ब्लॉग

Public Shaming: 5 तरीकों से अपने बच्चों को पब्लिकली शर्मिंदा करना अवॉयड करें

Published by
Ritika Aastha

बच्चे एडल्ट्स के हिसाब से थोड़े ज़्यादा ही सेंसिटिव होते हैं और इसलिए उन्हें कई सारी बातें जल्दी दिल पर लग जाती है। अगर आप अपने बच्चे को किसी बात पर शर्मिंदा करते हैं तो ये शमिंग उनके साथ सारी ज़िन्दगी रह जाता है जिस कारण हो सकता है की उनके कॉन्फिडेंस में भी कमी आ जाए या फिर उनके मेन्टल हेल्थ पर भी बुरा असर पड़ जाए। अपने बच्चों को पब्लिकली शर्मिंदा करना गलत है और कई बार आप ना चाहते हुए भी ऐसा कर जाते हैं तो। इन 5 तरीकों से सुधारें बच्चों को पब्लिकली शर्मिंदा करने की अपनी आदत को:

1. बच्चों को गिलटी फील कराना बंद करें

कई बार हम बच्चों को गाइड या मोटिवेशन के नाम पर कुछ ऐसा कह देते हैं जो उनको गिलटी फील करवा सकता है और कई बार उन्हें खुद में शर्मिंदगी भी हो सकती है। इसलिए कोशिश करें की बच्चों को उनकी छोटी-छोटी गलतियों पर हमेशा डाटने के बाजए उन्हें समझाया जाए। बच्चे अपने प्रति किये आलोचना या जजमेंट को काफी जल्दी समझ लेते हैं इसलिए उनकी ज़्यादा आलोचना करने से बचें।

2. अपने बेहेवियर को मॉडल करें

आपको अपना बेहेवियर ऐसा रखना है की आपके बच्चे कोई भी गलती करने के बाद इस बात का डर न हो की आप उन्हें डाटेंगे। बच्चे आपके तरफ देखकर इस बात का अंदाजा लगाते हैं की समाज में उनकी कौन सी हरकतें एक्सेप्टेबल हैं और कौन सी नहीं। इसलिए अगर आप उन पर हर समय क्रिटिकल रहेंगे या फिर उन पर चिल्लाते रहेंगे तो बिलकुल भी अच्छा नहीं रहेगा।

3. हर इशू पर खुल कर करें बात

किसी भी सीक्रेट को रखने से उस बात को लेकर शर्मिंदगी बढ़ती है। इसलिए अपने बच्चों को उनके बॉडी को लेकर किसी भी तरह की अनकम्फर्टेबलेनेस फील ना होने दें। इस बात का ख्याल रखें की अपनी बॉडी को लेकर उन्हें किसी भी तरह की शर्मिंदगी ना हो। उनको ये भी समझाएं की हर बॉडी शेप और साइज अच्छा है और उन्हें इस बात पर चिंता करने की ज़रूरत नहीं है।

4. बच्चों को पनिश ना करें

अगर आपके बच्चे से किसी तरह की गलती हो रही है तो उससे इस बारे में बात करके या उससे समझा कर आप उसकी गलती को सुधार सकते हैं। लेकिन अगर आप हर बात पर अपने बच्चे को पनिश करेंगे तो इससे उनका सेल्फ कॉन्फिडेंस तो घटेगा ही, इसके साथ ही साथ कई बार बच्चे के अंदर बगावत की फीलिंग भी आ सकती है। इससे बच्चे आपसे डरना भी शिरू कर देंगे जो सही नहीं है।

5. बच्चे को इमोशनली हैंडल करें

अपने बच्चे के प्रति सहानुभूति दिखाना बहुत ज़रूरी है फिर चाहे आप घर में हों या फिर घर के बाहर। अपने बच्चे को इम्पोर्टेन्ट भी फील करवाएं ताकि उसे ये ना लगे की आपको उसके होने या न होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। बच्चे थोड़े ज़्यादा इमोशनल होते हैं इसलिए उनको अगर आप वैसे ही हैंडल करेंगे तो इससे उनको अच्छा फील ज़रूर होगा।

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

18 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

19 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

20 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

21 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

21 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

24 hours ago

This website uses cookies.