Menopause Dairies: योग से मेनोपॉज के हार्मोनल बदलाव को करें ठीक

Menopause Dairies: योग से मेनोपॉज के हार्मोनल बदलाव को करें ठीक Menopause Dairies: योग से मेनोपॉज के हार्मोनल बदलाव को करें ठीक

Apurva Dubey

16 Aug 2022

मेनोपॉज एक नेचुरल प्रोसेस है जिसे सभी महिलाएं अपने जीवन में एक उम्र के बाद अनुभव करती हैं। इस समय के दौरान, शरीर कई फिजिकल चेंज से गुजरता है क्योंकि यह उतार-चढ़ाव वाले हार्मोन के स्तर को बैलेंस करता है। मेनोपॉज के दौरान कई महिलाओं में अजीब लक्षण होते हैं, जिनमें हॉट फ्लैशेस, मूड स्विंग्‍स और अनिद्रा शामिल हैं। बालों का झड़ना और झाइयों भी आम समस्‍याएं हैं।

स्किन और बालों पर होता है असर

मेनोपॉज की शुरुआत के साथ एक महिला में कई तरह के हार्मोनल बदलाव और उतार-चढ़ाव दिखाई देते हैं। कुछ महिलाओं को अपने चेहरे पर अधिक झाइयों का अनुभव होता है, जिसे मेलास्मा कहा जाता है, जिसे गाल, ऊपरी होंठ और माथे पर झाइयों के रूप में चित्रित किया जाता है।

हार्मोन असंतुलन है वजह 

शोध से पता चला है कि मेनोपॉज के दौरान बालों का झड़ना एक हार्मोनल असंतुलन का रिजल्‍ट है। विशेष रूप से, यह एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के कम उत्पादन से संबंधित है। 

Menopause Dairies: योग से मेनोपॉज के हार्मोनल बदलाव को करें ठीक 

मेनोपॉज या पेरिमेनोपॉज़ से पीड़ित महिलाएं हॉट फ्लैशेस, अनिद्रा, वजन बढ़ना, रात को पसीना, हेयर फॉल और स्किन में बदलाव आदि जैसे लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं। योग आपकी मदद कर सकता है।

आज हम आपको मेनोपॉज के दौरान होने वाली परेशानियों से  निपटने वाले कुछ योगासन के बारे में बता रहे हैं। 

सेतु बंध सर्वांगासन

यह योगासन आपके ब्रेन को शांत करता है और तनाव को कम करने में मदद करता है। हार्मोनल संतुलन के लिए योग में यह आसन थायरॉयड फंक्शन में सुधार करता है। साथ ही इसे करने से आपका ब्‍लड सर्कुलेशन सिर की ओर होता है जिससे आपकी बालों और त्‍वचा से जुड़ी समस्‍याओं कम होती है।

जानुशीर्षासन

मेनोपॉज के लक्षणों जैसे थकान और सिरदर्द से राहत देता है। इसे करने के लिए पैरों को सामने फैलाकर और बैठकर शुरुआत करें। इसके बाद, अपने दाहिने घुटने को मोड़ें। इसे इस तरह से हिलाएं कि आपके पैर का निचला हिस्सा आपकी बाईं जांघ के ऊपर हो। बेली बटन को बाएं पैर के केंद्र के अनुरूप रखें और सिर को अपने घुटने से छूने की कोशिश करते हुए कमर से झुकें। यदि आपके बाएं पैर का घुटना स्पर्श नहीं करता है, तो समर्थन के लिए नीचे एक तौलिया रखें। 

बुद्धकोणासन

यह आसन आपने पाचन और आंतों के काम में सुधार करता है और डाइजेशन के अच्‍छा रहने से बालों और त्‍वचा की हेल्‍थ भी अच्‍छी रहती है। इसे कुछ महिलाएं भद्रासन या तितली पोज के नाम से भी जानते हैं। 






अनुशंसित लेख