मैराथन दौड़ कर 80 वर्षीय महिला ने साबित किया की उम्र सिर्फ एक संख्या है

एक 80 वर्षीय वरिष्ठ महिला ने 15 जनवरी को टाटा मुंबई मैराथन में दौड़कर सभी को चौंका दिया। डिंपल मेहता फर्नांडिस ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया। जानें पूरी खबर इस इंस्पिरेशन टॉप स्टोरीज ब्लॉग में -

Vaishali Garg
18 Jan 2023
मैराथन दौड़ कर 80 वर्षीय महिला ने साबित किया की उम्र सिर्फ एक संख्या है

Elderly Woman Runs Tata Marathon

बुजुर्ग लोग मानदंडों को तोड़ रहे हैं और तो और लोगों को प्रेरित कर रहे हैं, यह साबित कर रहें हैं उम्र को साबित करना सिर्फ एक संख्या है।  उनका कभी न हार मानने वाला रवैया और दृढ़ इच्छाशक्ति युवा पीढ़ी के लिए एक मिसाल कायम कर रही है। इसे बिना भीख मांगे आजीविका कमाने या बुढ़ापे में रोमांस को जीवित रखने या मैराथन में मीलों दौड़ने दें। ऐसे ही उदाहरण है एक 80 वर्षीय वरिष्ठ महिला ने 15 जनवरी को टाटा मुंबई मैराथन में दौड़कर सभी को चौंका दिया।

Elderly Woman Runs Tata Marathon

एक बुजुर्ग महिला ने दो साल के ब्रेक के बाद आयोजित मैराथन में हिस्सा लिया। डिंपल मेहता फर्नांडिस ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया, जिसमें उनकी नानी मैराथन दौड़ रही हैं, जो रविवार को अपने 8०वें साल में प्रवेश कर गई है। अन्य मैराथन प्रतियोगी के साथ बुजुर्ग महिला को सड़कों पर दौड़ते हुए देखा जा सकता है। वह अपनी साड़ी में खेल के जूते की एक जोड़ी के साथ दौड़ी और सामने तिरंगा झंडा थामे हुए थीं।

उस महिला ने खुद को भारती जितेंद्र पाठक बताया, भारती जितेंद्र पाठक ने 51 मिनट में 4.2 किमी की दूरी तय की। मीडिया के साथ एक इंटरव्यू में, उन्होंने उल्लेख किया कि यह उनकी पांचवीं मैराथन थी और वह खुद को फिट और स्वस्थ रखने के लिए हर सुबह सैर करना पसंद करती हैं। भारती जितेंद्र पाठक ने यह भी कहा कि उन्हें भारतीय होने पर गर्व है और वह चाहती हैं कि लोग उनकी राष्ट्रीय पहचान के बारे में जानें और इसलिए तिरंगा धारण करती हैं।

फर्नांडिस द्वारा शेयर किए गए एक वीडियो के साथ कैप्शन दिया गया है, "इस रविवार को टाटा मैराथन में भाग लेने वाली मेरी 80 वर्षीय नानी की दृढ़ इच्छाशक्ति और धैर्य से में बहुत प्रेरित हूं।" कई लोगों ने भारती जितेंद्र पाठक की मैराथन दौड़ की सराहना करते हुए कॉमेंट करना शुरू कर दिया। एक यूजर ने कहा, "व्हाट ए स्टार," दूसरे ने कहा, "उसे दौड़ता देख बहुत प्रेरणादायक और खुश हूं...उम्र तो बस एक नंबर है।"  तीसरे यूजर ने कहा, 'वाह!  यह प्रेरणादायक है।

80 वर्षीय बुजुर्ग महिला का यह जज्बा देखकर इंस्टग्राम के लोगों ने उनकी पोस्ट पर ढेर सारा प्यार दिया और उनको प्रोत्साहित किया। वाकई भारतीय जितेंद्र पाठक जी ने यह जी साबित कर दी कि उम्र महज एक नंबर है और आप हर काम कर सकते हैं किसी भी उम्र में बस आपको अपने ऊपर यकीन रखने की जरूरत है।

Read The Next Article