाने का वक्त बदला जाता है। इसीलिए व्रत रखना फायदेमंद है। 

व्रत से पाएं ग्लोइंग स्किन 

कई बार सिर्फ क्रीम और कॉस्मेटिक का ही नहीं, बल्कि खान-पान का असर भी त्वचा पर होने लगता है। ज्यादा तेल-मसाला या स्पाइसी खाना खाने से आपको कील-मुहांसे हो सकते हैं। ऐसे में व्रत रखना लाभकारी हो सकता है। हमने ऊपर पहले ही बताया है कि उपवास रखने से शरीर डिटॉक्सीफाई हो सकता है। व्रत से आपका शरीर डिटॉक्सीफाई होगा, तो शरीर में मौजूद विषाक्त तत्व बाहर निकलेंगे, जिससे त्वचा में नई चमक आएगी और त्वचा खूबसूरत दिखने लगेगी।

कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार 

हमेशा रूटीन से हफ्ते में अगर एक दिन व्रत रखा जाए तो इससे वजन कम करने में मदद मिल सकती है। इससे कोलेस्ट्रॉल का जोखिम भी कम हो सकता है। एक रिसर्च में कहा गया है कि एक दिन के अंतराल के बाद किए जाने वाले उपवास से कोलेस्ट्रॉल कम हो सकता है। इससे ट्राइग्लरसाइड यानी एक प्रकार का वसा और खराब कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित हो सकता है। 

अनुशंसित लेख