ब्लॉग

कौन देता है लड़कियों को पीरियड्स की शर्म ?

Published by
Ayushi Jain

बाज़ार से चुपके से पैड खरीदना, पैड को कागज़ में लपेटकर घर लेकर जाना, घर में पैड्स को किसी खुफ़िया जगह रखना, पीरियड्स में कपड़ों पर लगे stain को बड़ी शर्म के साथ छुपाना और पीरियड्स न बताकर, हमेशा पेट-दर्द का बहाना मारना। यह सब, हर लड़की के लिए बेहद सामान्य है। और क्या पीरियड्स शर्म की बात है ?

लेकिन सवाल यह है, कि लड़कियों के लिए यह सब सामान्य बनाया किसने ?

  • पहली बार पीरियड्स आने पर, लड़की को माँ ने सबसे अलग ले जाकर इसके बारे में समझाया। फिर आगे से जब भी पीरियड्स की बात हुई, तो सबसे अलग जाकर, धीमी आवाज में ही हुई। और लड़की को पहला इशारा मिल गया।
  • जब पहली बार school में लड़की के कपड़ों पर stain लगा, तो school के बच्चों ने उसके पीठ-पीछे अजीब बातें बनाई। ये बातें जब लड़की तक पहुँची, तो उसे अपना दूसरा इशारा मिल गया।
  • अब फिर जब पहली बार लड़की को खुद से पैड खरीदना पड़ा, तो उसे पैड कागज़ में लपेटकर दिया गया। आस-पास के लोगों ने बड़ी अलग नज़रों से लड़की को घूरा भी। इन अलग-सी नज़रों से उसका पहली बार सामना हुआ। और लड़की को तीसरा इशारा मिल गया।

किसी भी लड़की को पीरियड्स में होने वाली शर्म और हीन-भावना, आप और हम देते है। और फिर इसके बाद लड़की के लिए यही शर्म  सामान्य हो जाती है।

बेटियों को समाज में भेजने से पहले, हमें जरूरत है, कि हम उनके साथ घर पर पीरियड्स से जुड़ी तमाम बातें करें। और इस बार धीमी आवाज में बिल्कुल नहीं, बल्कि एकदम नॉर्मल गपशप की तरह। उनको यह समझाए कि पीरियड्स, शरीर की अन्य गतिविधियों की तरह ही बिल्कुल सामान्य है। इससे पीरियड्स में होने वाली शर्म, लड़कियों में सामान्य नहीं बनेगी। बेटियों को यह भी साफ बताएँ, कि कुछ लोग पीरियड्स को एक शर्म का विषय मानते है। इसीलिए जब वह बाहर जाएगी, तो उसको कुछ ऐसे लोगों का भी सामना करना होगा। ऐसी बातें पहले ही साफ करने से, लड़कियां खुद को mentally तैयार कर पाएंगी और समाज की उन अजीब-सी नज़रों का हिम्मत से सामना कर सकेंगी। आपकी बेटी की हिम्मत, सबकी बेटियों के लिए एक सुरक्षित समाज की नींव होगी।

Recent Posts

कमलप्रीत कौर कौन हैं? टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में पहुंची ये भारतीय डिस्कस थ्रोअर

वह युनाइटेड स्टेट्स वेलेरिया ऑलमैन के एथलीट के साथ फाइनल में प्रवेश पाने वाली दो…

1 hour ago

टोक्यो ओलंपिक 2020: भारतीय डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर फ़ाइनल में पहुंची

भारत टोक्यो ओलंपिक में डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर की बदौलत आज फाइनल में पहुचा है।…

2 hours ago

क्यों ज़रूरी होते हैं ज़िंदगी में फ्रेंड्स? जानिए ये 5 एहम कारण

ज़िंदगी में फ्रेंड्स आपके लाइफ को कई तरह से समृद्ध बना सकते हैं। ज़िन्दगी में…

13 hours ago

वर्कप्लेस में सेक्सुअल हैरासमेंट: जानिए क्या है इसको लेकर आपके अधिकार

किसी भी तरह का अनवांटेड और सेक्सुअली डेटर्मिन्ड फिजिकल, वर्बल या नॉन-वर्बल कंडक्ट सेक्सुअल हैरासमेंट…

14 hours ago

क्या है सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज? जानिए इनके बारे में सारी बातें

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज किसी को भी हो सकता है और अगर सही वक़्त पर इलाज…

14 hours ago

This website uses cookies.