Advertisment

Housewife Role: जीवन का एक अहम पड़ाव

साधारण अक्षरों में हाउसवाइफ का मतलब है एक ऐसी युवती जो शादी के बाद केवल घर के काम संभालती है। यही है जीवन हाउसवाइफ बनने का आइए जानते हैं इस बारे में इस ब्लॉग के जरिए:

author-image
Aastha Dhillon
09 Dec 2022
Housewife Role: जीवन का एक अहम पड़ाव

Housewife Role

क्या आपने कभी सोचा है आप अपने जीवन भर के सपने, पूरा जीवन जहां आपने व्यतीत किया है उस घर, जिन लोगों के साथ आपने अपना जीवन व्यतीत किया है वह लोग और खुद से जुड़ी सभी चीजें छोड़कर एक बिल्कुल ही नई जगह नई लोग और एक ऐसे व्यक्ति के साथ अपना जीवन व्यतीत करने जा रहे हैं जिससे शायद आप या तो कभी पहले नहीं मिले या बहुत कम मिले हो| क्या आप ऐसा एक जीवन सोच भी सकते हैं यही जीवन है? यही है जीवन हाउसवाइफ बनने का आइए जानते हैं इस बारे में इस ब्लॉग के जरिए:

Advertisment

हाउसवाइफ होना

Housewife: साधारण अक्षरों में हाउसवाइफ का मतलब है एक ऐसी युवती जो शादी के बाद केवल घर के काम संभालती है। जब हम छोटे बच्चे थे तो हमें लगता था की हमारी मम्मी का काम कितना आसान है। उन्हें केवल पूरे दिन घर पर रहना होता है, परंतु अब बड़े होकर पता चलता है कि इतना जिम्मेदारी का काम है हाउसवाइफ होना। हाउसवाइफ बनते ही कई प्रकार की उम्मीदें एवं जिम्मेदारियां एक महिला पर आ जाती है।

  • सबसे पहली जिम्मेदारी आती है कि अपने पति का ख्याल रखें। यह उम्मीद की जाती है कि वह अपने पति को हर तीज के लिए खुश रखे एवं उसकी हर बात पर राजी हो पर क्या ये बात गलत नहीं है कि एक व्यक्ति जिसे हम कुछ समय पहले जानते भी नहीं थे अचानक वह इतनी इंपोर्टेंस का हकदार हो गया है।
  • घर के काम संभालना दूसरी जिम्मेदारी होती है यह उम्मीद की जाएगी कि युवती को सब चीजों को, हर काम, घर की हर चीज को संभालना एवं हर काम में सक्षम होना ही चाहिए पर क्या यह प्रश्न सभी पुरुषों से पूछा गया है।
  • घर के लोगों का ध्यान रखना चाहे सास ससुर हो या देवर देवरानी| यह उम्मीद की जाती है कि हर व्यक्ति इज्जत की नजरों से देखे जाना चाहिए तथा उनकी हर जरूरत का ख्याल रखना चाहिए।
  • सबसे कठिन चीज होती है अपने सभी सपनों को भूल जाना। अक्सर देखा गया है कि महिलाएं शादी के बाद अपनी पढ़ाई अपने करियर(career) को भूल जाती है एवं घर के काम तथा पति की सेवा के अंदर अपनी सारी उम्र निकाल देती है। वह सपने जो शायद उन्होंने अपने बचपन में देखे होंगे या वह सपने जिन्हें के लिए उन्होंने इतनी मेहनत नहीं पढ़ाई की थी उस सारे एक बार में ही चकनाचूर एवं उनका मूल्य कुछ भी नहीं रहता।

निष्कर्ष

अंत में हम सभी को यह चीज समझ नहीं होगी कि हाउसवाइफ हो ना कोई आसान काम नहीं है एवं हमें उनकी इज्जत करनी चाहिए। हम दरखास्त करेंगे कि यदि आप किसी हाउसवाइफ को जानते हैं अपने घर में अपने आसपास उन्हें जाके एक बार थैंक्यू तथा उनके काम की सराहना कीजिए। महिलाओं से भी अनुरोध है कि शादी के बाद ही सही परंतु अपने सपनों को खुद से दूर ना होने दें उन्हें पूरा करने की पूरी युद्ध रखें एवं हर सक्षम प्रयास करें।

Advertisment
Advertisment