Advertisment

Books: किसी साथी से कम नहीं हैं किताबें, शुरु करें आज से पढ़ना

शौक़ | ब्लॉग : लगातार इंटरनेट आपकी सेहत पर नुकसान पहुंचाने लगता है, आंखों में दर्द महसूस कराने लगता है, तनाव पैदा कर सकता है लेकिन किताबें पढ़ने से आपको शायद कम नुकसान होंगे। किताबें पढ़ने के फायदे ज्यादा हैं। 

author-image
Prabha Joshi
12 May 2023
Books: किसी साथी से कम नहीं हैं किताबें, शुरु करें आज से पढ़ना

बहुत कुछ मजा है किताबें पढ़ने का (Image Credit: ABP News)

Books: क्या कभी आपके साथ ऐसा हुआ है कि आप बोर हो रहे हों, और कुछ भी करने के लिए आपके पास न हो? कई बार जिंदगी में हम इतनी ज्यादा बोरियत महसूस करने लगते हैं कि कुछ और करने का सूझता ही नहीं। यहां पर आता है किताबें पढ़ना। किताबें पढ़ना भले आपका शौक न हो लेकिन इसे अपनाकर आप कुछ अलग ही महसूस करेंगे। 

Advertisment

इंटरनेट पर कुछ हद तक आप बैठ सकते हैं, लेकिन एक समय आता है कि इंटरनेट भी भारी पड़ जाता है। आप एक हद तक इंटरनेट पर बैठ सकते हैं। लगातार इंटरनेट आपकी सेहत पर नुकसान पहुंचाने लगता है, आंखों में दर्द महसूस कराने लगता है, तनाव पैदा कर सकता है लेकिन किताबें पढ़ने से आपको शायद कम नुकसान होंगे। किताबें पढ़ने के फायदे ज्यादा हैं। reading books, pic credit News18

किताबें पढ़ने के फायदे क्या हैं

किताबें बोरियत ही दूर नहीं करतीं बल्कि कई तरह से साथ देती हैं, आइए जानें :-

Advertisment

साथी की तरह काम करती हैं 

अगर आपको किताबें पढ़ने का शौक न हो तो एक बार अपने इंटरेस्ट की कोई किताब उठाएं। तय करें कि आप उसको पूरा करके ही रहेंगे। जब आप उस किताब को पढ़ना शुरु करेंगे तब आप पाएंगे कि आपकी किताब आपके साथ साथी की तरह काम आ रही है। आप किताबों से जुड़ा पाएंगे और उसे हर संभव पढ़ते रहने की कोशिश करेंगे। 

विचारों को दिशा देती है किताबें 

Advertisment

अगर आप विचार करने में असमर्थ हैं, समझ नहीं पा रहे हैं कि किस तरह से सोचें और विचार करें तो किताब उठा लीजिए। किसी प्रेरक किताब को उठाकर पढ़ना शुरु कर देने से आप पाएंगे कि आपके अंदर विचारों की नदियां-सी बह आई हैं। आपको तब पता चलेगा कि किताब तो आपमें विचार पैदा कर रही है। किताब आपके दिमाग को खोलती है, सोचने और विचारने को प्रभावित करती है। 

किताबें पढ़ें तो विषय बदलकर

किताबें पढ़ने का ये अर्थ बिल्कुल भी नहीं है कि आप कोई उपन्यास ही पढ़ते रहें। किताब को पढ़ने के लिए आप उसके विषय का चुनाव कर सकते हैं यानि के आप किताब बदल-बदल कर पढ़ सकते हैं। इससे आपको नए-नए विषयों में ज्ञान भी बढ़ेगा और इंटरेस्ट भी डेवलप होगा किताबों के प्रति। 

किताब को आप अपना शौक बना सकते हैं। किताबें आपकी साथी हैं उस समय जब आपके पास कुछ नहीं होगा करने को। किसी का साथ नहीं है, तो किताबें देती हैं आपको साथ। 

Advertisment
Advertisment