ब्लॉग

क्या है एमेनोरिया (Amenorrhea)? जानें एमेनोरिया के लक्षण

Published by
Shilpa Kunwar

एमेनोरिया (amenorrhea) को अगर आसान शब्दों में समझे तो इसे पीरियड्स का न होना कहते हैं। यह मीनोपॉज या प्रेगनेंसी से अलग है। पर इसके वजह से महिलाओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ जाता है। इसलिए ज़रूरी है कि एमेनोरिया के बारे में सब अच्छे से जानें और समझें। इन सब से पहले आप ये जानें कि यह किसी भी तरह से बांझपन या मीनोपॉज से जुड़ा हुआ नहीं है।

क्‍या है एमेनोरिया?

यह प्रॉब्लम पीरियड्स के रेगुलर होने या ना होने से जुड़ी हुई नही है। हालाँकि यह कोई बीमारी नहीं है, इसका इलाज संभव है। अनेक महिलाऐं प्रेगनेंसी या मीनोपॉज होने के बगैर भी अपने 3 या 3 से अधिक पीरियड्स को मिस कर सकती हैं, जो कि एक आम बात नहीं है। पीरियड्स के ना होने की वजह कई तरह के प्रॉब्लम्स की इशारा करती है, जैसे थायराइड, पिट्यूटरी ट्यूमर, PCOS आदि। इसके अलावा एमेनोरिया बाँझपन या ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) जैसी प्रॉब्लम्स को भी जन्म दे सकता है।

एमेनोरिया या पीरियड्स न आने का सबसे नॉर्मल वजह प्रेगनेंसी हो सकती है। एमेनोरिया के अन्य वज़हों में हार्मोन के लेवल को कंट्रोल करने में मदद करने वाले बॉडी पार्टस से सम्बंधित प्रॉब्लम शामिल हैं।

जाने कितने टाईप के होते हैं एमेनोरिया

-प्राइमरी एमेनोरिया

यह वह प्रॉब्लम है जब टीनेज के दौरान पीरियड्स शुरू नहीं होते हैं। अगर 16 साल की उम्र तक एक युवा महिला के पीरियड्स शुरू नहीं होते हैं, तो यह स्थिति प्राइमरी एमेनोरिया कहलाती है।

-सेकेंडरी एमेनोरिया

यह तब होता है, जब टीनेज में पीरियड्स शुरू होते हैं, लेकिन 3 या ज्यादा महीनों तक पीरियड्स बंद हो जाते हैं। इसका प्रेगनेंसी के दौरान या ब्रेस्ट फीडिंग कराने के दौरान होना नॉर्मल है। इसके अलावा यह अन्य हेल्थ प्रॉब्लम्स, जैसे अंडरएक्टिव थायरॉइड, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome (PCOS)) के वजह से भी हो सकता है।

इसको पहचानने मे ये लक्षण करते हैं मदद

एब्सेंस ऑफ मेंस्ट्रुएशन (Absence of menstruation) या एमेनोरिया का मुख्य लक्षण, मासिक धर्म (menstrual periods) का ना होना है। इसके अलावा कई और लक्षण हैं , जैसे:

-दूधिया निप्पल डिस्चार्ज (Milky nipple discharge)
-ब्रेस्ट साईज में बदलाव
-बाल झड़ना
-सरदर्द होना
-वजन बढ़ना या वजन कम होना
-चेहरे पर ज्यादा बालों का होना
-आवाज का भारी होना
-पेल्विक पेन होना(Pelvic pain)
-मुँहासे (Acne) होना
-योनि का सूखापन (vaginal dryness)

कब जरूरी है डॉक्टर को दिखाना

यदि कोई महिला लगातार तीन महिने के पीरियड्स को मिस करती है या पीरियड्स का एक्सपीरियंस नहीं करती हैं, तो उसे तुरंत डॉक्टर से मिल लेना चाहिए। इसके अलावा टीनेजर्स जिनकी उम्र 16 साल या उससे ज्यादा है और एक बार भी पीरियड्स नहीं हुआ है, तो वो भी जल्द से जल्द डॉक्टर की सलाह लें।

पढ़िए- ये 7 होम रेमेडीज आपको पीरियड्स के दर्द से आराम दिलाएंगी

Recent Posts

गौहर खान का खुलासा, पति ज़ैद दरबार नहीं करते शादी अगर नहीं मानती उनकी ये विश

एक्ट्रेस गौहर खान ने खुलासा किया कि पति जैद दरबार उनकी एक विश पूरी ना…

13 mins ago

कौन है अशनूर कौर ? इस एक्ट्रेस ने लाए 12वी में 94%

अशनूर कौर एक भारतीय एक्ट्रेस और इन्फ्लुएंसर हैं जिनका जन्म 3 मई 2004 में हुआ…

56 mins ago

कमलप्रीत कौर कौन हैं? टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में पहुंची ये भारतीय डिस्कस थ्रोअर

वह युनाइटेड स्टेट्स वेलेरिया ऑलमैन के एथलीट के साथ फाइनल में प्रवेश पाने वाली दो…

2 hours ago

टोक्यो ओलंपिक 2020: भारतीय डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर फ़ाइनल में पहुंची

भारत टोक्यो ओलंपिक में डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर की बदौलत आज फाइनल में पहुचा है।…

3 hours ago

This website uses cookies.