Advertisment

जानिए महिलाओं के लिए कितनी खतरनाक है Social Media Trolling?

डिजिटल कनेक्टिविटी के युग में सोशल मीडिया शक्तिशाली उपकरण बन गया है। लेकिन दो दिन पहले चेन्नई में एक महिला ने ऑनलाइन ट्रोलिंग से परेशान होकर अपनी जान दे दी। आइये जानते हैं सोशल मीडिया ट्रोलिंग महिलाओं के लिए कितना खतरनाक है।

author-image
Priya Singh
New Update
How online trolling affects mental health

How Dangerous Social Media Trolling Is For Women's?: डिजिटल कनेक्टिविटी के युग में, सोशल मीडिया संचार, नेटवर्किंग और आत्म-अभिव्यक्ति का एक शक्तिशाली उपकरण बन गया है। लेकिन इस कनेक्टिविटी का एक स्याह पक्ष भी है, खासकर उन महिलाओं के लिए जिन्हें ऑनलाइन उत्पीड़न के एक अनोखे और अक्सर अधिक गंभीर रूप का सामना करना पड़ता है जिसे ट्रोलिंग के रूप में जाना जाता है। सोशल मीडिया ट्रोलिंग में व्यक्तियों को डराने या अपमानित करने के उद्देश्य से दुर्भावनापूर्ण टिप्पणियां, धमकियां और अन्य प्रकार के दुरुपयोग शामिल हैं। महिलाओं के लिए, ऐसे व्यवहार के प्रभाव विशेष रूप से हानिकारक और दूरगामी होते हैं। आइये जानते हैं सोशल मीडिया ट्रोलिंग महिलाओं के लिए कितना खतरनाक है।

Advertisment

जानिए महिलाओं के लिए कितनी खतरनाक है सोशल मीडिया ट्रोलिंग?

दो दिन पहले हम सभी के सामने एक घटना आई जिसमें चेन्नई में एक महिला ऑनलाइन ट्रोलिंग से परेशान होकर अपनी जान दे दी। कुछ दिनों पहले एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था जिसमें एक छोटी बच्ची को टीन सेड पर लटकते देखा गया। बच्ची फाकी समय तक टीन शेड पर फंसी रही। इसके बाद आस-पड़ोस के लोगों की मदद से उसे बचाया गया। बच्ची की जान बच गई लेकिन इस वाकिये के बाद लोगों ने उस बच्ची की माँ को ऑनलाइन ट्रोल करना शूरू कर दिया जिससे परेशान होकर माँ ने अपनी जान दे दी। यह घटना हमें यह सोचने पर मजबूर करती है कि ऑनलाइन ट्रोलिंग महिलाओं के लिए कितनी खतरनाक हो सकती है।

ऑनलाइन ट्रोलिंग इस तरह से है महिलाओं के लिए खतरनाक 

Advertisment

1. मनोवैज्ञानिक प्रभाव

सोशल मीडिया ट्रोलिंग का महिलाओं पर गहरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ सकता है। नकारात्मक टिप्पणियों और धमकियों की लगातार बौछार से चिंता, डिप्रेसन और कम आत्मसम्मान हो सकता है। जिन महिलाओं को निशाना बनाया जाता है वे अलग-थलग और शक्तिहीन महसूस कर सकती हैं और अपने मानसिक स्वास्थ्य में उल्लेखनीय गिरावट का अनुभव कर सकती हैं। यह निरंतर तनाव दीर्घकालिक मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में भी योगदान दे सकता है।

2. शारीरिक क्षति की धमकियाँ

Advertisment

ट्रोलिंग अक्सर शारीरिक हिंसा या यौन उत्पीड़न की धमकियों तक बढ़ जाती है। ये धमकियाँ, चाहे गंभीरता से लेने का इरादा हो या नहीं, भय पैदा करती हैं और वास्तविक दुनिया में परिणाम दे सकती हैं। महिलाएं अपनी सुरक्षा के डर से अपनी दैनिक दिनचर्या बदल सकती हैं, कुछ स्थानों से दूर जा सकती हैं या यहां तक कि स्थानांतरित भी हो सकती हैं। इससे असुरक्षा और डर की व्यापक भावना पैदा होती है।

3. व्यावसायिक जीवन पर प्रभाव

पेशेवर क्षेत्रों में महिलाएं, विशेष रूप से पब्लिक फेसिंग वाली भूमिकाओं में, ट्रोलिंग के कारण करियर को महत्वपूर्ण नुकसान हो सकता है। नकारात्मक और अपमानजनक कॉमेंट्स प्रतिष्ठा को धूमिल कर सकती हैं, जिससे अवसर खो सकते हैं, पेशेवर प्रतिष्ठा में कमी आ सकती है और यहाँ तक कि नौकरी भी जा सकती है। यह उन उद्योगों में विशेष रूप से सच है जो पत्रकारिता, मनोरंजन और राजनीति जैसे सार्वजनिक धारणा को महत्व देते हैं।

Advertisment

4. मौन और स्व-सेंसरशिप

निशाना बनाए जाने का डर महिलाओं को आत्म-सेंसर करने या पूरी तरह से ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म से हटने के लिए प्रेरित कर सकता है। यह न केवल उनकी आवाज़ को दबाता है बल्कि ऑनलाइन कम्युनिटी को विविध दृष्टिकोण और योगदान से भी वंचित करता है। ऑनलाइन महिलाओं की आवाज़ को दबाने से लैंगिक असंतुलन कायम होता है और लैंगिक समानता की दिशा में प्रगति बाधित हो सकती है।

5. सामाजिक और संबंध तनाव

Advertisment

ट्रोलिंग से व्यक्तिगत संबंधों और सामाजिक मेलजोल में तनाव आ सकता है। मित्र और परिवार के सदस्य भी लक्ष्य बन सकते हैं या संगति से तनाव महसूस कर सकते हैं, जिससे समर्थन नेटवर्क टूट सकता है। लक्षित किए जाने से जुड़ा कलंक और शर्म पीड़ितों को और भी अलग-थलग कर सकता है, अकेलेपन की भावनाओं को बढ़ा सकता है।

6. कानूनी चुनौतियाँ

मुद्दे की गंभीरता के बावजूद, दुनिया भर में कानूनी प्रणालियाँ अक्सर ऑनलाइन उत्पीड़न से निपटने के लिए अपर्याप्त हैं। अपर्याप्त कानूनों, प्रवर्तन चुनौतियों और अपराधियों की गुमनामी के कारण महिलाओं को सुरक्षा या न्याय पाना मुश्किल हो सकता है। कानूनी सहायता की कमी के कारण महिलाएं अधिक असुरक्षित महसूस कर सकती हैं और घटनाओं की रिपोर्ट करने की संभावना कम हो सकती है।

7. दीर्घकालिक परिणाम

सोशल मीडिया ट्रोलिंग के दीर्घकालिक परिणाम तत्काल मनोवैज्ञानिक और व्यावसायिक प्रभावों से आगे बढ़ सकते हैं। महिलाएं निरंतर आघात से पीड़ित हो सकती हैं और उनमें ऑनलाइन बातचीत के प्रति स्थायी अविश्वास विकसित हो सकता है। इससे डिजिटल अर्थव्यवस्था और व्यापक सामाजिक जुड़ाव में उनकी भागीदारी सीमित हो सकती है, जिससे व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास में बाधा आ सकती है।

#Social media Dangerous Women's ऑनलाइन ट्रोलिंग Social Media Trolling
Advertisment