ब्लॉग

बच्चों को इस तरह से सिखाएं गुड टच और बैड टच में फर्क

Published by
Nayan yerne

देश  में जिस तरह से बाल शोषण और बच्‍चों की हत्‍याओं के केस बढ़ रहे हैं, ऐसे में ये जरूरी हो जाता है कि आप अपने बच्‍चों को गुड टच और बैड टच का फर्क सिखाएं | बैड टच- जब कोई आपको इस तरह से टच करे कि आपको उससे बुरा लगे या आप सहज महसूस कर रहे हैं तो ये बैड टच हो सकता है. साथ ही अगर कोई अनजान व्यक्ति आपके प्राइवेट पार्ट्स या कई अन्य जगह आपको गलत तरीके से छूने की कोशिश करे तो यह बैड टच होता है. कोई आपको प्यार करने के लिए मदद करने के लिए आपको टच करता है तो आप इसे गुड टच कहेंगे. गुड टच और बैड टच

 1. किस उम्र में बताएं क्‍या सही-क्‍या गलत

हर बच्‍चे की ग्रोथ अलग होती है. वैसे इस तरह की बातें सिखाने के लिए कोई खास उम्र निश्चित नहीं है. बस ये ध्‍यान रखना जरूरी है कि उसे ये सब तब समझाएं जब वह इन्‍हें समझने के लायक हो जाए. आप चाहें तो कम उम्र से शुरुआत कर सकते हैं. दो या तीन साल की उम्र से ही, बच्‍चे को खेल-खेल में या बातों-बातों में बताएं कि कहां टच करना सही है और कहां गलत.

 2.गुड टच और बैड टच के बीच लाइन

ये काफी मुश्किल होता है कि बच्‍चे को वो बॉडी पार्ट्स बताएं, जहां अगर कोई प्‍यार से भी टच करे तो उसे रोका जाए. इसके लिए पेरेंट्स बॉडी के उन पार्ट्स के लिए किसी नाम का प्रयोग करें जिससे बच्‍चा उसे पहचान पाए. जैसे बच्‍चे को बताएं कि जिन पार्ट्स को कवर करने के लिए आप स्विमसूट पहनते हैं उन्‍हें पेरेंट्स के अलावा और कोई नहीं छू सकता. इससे वे शरीर के भागों में भेद करना सीखेंगे.

अक्‍सर ऐसा देखा गया है कि बाल शोषण करने वाले लोग बच्‍चों को प्‍यार से अपने पास बुलाते हैं. जिससे बच्‍चा समझ नहीं पाता कि उसका शोषण हो रहा है कि वो व्‍यक्ति उन्‍हें प्‍यार कर रहा है.

3. बच्चों को अपने शरीर का मालिक बनने दें

जब बच्चे 3–4 साल के हो जाए तो उन्हें समझाये कि उनके शरीर पर केवल उनका ही अधिकार है. अगर किसी के द्वारा उनके शरीर को छूना अच्छा न लगे तो उसका कड़ा विरोध करें और ऐसी बाते आपको आकर जरुर बताएं.

4. बच्चों के व्यवहार पर नजर रखें

बच्चों के साथ जब भी कुछ गलत होता है तो उनके व्यहार में परिवर्तन देखने को मिलता है. ऐसे में उसके मन को पढ़ने की कोशिश करें और उनसे खुलकर बात करे. बच्चे को खुलकर इस बारे में बात कर बताएं कि आपको लिए यह अच्छा है और यह आपके लिए बुरा है.

5. बैड टच हो तो क्‍या करे बच्‍चा

बच्‍चे को सिखाएं कि नो का मतलब है नो. बच्‍चे को बताएं कि किसी भी सूरत में वे बॉडी पॉर्ट्स को टच करने के लिए नो ही कहेंगे. अगर इसके बावजूद भी बच्‍चे के साथ ऐसा हो, तो वे डरे नहीं और मदद के लिए चिल्‍लाएं. उन्‍हें बताएं कि उनकी एक आवाज पर कितने लोग उनकी मदद के लिए पहुंच जाएंगे. बच्‍चे को ये भी बताएं कि वे परिस्थिति को देखें-समझें और किसी सेफ जगह पहुंचकर चिल्‍लाएं या अलार्म बजाएं.

पढ़िए : क्या आप अपने बच्चों के सेक्स से जुड़े सवालों के सही सही जवाब देते हैं ?

 

Recent Posts

शादी का प्रेशर: 5 बातें जो इंडियन पेरेंट्स को अपनी बेटी से नहीं कहना चाहिए

हमारे देश में शादी का प्रेशर ज़रूरत से ज़्यादा और काफी बार बिना मतलब के…

11 hours ago

तापसी पन्नू फेमिनिस्ट फिल्में: जानिए अभिनेत्री की 6 फेमस फेमिनिस्ट फिल्में

अभिनेत्री तापसी पन्नू ने बहुत ही कम समय में इंडियन एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में अपनी अलग…

12 hours ago

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

13 hours ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

14 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

14 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

16 hours ago

This website uses cookies.