Gender Pay Gap: जेंडर पे गैप के लॉन्ग टर्म प्रभाव

Gender Pay Gap: जेंडर पे गैप के लॉन्ग टर्म प्रभाव Gender Pay Gap: जेंडर पे गैप के लॉन्ग टर्म प्रभाव

Monika Pundir

16 Jun 2022

कनाडा के विश्वविद्यालयों में फैकल्टी के लिए जेंडर पे गैप से दीर्घकालिक प्रभाव हैं।

कनाडा के विश्वविद्यालयों में फैकल्टी के लिए जेंडर पे गैप महत्वपूर्ण और निरंतर है। महिला प्रोफेसर समान काम के लिए पुरुषों की तुलना में एवरेज 10 प्रतिशत (या $ 10,500 प्रति वर्ष) कम कमाते हैं।

यह जेंडर पे गैप प्रारंभिक वेतन और बाद में मेरिट वेतन, पदोन्नति की अलग-अलग रेट और पैरेंटल और देखभाल करने वाली छुट्टी के प्रभावों से हो सकता है।

हालांकि, केवल पे गैप पर ध्यान केंद्रित करने से लोग लैंगिक असमानताओं के दीर्घकालिक फाइनेंशियल परिणामों को कम आंकते हैं पर वेतन अंतर का पेंशन पर भी प्रभाव पड़ता है।

महिला प्रोफेसरों के लिए केस स्टडी

जेंडर पे गैप और पेंशन अंतर (30 से अधिक वर्षों में रिसर्च नहीं किया गया) के प्रभावों को निर्धारित करना, कई वेरिएबल को देखते हुए एक चुनौती बन गया है।

इस चुनौती से निपटने के लिए, रिसर्च टीम ने किंग्स यूनिवर्सिटी कॉलेज को केस स्टडी के रूप में इस्तेमाल किया। किंग्स ने चुनौती को और सरल बना दिया क्योंकि संभावित वेरिएबल स्टार्टिंग वेतन और प्रमोशन (पदोन्नति) तक ही सीमित था। कई विश्वविद्यालयों के विपरीत, किंग्स मेरिट  पे की पेशकश नहीं करता है, और फैकल्टी के पास एक परिभाषित पेंशन योजना है।

किंग्स में महिला फैकल्टी ने पुरुषों की तुलना में एवरेज नौ प्रतिशत कम कमाया। इसके बाद रिसर्चर ने 30 साल के करियर और 21 साल की रिटायरमेंट, विभिन्न करियर ट्रेजेक्टरी के लिए में वेतन और पेंशन के अंतर की कॅल्क्युलेशन की।

रिसर्च पाया कि शुरुआती वेतन में $9,000 के अंतर के कारण एसोसिएट स्तर पर क्युमुलेटिव वेतन और पेंशन अंतर $454,000 और फुल प्रोफेसर स्तर पर $468,000 का अंतर हो गया।

रिसर्च ने  यह भी कैलकुलेट  की कि क्या होगा यदि एक महिला को एक पुरुष की तुलना में पूर्ण प्रोफेसर के रूप में प्रोमोशन नहीं किया गया। इस अधिक संभावित स्थिति में, वेतन और पेंशन का अंतर $660,000 था। रिटायरमेंट में, यह अंतर के आधार पर पेंशन में $7,000- $12,250 प्रति वर्ष के अंतर का करता है।


विश्वविद्यालय क्या कर सकते हैं?

जेंडर पे गैप को दूर करने के लिए विश्वविद्यालय क्या अतिरिक्त कदम उठा सकते हैं? सबसे पहले, वे अधिक ट्रांसपेरेंसी प्रदान कर सकते हैं। फैकल्टी को उनके अनुभव और प्रदर्शन का आकलन करने के लिए उपयोग किए जा रहे क्राइटेरिया, उनके संस्थान में जेंडर पे गैप को मापने के लिए उपलब्ध डेटा और उनका स्कूल इसे कैसे सुधार रहा है, से अवगत कराया जाना चाहिए।

वे महिला रिसर्चर के लिए वातावरण को बढ़ावा दे सकते हैं और उन्हें पदोन्नति के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं (2019 में पूर्ण प्रोफेसरों में से 68 प्रतिशत पुरुष थे)। महामारी से महिलाओं के करियर की प्रगति अधिक नेगेटिव रूप से प्रभावित हुई।

जेंडर पे गैप को कम के लिए 60 साल?

वर्ल्ड इकनोमिक फोरम का सुझाव है कि इस दर पर, अकादमिक क्षेत्र के भीतर और बाहर, इस अंतर को हटाने में 60 साल और लगेंगे। अफसोस की बात है कि हमारी बेटियां रिटायर होने के बाद भी इक्विटी का इंतजार कर रही होंगी।

मार्सी पेनर, एसोसिएट प्रोफेसर ऑफ साइकोलॉजी, किंग्स यूनिवर्सिटी कॉलेज, वेस्टर्न यूनिवर्सिटी और ट्रेसी स्मिथ-कैरियर, एसोसिएट प्रोफेसर और कनाडा रिसर्च चेयर इन एडवांसिंग द यूएन सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स, रॉयल रोड्स यूनिवर्सिटी ने इस लेख को सबसे पहले द कन्वर्सेशन पर प्रकाशित किया।

अनुशंसित लेख