Advertisment

Body Health: इंइंसुलिन प्रतिरोध के लक्षण क्या हैं?

इंसुलिन का मुख्य कार्य है भोजन से बने ग्लूकोज को रक्त द्वारा कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करना ताकि हमे पर्याप्त ऊर्जा मिल सके। इन्सुलिन रेजिस्टेंस की स्तिथि में इन्सुलिन हार्मोन ठीक से काम नहीं कर पाता।

author-image
Kavya Gupta
New Update
Insulin Resistance(freepik)

image source: Insulin Resistance(freepik)

What Are The Signs Of Insulin Resistance: बीमार पढ़ने पर, हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के परिवर्तन हो सकते है जैसे इम्यूनिटी लॉस, कमजोरी आदि। इन्सुलिन रेसिस्टेंस भी इनमे में से एक बदलाव हो सकता हैं। इंसुलिन का मुख्य कार्य है भोजन से बने ग्लूकोज को रक्त द्वारा कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करना ताकि हमे पर्याप्त ऊर्जा मिल सके। इन्सुलिन रेसिटेंस की स्तिथि में इन्सुलिन हार्मोन ठीक से काम नहीं कर पाता जिससे शरीर को ग्लूकोज को सही ढंग से उपयोग करने में कठिनाई होती है जिसके कारण टाइप-2 डायबिटीज का खतरा, मेटाबोलिक सिंड्रोम, और अन्य रोग भी बढ़ सकते है। इंसुलिन रेसिस्टेंस का संबंध हृदय बीमारियों के साथ भी हो सकता है, इसलिए इंसुलिन रेजिस्टेंस का सही उपचार अवश्यक है।

Advertisment

इंसुलिन प्रतिरोध के संकेत क्या हैं

1. डायबिटीज 

इंसुलिन की असर कम होने के कारण शरीर में ग्लूकोज का सही तरीके से उपयोग नहीं हो पाता, जिससे डायबिटीज  बढ़ने का खतरा बन सकता है।

Advertisment

2. भूख अधिक लगना

इन्सुलिन रेजिस्टेंस में अधिक भूख का अहसास हो सकता है। इंसुलिन रेजिस्टेंस के कारण, शरीर को इंसुलिन का सही तरीके से नहीं उपयोग हो पाता, जिससे ग्लूकोज को कोशिकाओं में प्रवेश में कठिनाई होती है और यह शरीर को अधिक भूख की सिग्नल भेज सकता है। यह डायबिटीज़ और अन्य मेटाबोलिक समस्याएं उत्पन्न कर सकता है।

3. वजन बढ़ना

Advertisment

इस स्तिथि में वजन बढ़ सकता है। इंसुलिन रेजिस्टेंस के दौरान, शरीर को इंसुलिन का सही तरीके से उपयोग करने में कठिनाई हो सकती है, जिससे ब्लड सुगर स्तर बढ़ सकता है और इसके परिणामस्वरूप वजन बढ़ सकता है, खासकर अधिक मात्रा में सुगर और फैट के कारण।

4. थकान होना 

इंसुलिन का सही तरीके से कार्य नहीं होने से ऊर्जा का सही रूप से नहीं उपयोग हो पाने के कारण थकान का अहसास हो सकता है। इंसुलिन रेसिस्टेंस के कारण थकान का अनुभव हो सकता है। इसका मुख्य कारण है कि इंसुलिन का सही तरीके से कार्य नहीं करने पर शरीर सही मात्रा में शुगर को सेलों में पहुंचाने में कठिनाई होती है, जिससे सेलें पूर्वाधिक कार्बोहाइड्रेट का उपयोग नहीं कर पाती हैं और शरीर को ऊर्जा की कमी हो सकती है।

5. अस्वस्थ लिपिड प्रोफाइल

इंसुलिन रेजिस्टेंस के कारण, व्यक्ति का लिपिड प्रोफाइल अस्वस्थ हो सकता है। बढ़ा हुआ त्रिग्लिसराइड (एक तरह का fat) स्तर, LDL कोलेस्ट्रॉल( बुरा कोलेस्ट्रोल), HDL कोलेस्ट्रॉल जिसे "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है आदि प्रभावित होते है। यह अस्वस्थ लिपिड प्रोफाइल डायबिटीज, हृदय रोग, और अन्य मेटाबोलिक समस्याओं के खतरे को बढ़ा सकता है।

Body Health Insulin Resistance इंसुलिन प्रतिरोध
Advertisment