Rakshabandhan 2022: 11 या 12 अगस्त, कब है रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

Rakshabandhan 2022: 11 या 12 अगस्त, कब है रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त Rakshabandhan 2022: 11 या 12 अगस्त, कब है रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

Sanjana

06 Aug 2022

भारत देश अनेक प्रकार और धर्म के लोगों और संस्कृतियों का देश है। यहां अनगिनत त्यौहार मनाए जाते हैं। हर त्योहार को मनाने का अपना अलग तरीका और विशेष महत्व होता है। इन्हीं त्योहारों में से एक है रक्षाबंधन। यह है त्यौहार भाई बहन के रिश्ते को समर्पित होता है।

रक्षाबंधन 2022 कब है?

हर साल सभी बहने रक्षाबंधन का बेसब्री से इंतजार करती है। क्योंकि इस दिन वह अपने भाई को राखी बांधती है और उनसे अपना तोहफा लेने के लिए बेकरार होती है। इसके बदले में भाई उन्हें रक्षा का वचन देता है। यह त्यौहार मनाने से भाई-बहन के बीच का रिश्ता और भी मजबूत हो जाता है।

इस साल रक्षाबंधन 11 अगस्त गुरुवार को मनाया जाएगा। बहुत से लोगों को अभी भी यह कंफ्यूजन है कि रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त 11 अगस्त का है या 12 अगस्त। आपको अब ज्यादा कंफ्यूज होने की जरूरत नहीं क्योंकि पूरे देश में यह 11 अगस्त को मनाया जाएगा।

राखी का शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के मुताबिक रक्षाबंधन सावन मास के आखरी दिन मनाया जाता है। इस दिन पूर्णिमा होती है और शुक्ल पक्ष में इसका शुभ मुहूर्त होता है। इस बार यह तिथि 11 अगस्त, गुरुवार की है। राखी बांधने और रक्षाबंधन बनाने का शुभ मुहूर्त 11 अगस्त को 10 बजकर 38 मिनट से लेकर 12 अगस्त के 7 बज कर 5 मिनट तक का है।

आप बेफिक्र होकर इस मुहूर्त के दौरान रक्षाबंधन का पर्व खुशी खुशी मना सकते हैं।

यह बातें ध्यान रखे

  • रक्षाबंधन के दिन बारिश होने की संभावना है क्योंकि आकाश में बादल छाए रहेंगे। 11 अगस्त को शाम के 5:17 से भद्रपुर शुरू होगा जो 6:18 तक रहेगा। हो सके तो आप भद्र काल में भाई को राखी बांधने से बचें।
  • रक्षाबंधन के दिन तैयार होते समय कुछ बातों का अवश्य ध्यान रखना चाहिए। आप कभी भी अपने नए वस्त्रों में काला रंग ना चुनें। त्यौहार के शुभ अवसर पर काले रंग के वस्त्र पहनने से नकारात्मक ऊर्जा आकर्षित होती है।
  • जब आप राखी बांधने से पहले अपने भाई को टीका लगा रही हो तो ध्यान दें कि भाई का सर रुमाल से ढका होना चाहिए। उसका मुंह दक्षिण दिशा की तरफ नहीं होना चाहिए क्योंकि दक्षिण दिशा बुरी आत्माओं की दिशा होती है।
  • जब आप टीका लगाने के बाद माथे पर चावल लगाएं तो याद रखें कि चावल टूटे नहीं होने चाहिए। टूटे चावल किसी भी शुभ अवसर पर इस्तेमाल करने शुभ नहीं होते।
  • जब आप अपने भाई को राखी बांधी तो उस राखी में तीन गांठ होनी चाहिए। तीन गांठ शुभ मानी जाती हैं। पहली गांठ भाई की लंबी उम्र, दूसरी गांठ उसकी सुख समृद्धि और तीसरी गांठ आप दोनों के रिश्ते को मजबूत रखने के लिए होती है।

अनुशंसित लेख