PCOS/PCOD को नियंत्रित करने के 5 घरेलू नुस्खे

PCOS, एक जटिल स्थिति है जिसमें महिलाओं को अनियमित पीरियड्स और/या एक या दोनों अंडाशय पर कुछ छोटे सिस्ट के विकास का अनुभव होता है। आइए जानते हैं इसे ठीक करने के कुछ घरेलू उपाय आज के इस हैल्थ ब्लॉग में-

Vaishali Garg
22 Nov 2022
PCOS/PCOD को नियंत्रित करने के 5 घरेलू नुस्खे

PCOS/PCOD

मुलेठी को यष्टिमधु (Yashtimadhu) और जेष्टमधी (Jeshthamadh) के नाम से भी जाना जाता है। यह एण्ड्रोजन को एस्ट्रोजेन (महिला हार्मोन) में परिवर्तित करता है। आप एक कप गर्म पानी ले सकते हैं, इसमें मुलेठी की जड़ का पाउडर मिलाएं और दो महीने तक इसका उपयोग करें।

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS), एक जटिल स्थिति है जिसमें महिलाओं को अनियमित पीरियड्स और/या एक या दोनों अंडाशय पर कुछ छोटे सिस्ट के विकास का अनुभव होता है। इसके कारण महिलाओं में पुरुष हार्मोन (जो महिलाओं में भी मौजूद है लेकिन कम मात्रा में) का अधिक उत्पादन होता है।


PCOS/PCOD के लिए सुझाए गए 5 घरेलू नुस्खे(Home Remedies)

सुझाए गए उपायों में मुख्य रूप से जीवनशैली में बदलाव और लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए कुछ हर्बल उपचार शामिल हैं। यह उपाय कुछ इस प्रकार हैं:

1. मुलेठी

मुलेठी को यष्टिमधु (Yashtimadhu) और जेष्टमधी (Jeshthamadh) के नाम से भी जाना जाता है। पीसीओएस के प्रबंधन के लिए इसे फायदेमंद पाया गया है। यह एण्ड्रोजन के खिलाफ कार्य करता है और एक एंजाइम के उत्पादन को भी उत्तेजित करता है जो एण्ड्रोजन को एस्ट्रोजेन (महिला हार्मोन) में परिवर्तित करता है। आप एक कप गर्म पानी ले सकते हैं, इसमें मुलेठी की जड़ का पाउडर मिलाएं और दो महीने तक इसका उपयोग करें।

2. अलसी

अध्ययनों में यह पाया गया कि अलसी में एक कंपाउंड होता है जो शरीर में एण्ड्रोजन के स्तर को कम करने में सहायक होता है। इससे पीसीओएस के लक्षणों में कमी आती है जैसे शरीर के बालों की असामान्य वृद्धि कम होना। यह वजन घटाने में भी मददगार पाया गया। अलसी के बीजों को मिल्कशेक और स्मूदी के रूप में अपने दैनिक आहार में शामिल करना या सीधे इनका सेवन करना आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है।

3. दालचीनी

दालचीनी इंसुलिन रिसेप्टर्स के कार्य में सुधार करती है, जो पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं के लिए लाभकारी है। शोधकर्ताओं द्वारा यह भी पाया गया कि आहार में दालचीनी का सेवन करने से पीरियड्स की अनियमितता को ठीक किया जा सकता है। रोजाना इसे चाय के साथ या पानी में मिलाकर सेवन किया जा सकता है।

4. कैमोमाइल चाय

अध्ययनों में कैमोमाइल चाय को पीसीओएस के लक्षणों को कम करने के लिए पाया गया था। इसी अध्ययन में, जब कैमोमाइल के अर्क के साथ इलाज के बाद एक माइक्रोस्कोप के तहत अंडाशय के ऊतकों को देखा गया, तो पीसीओएस के लक्षण कम हो गए। हालांकि, इसका पता लगाने के लिए मनुष्यों पर अधिक शोध की आवश्यकता है। आप एक बैग या एक चम्मच कैमोमाइल चाय पत्ती गर्म पानी में मिलाकर उपयोग कर सकते है और इसका काढ़ा बनाकर सेवन कर सकते हैं।

5. तुलसी

तुलसी एण्ड्रोजन और  इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित कर सकती है। यह एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट भी है। सुबह खाली पेट कम से कम 10 पत्ते चबाएं। तुलसी के पानी को उबालकर नियमित रूप से सेवन करें।

अनुशंसित लेख