कोरोना की इस दूसरी वेव में कई नए तरह के फंगल और वायरल इन्फेक्शन्स और एलर्जिक रिएक्शंस लोगों में देखें जा रहे हैं। ऐसे भी इन्फेक्शन्स हैं जो कोरोना के वजह से फिर से इंसान के शरीर में प्रवेश कर रहे हैं। इन दिनों ऐसे ही एक इन्फेक्शन पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस के बारे में बहुत चर्चाएं हो रही हैं। जानिए इसके बारे में ये सारी बातें:

1. क्या है पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस?

ये एक प्रकार का एलर्जिक रिएक्शन है जो अस्पेरगिलोसिस स्पीशीज के कारण होता है। किसी पेशेंट की प्री-एक्सिस्टिंग कंडीशन को देखते हुए ये बीमारी अपना गंभीर रूप भी धारण कर सकती है। अगर सही समय पे इसका इलाज नहीं किया गया तो इसके कारण हमें और भी बहुत सारी रेस्पिरेटरी बीमारियां हो सकती है।

2. क्या है इसके लक्षण?

पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस के कई तरह के लक्षण हो सकते हैं। इनमें से प्रमुख है सीने में दर्द, फीवर और कफ में खून आना। इन सब के कारण आपको सांस लेने में बहुत तकलीफ हो सकती है।

3. किन्हें हो सकता है पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस?

वैसे तो इस एलर्जिक बीमारी का कोई विशेष पेशेंट नहीं होता है। पर जिन पेशेंट्स ने आईसीयू में ज़्यादा समय बिताया है उनके लिए इसका खतरा ज़्यादा है। जिन पेशेंट्स को ऑर्गन ट्रांसप्लांट से गुज़ारना पड़ा है और जिन्होनें काफी वक़्त से स्टेरॉइड्स का सेवन किया है वे भी इसके शिकार हो सकते हैं।

4. क्या है पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस और कोरोना की लिंक?

कोरोना के कारण बहुत सारे लोग लम्बे समय तक आईसीयू में समय बिता चुके हैं। कई लोगों को भारी मात्रा में स्टेरॉइड्स का भी सेवन करना पड़ा है। ऐसे लोगों को कोरोना के साथ-साथ ये बीमारी हो सकती है। डॉक्टर्स बताते हैं की इससे डरने की नहीं है बल्कि इसके बारे में सही जानकारी रखने की ज़रूरत है।

5. क्या है इसका इलाज?

पल्मोनरी अस्पेरगिलोसिस को जितना जल्दी डिटेक्ट किया जाए उतना अच्छा है। इसके शुरुवाती दिनों में इसे एंटीफंगल मेडिकेशन से ठीक किया जाता है और बाद में हो सकता है की आपको सर्जिकल हेल्प लगें। इसको अच्छे से जांच किया जा सकता है लेकिन इसके कारण लंग्स को हुए नुक्सान को पूरी तरह से रिकवर नहीं किया जा सकता है। इसलिए अगर आपको इसके लक्षण महसूस हों तो जल्द से जल्द डॉक्टर को संपर्क करें।

Email us at connect@shethepeople.tv