Advertisment

नेत्रहीन होकर भी वंदना ने किया कमाल, 10वीं बोर्ड में हासिल किए 96% अंक

चंडीगढ़ की वंदना ने नेत्रहीन होते हुए भी सीबीएसई 10वीं बोर्ड में 96% अंक प्राप्त किए। जानिए उनकी कहानी, सफलता का राज और उन्होंने भविष्य के लिए क्या लक्ष्य रखा है।

author-image
Vaishali Garg
एडिट
New Update
Chandigarh Girl Tops CBSE Boards Despite Visual Impairment

Image Credit: Hindustan Times

Chandigarh Girl Tops CBSE Boards Despite Visual Impairment: वंदना, एक पंद्रह वर्षीय लड़की, जो जन्म से ही नेत्रहीन हैं, ने सीबीएसई कक्षा 10वीं बोर्ड परीक्षा में शानदार 96% अंक प्राप्त करके बाधाओं को तोड़ दिया है। वंदना चंडीगढ़ के नेत्रहीन संस्थान की छात्रा हैं। वह बाधाओं के बावजूद संघर्ष कर रही हैं और यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करके आईएएस ऑफिसर बनना चाहती हैं।

Advertisment

नेत्रहीन होकर भी वंदना ने किया कमाल, 10वीं बोर्ड में हासिल किए 96% अंक

वंदना की लगन की कहानी

चंडीगढ़ के नेत्रहीन संस्थान की छात्रा वंदना ने अपनी पढ़ाई के प्रति अद्भुत लगन का प्रदर्शन किया है। नेत्रहीन होने के बावजूद वह हर शाम तीन घंटे अतिरिक्त स्वअध्ययन करती थीं, और जब परीक्षाएं होती थीं तो अक्सर देर रात तक पढ़ाई करती थीं। उनके धैर्य और कड़ी मेहनत का नतीजा शानदार प्रदर्शन के रूप में सामने आया है।

Advertisment

वंदना की उपलब्धियां सिर्फ उनके निजी लक्ष्यों से आगे निकलती हैं। उनका लक्ष्य दृष्टिबाधित बच्चों को सशक्त बनाना और उनके आसपास का वातावरण अधिक समावेशी बनाना है। सकारात्मक बदलाव लाने की उनकी इच्छा उनके सामाजिक सरोकार और परवाह करने वाले व्यक्तित्व को स्पष्ट रूप से दर्शाती है। 

प्रेरणा का स्रोत - वंदना की कहानी

वंदना के पिता सोनू पाल एक मजदूर हैं और उनकी माता अनीता एक गृहिणी हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, वंदना शाम 5 से 8 बजे तक तीन घंटे स्वअध्ययन करती थीं, और परीक्षा के दौरान वे रात 11 बजे तक पढ़ाई करती थीं।

Advertisment

वंदना की कहानी दृढ़ता और साहस की शक्ति का प्रदर्शन करती है, जो चुनौतियों से पार पाने में मदद करती है। स्कूल में उनकी उपलब्धियां और सकारात्मक बदलाव लाने की उनकी इच्छा समाज में विकलांग लोगों की सफलता और सार्थक योगदान की संभावना को दर्शाती है। चंडीगढ़ की शिक्षा प्रणाली को निरंतर बदलाव के साथ यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वंदना जैसे छात्रों के लिए अधिक समावेशिता और समर्थन हो ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सभी को सफल होने का अवसर मिले।

समावेशी शिक्षा की शक्ति

वंदना की शैक्षणिक उपलब्धियां प्रेरणादायक हैं। सेक्टर 26 स्थित नेत्रहीन संस्थान में कक्षा 12वीं और 10वीं की परीक्षा देने वाले प्रत्येक दृष्टिबाधित छात्र ने सफलता प्राप्त की। इस समूह की उपलब्धियां दर्शाती हैं कि समावेशी शिक्षा कितनी महत्वपूर्ण है और कैसे अक्षमता वाले छात्र सक्षम हो सकते हैं।  

वर्ष 2016 में, चंडीगढ़ के एक नेत्रहीन संस्थान के 14 छात्रों ने सीबीएसई कक्षा 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करके यह साबित कर दिया कि दृष्टिबाधित होना जीवन में बाधा नहीं बन सकता। इन बच्चों ने इससे पहले कभी सीबीएसई परीक्षा नहीं दी थी क्योंकि यह संस्थान पहले पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (PSEB) से जुड़ा हुआ था। 

Chandigarh Girl Tops CBSE Boards
Advertisment