साइक्लोन तौकते से सावधान  – साइक्लोन तौकते साउथ अरबिया महासागर से लक्षदीप की तरफ आ रहा है। इसकी रफ़्तार धीरे धीरे बढ़ती जा रही है और अब ये तेज तूफ़ान और बारिश का रूप ले चुका है। इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट ने इन सभी रिपोर्ट्स को बताया है और वो इस पर गौर से निगरानी कर रहे हैं।

ये तूफ़ान इंडिया के वेस्ट किनारे के पास पहुंचेगा जहाँ केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु और महाराष्ट्र हैं। इन सभी स्टेट्स को अलर्ट करदिया गया है है हो  सकता है इस साइक्लोन से काफी नुकसान भी हो जाए। इसके अलावा साउथ गुजरात और दिउ के किनारे पर भी असर पढ़ने की सम्भावना है।

साइक्लोन तौकते से जुडी कुछ जरुरी बातें –

1. मुंबई के लोगों को साइक्लोन तौकते के बारे में चेतावनी दी गई है, मेयर किशोरी पेडनेकर ने जोर दिया। उन्होंने कहा कि यह 15 से 16 मई तक प्रभावी हो सकता है और 17 मई तक 150 से 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी तूफान में बदल सकता है।

2. आपातकालीन बचाव के लिए विभिन्न समुद्र तटों पर लगभग 100 लाइफगार्ड गश्त कर रहे हैं। प्रवक्ता ने जोर देकर कहा कि भारतीय नौसेना के जहाज विमान, हेलीकॉप्टर, फायर ब्रिगेड और आपदा राहत दल भी “राज्य प्रशासन को पूर्ण समर्थन देने के लिए तैयार हैं

3. मेयर ने कहा कि बांद्रा वर्ली सी लिंक आज और कल यातायात के लिए बंद रहेगा और चक्रवात की निगरानी में है। केरल के कोच्चि में शुक्रवार को भारी बारिश हुई।

4. केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) ने शनिवार को केरल और तमिलनाडु के लिए एक “ऑरेंज अलर्ट” जारी किया, जिसमें दावा किया गया कि इससे उक्त दो राज्यों में गंभीर बाढ़ की स्थिति पैदा हो सकती है।

5. अधिकारियों ने आगाह किया कि साइक्लोन तौकते की 12 घंटे के भीतर “गंभीर साइक्लोन तूफान” बनाने की संभावना है, और यह गुजरात के तटों की ओर बढ़ रहा है।

6. पांच राज्यों में शक्तिशाली चक्रवाती तूफान के लिए एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) की 50 से अधिक टीमें ड्यूटी पर हैं। “हम उन लोगों को स्थानांतरित करने की कोशिश कर रहे हैं जो मुंबई की सीमा में इस चक्रवात से प्रभावित होने की संभावना रखते हैं – पेडनेकर ने कहा।

7. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि रविवार तक केरल, कर्नाटक और गोवा के तटीय जिलों में अत्यधिक बारिश “बाढ़ और लैंड स्लाइड का कारण” बन रही है।

8. भारत में COVID-19 की घातक दूसरी लहर के बीच इस साल यह पहला चक्रवाती तूफान है।

9. मुंबई में आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के एक अधिकारी ने कहा कि 17 मई (सोमवार) के बाद महाराष्ट्र में तूफान का प्रभाव कम होने की संभावना है। चक्रवात तौकता के 18 मई की दोपहर के आसपास पोरबंदर और नलि के बीच गुजरात तट को पार करने की “बहुत संभावना” है।

10. आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, मछुआरों को मंगलवार तक अरब सागर में नहीं जाना चाहिए। पर्यटन गतिविधियों को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है।

Email us at connect@shethepeople.tv