Advertisment

Priyal Yadav: एक किसान की बेटी से डिप्टी कलेक्टर तक की प्रेरणादायक कहानी

एक किसान की बेटी, प्रियल यादव की अद्भुत यात्रा कैसे उन्होंने कक्षा 11 में असफलता को सामना किया और मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) परीक्षा में छठे स्थान पर आकर डिप्टी कलेक्टर बन गईं।

author-image
Vaishali Garg
एडिट
New Update
Inspiring Journey of Priyal Yadav

Image Credit: Priya Yadav Instagram/Tribune India

From Farmer's Daughter to Deputy Collector: The Inspiring Journey of Priyal Yadav: क्या आपने कभी असफलता का सामना किया है? असफलता हमारे जीवन को गहराई से प्रभावित कर सकती है। यह हमें गिरा सकती है या हमें सफल होने की कोशिश छोड़ने पर मजबूर कर सकती है। या यह हमारे अंदर एक ऐसी आग जला सकती है जो तब तक बुझने का नाम नहीं लेती जब तक कि असफलता को सफलता में बदल न दिया जाए। कुछ ऐसा ही प्रियल यादव के जीवन में भी हुआ। एक किसान की बेटी, जो मध्य प्रदेश में रहती है, कक्षा 11 में असफल हो गई थी। आज, वह मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) परीक्षा में छठी रैंक प्राप्त कर उप-कलेक्टर बन गई हैं। आइए जानते हैं उनकी इस प्रेरणादायक यात्रा के बारे में।

Advertisment

Priyal Yadav: एक किसान की बेटी से डिप्टी कलेक्टर तक की प्रेरणादायक कहानी

प्रारंभिक जीवन और पारिवारिक समर्थन

27 वर्षीय प्रियल यादव एक ग्रामीण क्षेत्र से आती हैं। उनके पिता किसान हैं और उनकी माँ गृहिणी हैं। एक मीडिया पोर्टल के साथ साक्षात्कार में यादव ने कहा, "मैं एक ग्रामीण क्षेत्र से हूँ जहाँ लड़कियों की कम उम्र में शादी कर दी जाती है, लेकिन मेरे माता-पिता ने मुझ पर शादी का दबाव नहीं डाला और मुझे अपनी पढ़ाई करने की पूरी स्वतंत्रता दी।"

Advertisment

कक्षा 11 में असफलता

हालांकि, यादव को एक बड़ा झटका तब लगा जब वह कक्षा 11 में असफल हो गईं। कक्षा 10 तक वह कक्षा की टॉपर थीं, लेकिन कक्षा 11 में उन्होंने रिश्तेदारों के दबाव में आकर गणित, रसायन विज्ञान और भौतिकी जैसे विषय चुने, जिनमें उनकी कोई रुचि नहीं थी। साक्षात्कार में यादव ने खुलासा किया, "मैं कक्षा 10 तक कक्षा की टॉपर थी। लेकिन रिश्तेदारों के दबाव में आकर मैंने कक्षा 11 में भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित चुने, जिनमें मेरी कोई रुचि नहीं थी, और भौतिकी में असफल हो गई।"

असफलता से सीख और फिर से उठना

Advertisment

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि यह उनके शैक्षिक क्षेत्र में "पहली और आखिरी असफलता" थी। यह बात उनकी MPPSC की सफलता में स्पष्ट रूप से दिखाई देती है, जिसका परिणाम गुरुवार को घोषित किया गया था। हालांकि, यहाँ तक की यात्रा आसान नहीं थी। यह कई प्रयासों के दौरान दृढ़ संकल्प और धैर्य से भरी थी।

MPPSC परीक्षा में कई प्रयास

यादव का पहला प्रयास 2019 में था जब उन्होंने 19वीं रैंक प्राप्त की और उन्हें जिला पंजीयक के पद के लिए चुना गया। उन्होंने 2020 में फिर से MPPSC परीक्षा दी और 34वीं रैंक हासिल की, जिससे उन्हें सहायक आयुक्त के पद पर नियुक्त किया गया। उनकी सफलता की प्यास अभी बुझी नहीं थी। इसलिए उन्होंने 2021 में फिर से परीक्षा दी जबकि वह इंदौर में जिला पंजीयक के पद पर तैनात थीं। छठी रैंक प्राप्त कर, यादव अपने लक्ष्य के और करीब आईं और उप-कलेक्टर के रूप में चयनित हुईं। वह उन शीर्ष दस उम्मीदवारों में से एक थीं जिन्हें उप-कलेक्टर पद के लिए चुना गया।

Advertisment

UPSC परीक्षा की तैयारी

देश यादव की सफलता और उनकी प्रेरणादायक यात्रा की सराहना कर रहा है। हालांकि, यादव अभी भी संतुष्ट नहीं हैं। वह संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) परीक्षा की तैयारी करना चाहती हैं। यादव ने कहा कि वह राज्य में उप-कलेक्टर के रूप में काम करते हुए UPSC परीक्षा की तैयारी करना चाहती हैं।

विंस्टन चर्चिल का असफलता पर कथन प्रियल यादव के जीवन पर बिल्कुल फिट बैठता है। उन्होंने कहा था, "सफलता असफलता से असफलता की ओर उत्साह की कोई हानि के बिना बढ़ना है।"

प्रियल यादव की कहानी हमें यह सिखाती है कि असफलता सिर्फ एक कदम है, जो हमें सफलता की ओर ले जाती है। दृढ़ संकल्प और धैर्य से, कोई भी बाधा पार की जा सकती है। यादव की यात्रा हमें प्रेरित करती है कि अगर हम अपने सपनों के प्रति सच्चे हैं, तो हम किसी भी चुनौती का सामना कर सकते हैं और सफलता हासिल कर सकते हैं।

Priyal Yadav Inspiring Journey of Priyal Yadav
Advertisment