Advertisment

Online Trolling मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती है?

डिजिटल युग में ऑनलाइन ट्रोलिंग एक व्यापक मुद्दा बन गया है। ट्रोलिंग का शिकार होने वाले लोग अक्सर कई मानसिक समस्याओं का शिकार बन जाते हैं। यह उनकी मानसिक स्थिति के लिए बहुत ही नुकसानदायक साबित होती है।

author-image
Priya Singh
New Update
How online trolling affects mental health

How online trolling affects mental health: डिजिटल युग में ऑनलाइन ट्रोलिंग एक व्यापक मुद्दा बन गया है, जो व्यक्तियों के मानसिक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल रहा है। ट्रोलिंग में अक्सर लोग को परेशान या क्रोधित करने के इरादे से शत्रुतापूर्ण, उत्तेजक या चोट पहुंचाने वाले संदेश भेजना शामिल है। ट्रोलिंग का शिकार होने वाले लोग अक्सर कई मानसिक समस्याओं का शिकार बन जाते हैं।यह उनकी मानसिक स्थिति के लिए बहुत ही नुकसानदायक साबित होती है। कुछ लोग इसका शिकार होने के बाद शर्म और ग्लानी की भावना के साथ आत्महत्या तक कर लेते हैं।इसलिए जैसे-जैसे लोग ऑनलाइन गतिविधियों में संलग्न हो रहे हैं, ट्रोलिंग के मनोवैज्ञानिक प्रभावों को समझना इसके प्रभाव को कम करने के लिए रणनीति विकसित करने के लिए महत्वपूर्ण है।

Advertisment

ऑनलाइन ट्रोलिंग मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती है? 

1. चिंता और तनाव का बढ़ना

ऑनलाइन ट्रोलिंग के शिकार लोग अक्सर चिंता और तनाव के हाई लेवल का अनुभव करते हैं। नकारात्मक टिप्पणियों और व्यक्तिगत हमलों के निरंतर संपर्क से व्यक्ति अभिभूत और असुरक्षित महसूस कर सकते हैं। यह लगातार तनाव एकाग्रता में कठिनाई, नींद में खलल और बेचैनी की सामान्य भावना पैदा कर सकता है, जिससे जीवन के व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों पहलू प्रभावित हो सकते हैं।

Advertisment

2. डिप्रेसन और कम आत्मसम्मान

लंबे समय तक ऑनलाइन ट्रोलिंग के संपर्क में रहने से डिप्रेसन हो सकता है और आत्म-सम्मान में उल्लेखनीय गिरावट आ सकती है। ट्रोल अक्सर व्यक्तिगत विशेषताओं, विश्वासों या कमजोरियों को निशाना बनाते हैं, जिससे पीड़ित को बेकार और अलग-थलग महसूस होता है। इसके परिणामस्वरूप उदासी, निराशा की भावनाएँ और आत्म-मूल्य की भावना कम हो सकती है। कुछ के लिए, प्रभाव इतना गंभीर है कि इसके लिए प्रोफेसनल मानसिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है।

3. सामाजिक निकासी

Advertisment

बार-बार ट्रोलिंग का शिकार होने वाले व्यक्ति ऑनलाइन और ऑफलाइन सामाजिक संपर्क से दूर होना शुरू कर सकते हैं। आगे  उत्पीड़न के डर से खुद को अलग-थलग कर लिया जा सकता है, जहां पीड़ित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और अन्य डिजिटल मंचों से बचते हैं। यह सामाजिक अलगाव वास्तविक जीवन की बातचीत तक बढ़ सकता है, जिससे व्यक्तिगत संबंधों और समर्थन नेटवर्क पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है।

4. पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पीटीएसडी)

कई मामलों में, ऑनलाइन ट्रोलिंग के परिणामस्वरूप पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पीटीएसडी) जैसे लक्षण हो सकते हैं। पीड़ितों को दर्दनाक ऑनलाइन इंटरैक्शन के बारे में फ्लैशबैक, गंभीर चिंता और अनियंत्रित विचारों का अनुभव हो सकता है। ये लक्षण दुर्बल करने वाले हो सकते हैं और इन्हें प्रबंधित करने के लिए गहन चिकित्सीय हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है।

Advertisment

5. शारीरिक स्वास्थ्य पर प्रभाव

ऑनलाइन ट्रोलिंग के कारण होने वाला तनाव और चिंता शारीरिक रूप से प्रकट हो सकती है, जिससे कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं। क्रोनिक तनाव को हृदय संबंधी समस्याओं, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली में योगदान देने के लिए जाना जाता है। ट्रोलिंग के शिकार लोगों को सिरदर्द, थकान और तनाव से संबंधित अन्य शारीरिक लक्षणों का भी अनुभव हो सकता है।

6. दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप

ट्रोलिंग का मनोवैज्ञानिक बोझ दैनिक गतिविधियों और जिम्मेदारियों में हस्तक्षेप कर सकता है। पीड़ितों को काम या पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करना चुनौतीपूर्ण लग सकता है, जिससे उत्पादकता और शैक्षणिक प्रदर्शन में कमी आ सकती है। भावनात्मक प्रभाव निर्णय लेने की क्षमताओं को भी प्रभावित कर सकता है और अनुपस्थिति की ओर ले जा सकता है, जिससे पीड़ित की प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ और भी जटिल हो सकता है।

mental health मानसिक स्वास्थ्य Online Trolling ऑनलाइन ट्रोलिंग पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर
Advertisment