ब्लॉग

क्या भारतीय शादियां सच में लंबी चलती हैं या ये सिर्फ़ एक भ्रम है?

Published by
Sonam

दुनिया में बाकी किसी भी देश के मुकाबले भारत में डायवोर्स की दर 1 प्रतिशत भी कम है जो कि बहुत अच्छी बात है। तो क्या इससे ये परिणाम निकल सकता है कि भारतीय शादियां लंबी चलती हैं? हम क्या बिल्कुल सही कर रहे हैं? क्या हम भारत की शादियों के लंबे चलने की टिप्स और भारतीय समाज में डायवोर्स रेट कम होने का कारण दुनिया के अन्य देश और पश्चिमी सभ्यता को दे सकते हैं? क्या हम भी दुनिया को बता सकते हैं कि कैसे भारत में शादियां जन्म जन्मांतर के लिए चलती हैं?

भारत में शादियों के लंबे चलने के कारण

ऐसा नहीं है कि जो शादियां लंबी चलती हैं वो हर तरह से सफल ही हों। पर फिर भी ऐसे क्या कारण हैं जो भारत की शादियों को इतना लंबा चलाते हैं ?

हम आज इस मुद्दे पर बात नहीं करेंगे कि भारतीय शादी लंबी चलने के साथ-सथ सफल है या नहीं बल्कि हम बात करेंगे उन मुद्दों पर जिनके कारण भारतीय शादियां लंबी चलती हैं।

1. समाज में डायवोर्स को अभी भी सामाजिक तौर पर स्वीकार नहीं किया जाता है

हमारे समाज में इस चीज से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता कि एक शादी में जोड़ा यानी कि पति और पत्नी खुश है या नहीं बल्कि उन्हें सिर्फ उनके ऊपरी और दिखावटी दृष्टि से फर्क पड़ता है जिसके कारण डाइवोर्स किसी भी तरह से समाज में एक सही हल नहीं माना जाता है।

हमारे आसपास ना जाने कितनी ही महिलाएं अपने रिश्तो में गंभीर घरेलू हिंसा सहती हैं लेकिन फिर भी वह किसी भी प्रकार से डायवोर्स को एक हल नहीं मानते हैं क्योंकि उनके लिए वह रिश्ता निभाना एक मजबूरी या फिर जिम्मेदारी बन कर रह जाता है।

2. हमारे समाज में डायवोर्स परिवार और समाज का मुद्दा माना जाता है

भले ही किसी रिश्ते में कितने ही विवाद , कितनी ही परेशानियां क्यों ना हो लेकिन समाज के लिए सबसे जरूरी है कि पति पत्नी का रिश्ता ऊपर से अच्छा दिखे। हमारे समाज में डायवोर्स सिर्फ दो लोगों के बीच का मुद्दा नहीं है बल्कि यह पूरे समाज और परिवार का मुद्दा बन जाता है।

हर पति पत्नी को डायवोर्स लेने से पहले यह सोचना पड़ता है कि उनके डाइवोर्स का प्रभाव उन से ज्यादा किसी दूसरे इंसान पर कितना पड़ेगा। डाइवोर्स का प्रभाव हमारे समाज में इतना ज्यादा है कि जिस घर में डायवोर्स का इस्तेमाल किया भी जाता है उस घर में लोग रिश्ता करने और उस परिवार को सामाजिक तौर से स्वीकार करने तक में हिचकिचाते हैं।

समाज की सामाजिक मंजूरी और समाज से निकल जाने का डर कहीं ना कहीं शादियों को लंबा चलाने का एक मुख्य कारण होता है जिस कारण पति पत्नी कोशिश करते हैं कि वह एक दूसरे के साथ ही सब कुछ एडजस्ट कर लें।

3. महिलाओं का इंडिपेंडेंट न होना

समाज और डायवोर्स के डर के अलावा महिलाओं का भारतीय समाज में इंडिपेंडेंट या आत्मनिर्भर न होना भी डायवोर्स के ना होने का बड़ा कारण होता है।

हमारे समाज में मुख्यतः रोटी कमाने वाले लोग पुरुष ही होते हैं जिस कारण महिलाएं उन पर पूरी तरह निर्भर होती है। शादी के बाद महिलाओं को पराया बोल कर उनके मायके वाले उनसे पल्ला झाड़ने की कोशिश करते हैं जिसके कारण डायवोर्स के बाद उन्हें किसी भी तरह का सपोर्ट देने से मना कर दिया जाता है।

इसलिए किसी भी तरह का फाइनैंशल सपोर्ट ना होने के कारण महिलाएं खुद को बेबस महसूस करती हैं और डाइवोर्स लेने से परहेज कर के शादी में हो रहे मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न को सहती हैं।

यह कारण शायद आपको या तो भारत में शादी के लंबे चलने पर गर्व महसूस करा सकता है या समाज का इतना पिछड़ा होने से उसे बदलने पर मजबूर कर सकते हैं।

Recent Posts

पूजा हेगड़े का कैसा रहा बचपन ? जानिए उनके बारे में 10 बातें

पूजा हेगड़े एक भारतीय मॉडल और एक्ट्रेस हैं, जो मुख्य रूप से तेलुगु और हिंदी…

20 mins ago

वीकेंड वॉच लिस्ट: इस वीकेंड पर क्या-क्या देख सकते हैं?

जुलाई के पूरे महीने में कई बेहतरीन फिल्में और वेब सीरीज रिलीज़ हो रही हैं।…

10 hours ago

विमेंस राइट्स: जानिए हमारे देश में महिलाओं के 5 सबसे प्रमुख अधिकार

विमेंस राइट्स को लेकर अभी भी पूरी तरह से लोगों में जागरूकता नहीं बढ़ी है…

11 hours ago

फिल्म “मिमी” की रिलीज़ से पहले जानिए कृति सैनॉन की 5 बेहतरीन फिल्मों के बारे में

उनकी बेहतरीन अदायगी के कारण उनकी फिल्में लगातार सफल हो रही हैं और फैंस उनके…

12 hours ago

केरल की पहली ट्रांसजेंडर RJ अनन्या अलेक्स की आत्महत्या के बाद उनके पार्टनर जीजू भी फ्लैट में मृत पाए गए

केरल की पहली ट्रांसजेंडर रेडियो जॉकी अनन्या अलेक्स की मंगलवार को अपने कोच्ची के फ्लैट…

14 hours ago

“एक मॉम फॉरएवर मॉम रहती है” :शेफाली शाह ऑन मदरहुड

2015 की फिल्म "दिल धड़कने दो" में नीलम का किदरार निभाकर शेफाली शाह ने एक…

15 hours ago

This website uses cookies.