पीरियड में रैशज –  हर महीने महिलाओं को पीरियड्स का सामना करना पड़ता है, इसके कारण महिलाओं को कई परेशानियों को झेलना पड़ता है। जैसे कि पेट दर्द, मूड स्विंग और आदि। वहीं पीरियड के दौरान पैड के कारण रैशेज की समस्या भी होती है। दरअसल लंबे समय तक एक पैड का या लो क्वालिटी का पैड का इस्तेमाल करने से यह समस्या होती है। वही रैशज की समस्या से आप घर में ही राहत पा सकती हैं। पीरियड्स में रेसिस की समस्या को दूर करने के लिए यह 5 टिप्स।

1. नियमित रूप से सफाई करें

पीरियड के दौरान प्राइवेट पार्ट को अच्छे से साफ नहीं करने से भी रैशेज होता है। महिलाओं के पीरियड्स के दिनों में नहाते वक्त सफाई करनी चाहिए। साथ ही जितनी बार भी आप टॉयलेट जाएं उस वक्त भी उससे अच्छे से धो लें, ताकि कीटाणु अच्छे से साफ हो जाएं। इस वक्त हाइजीन का पूरा ध्यान रखना जरूरी होता है।

2. समय पर पैड बदलें

कई महिलाएं पैैड को सुबह से लेकर रात तक पहने रहती हैं। इसके कारण आपके जांघों में रैशज हो जाते हैं। इसीलिए पीरियड के पहले और दूसरे दिन 6 घंटे में पैड बदले। वहीं चौथे और पांचवें दिन में 8 से 9 घंटे बाद पैड बदले।

3. एंटीसेप्टिक का इस्तेमाल करें

मार्केट में रैैैशज से बचने के लिए कई तरह की क्रीम आती है। क्रीम का इस्तेमाल करने से पीरियड्स के दौरान होने वाली रैशेज को दूर किया जा सकता है। जिस वक्त आप पैड बदलते हैं उस वक्त इस एंटीसेप्टिक क्रीम का इस्तेमाल करें। वही इससे इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह लें, क्योंकि कई बार ऐसा क्रीम इस्तेमाल करने से इंफेक्शन का खतरा रहता है।

4. अच्छे क्वालिटी का पैड इस्तेमाल करें

हमेशा अच्छे क्वालिटी का सेनेटरी नैपकिन इस्तेमाल करें, जो आपके ब्लडिंग को अब्सर्ब कर सकें और लंबे समय तक चले। लो क्वालिटी का पैड इस्तेमाल करने से त्वचा छिल जाती है और रैशज हो जाते हैं। साथ ही इससे इंफेक्शन होने का भी खतरा रहता है।

Email us at connect@shethepeople.tv