ब्लॉग

क्या आपके बच्चे एक दूसरे से जलते हैं ? पढ़िए क्या कर सकती हैं आप

Published by
Mahima

जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं, वैसे-वैसे चीजें मुश्किल होती जाती हैं – जैसे कि उनका एक दूसरे से जलना , जिसे हम Sibling Rivalry भी कहते हैं। तो आइये जानते है इससे निकपटने के कुछ तरीके (end sibling rivalry hindi)

1 जब भी संभव हो, दखल न दें

बच्चों को अपने दम पर लड़ाई को ख़त्म करने की ज़रुरत है। उन्हें असहमति के साथ बातचीत और सामना करना सीखना होगा। उन्हें यह भी सीखने की ज़रूरत है कि कौन सी लड़ाई लड़ने के लायक है।

2 यदि आपको दखल देने की आवश्यकता है, तो निष्पक्ष रहें

एक बच्चे के साथ पक्ष लेने से केवल दूसरे बच्चे को अधिक गुस्सा और नाराज़गी होगी। अपने बच्चों को तब तक अलग रखे जब तक वे शांत न हों जाये। फिर अपने बच्चों को एक दूसरे पर उंगलियों दिखाए बिना या ब्लेम के बिना समस्या के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्हें उचित और सम्मानजनक तरीके से अपनी भावनाओं के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित करें। अगर ज़रुरत पड़े तो उन्हें इस तरह से लड़ाई को सुलझाने के लिए कहे जिससे वे दोनों एक बीच के रस्ते पे आये ।

और पढ़िए : New Moms के लिए 10 Best Gifts

3 जितना हो सके उतना निष्पक्ष रहे :

अपने बच्चों के साथ जितना हो सके बराबर व्यवहार करने की कोशिश करें (ये हमेशा आसान नहीं होता) और सुनिश्चित करें कि प्रत्येक बच्चे को काम और प्रिविलिज बराबर मिले। हर बच्चे को स्पेशल फील कराना बहुत ज़रूरी है, इसलिए प्रत्येक बच्चे पर इंडिविजुअल ध्यान दें।

4. उन्हें अच्छा काम करते हुए पकड़े

जब भी आप अपने बच्चों को अच्छी तरह से खेलते हुए, अपने खिलौने शेयर करते हैं, या बिना किसी लड़ाई के किसी समझौते पर पहुंचते हुए पकड़ते हैं, तो उनकी प्रशंसा करें। उन्हें बताएं कि आप उस व्यवहार को देखकर गर्व महसूस कर रहे हैं! आप एक रिवॉर्ड सिस्टम भी सेट कर सकते हैं जिसमें अच्छी तरह से खेलने पर उन्हें कुछ प्रिविलिज मिलेगा, जैसे कि टीवी देखने का ज़्यादा टाइम या वीडियो गेम खेलना, या अवार्ड, जैसे कि पार्क जाना ।

5 जिम्मेदारी को बराबर बांटें

जबकि एक बच्चा धमकाने के रूप में काम कर सकता है और दूसरा पीड़ित के रूप में (हालांकि, अगली बार, भूमिकाएं शायद स्विच हो सकती हैं), केवल एक बच्चे को दोष न दे। यहां तक ​​कि अगर उनमें से एक ने “इसे शुरू किया,” यह स्पष्ट हो कि “पीड़ित” को हर उस स्पैट में शामिल नहीं होना है जहाँ उसने उसे बुलाया है।

और पढ़िए : इन 5 Parenting Mistakes करने से बचें

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

10 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

11 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

12 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

13 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

13 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

16 hours ago

This website uses cookies.