Self-Care: इन 5 तरीकों से सीखाएं अपने बच्चे को यंग एज से सेल्फ-केयर

Self-Care: इन 5 तरीकों से सीखाएं अपने बच्चे को यंग एज से सेल्फ-केयर Self-Care: इन 5 तरीकों से सीखाएं अपने बच्चे को यंग एज से सेल्फ-केयर

SheThePeople Team

10 Jul 2021

अपने मन और शरीर के लिए समय निकाल कर उनकी केयर करना बहुत ज़रूरी है। इसके साथ ही साथ ये भी ज़रूरी है की ये चीज़ हम अपने बच्चों को भी सीखाएं। अगर बच्चे यंग एज से ही सेल्फ केयर के बारे में सीखने लगेंगे तो उनको अपने फ्यूचर में इसको लेकर कम परेशानियां झेलनी पड़ेगी जिस कारण उनका मेन्टल हेल्थ भी स्टेबल रहेगा। सेल्फ-केयर हैबिट्स आपके माइंड को स्ट्रेस-फ्री रखते हैं जो आपके बच्चे को यंग एज से आना बहुत ज़रूरी है। जानिए उन्हें ये सीखाने के 5 तरीके:

1. बेसिक्स से करें शुरुवात


अपने बच्चे को सेल्फ-केयर के बेसिक्स सीखाएं सबसे पहले। उन्हें ब्रश करना और डेंटल हेल्थ की इम्पोर्टेंस सीखाएं। उन्हें ये भी समझाएं की क्यों हेल्दी फूड्स का सेवन करना ज़रूरी है। इन सब बात को आप जितनी जल्दी सीखाएंगे उतना अच्छा रहेगा क्योंकि जब आपका बच्चा ये सब सीखता है तब वो सेल्फ-केयर के फंडामेंटल्स से आलरेडी परिचित है।

2. उनके बॉडी को पुश करें


फिजिकली एक्टिव रहना सेल्फ-केयर का एक बहुत बड़ा पार्ट है। आपका बच्चा अगर आलसी तो उसके लिए अपने माइंड और बॉडी का ख्याल रखना मुश्किल हो सकता है। इसलिए उन्हें समझाएं की एक्टिव रहना क्यों ज़रूरी है और इससे उनको कितना फायदा हो सकता है। आप चाहे तो उन्हें किसी स्पोर्ट के लिए बढ़ावा दे सकते हैं या फिर खुद भी उनके साथ किसी स्पोर्टिंग एक्टिविटी का हिस्सा बन सकते हैं।

3. उनके माइंड को डेवेलोप करें


बच्चों को उनके स्क्रीन से ब्रेक लेना सीखाएं और अपने टॉयज को इम्पोर्टेंस देना भी सीखाएं। उनको माइंडफुलनेस को बढ़ाने की कोशिश करें ताकि उनका इनसाइट लेवल भी बढ़े और। बच्चों को योग और मैडिटेशन की इम्पोर्टेंस भी समझाएं ताकि अपने मन को शांत करने के लिए वो इनको यूज़ कर सकें।

4. हेल्दी हैबिट्स की बुक्स दें


बच्चे बुक्स पढ़ना पसंद करते हैं और आम तौर पर बुक्स में लिखी हुई बातें उन्हें याद भी रहती है। इसलिए बच्चों को हेल्दी हैबिट्स और स्किन केयर रूटीन से रिलेटेड बुक्स ज़रूर दें। इन बुक्स को पढ़ने के बाद अगर वो आपसे किसी तरह के सवाल पूंछे तो उन्हें अच्छे से जवाब भी ज़रूर दें।

5. एक बेडटाइम रूटीन बनाएं


एक रेगुलर बेडटाइम रूटीन बहुत ज़रूरी है ताकि आपके बच्चे अपने माइंड और बॉडी को शांत कर सकें और अपने आप को नींद के लिए प्रेपयर कर सकें। बच्चों के बेडटाइम रूटीन में उनके नाईट ड्रेस चेंजिंग, टीथ ब्रशिंग और रीडिंग जैसी हैबिट्स को ज़रूर शामिल करें।

अनुशंसित लेख