Love Jihad Controversy: जानिए लव जिहाद का सच और एंटी कन्वर्जन लॉ को

सरकार के लिए "लव जिहाद" का असली मतलब है कि लव ही जिहाद है इसलिए प्रेम करना ही छोड़ दो क्योंकि पहले जहाँ कपल्स घर से भाग कर आसानी से शादी कर लिया करते थे, इस लॉ के बाद ये असंभव हो गया है। आइए जानते हैं लव जिहाद के बारे में इस ब्लॉग के माध्यम से

Aastha Dhillon
23 Jan 2023
Love Jihad Controversy: जानिए लव जिहाद का सच और एंटी कन्वर्जन लॉ को

Love Jihad

Love Jihad Controversy: भारतीय संविधान ने आज से लगभग 70 साल पहले देश के हर नागरिक को कुछ बुनियादी हक (Fundamental Rights) दिये हैं जिन्हें न तो कोई व्यक्ति, न सरकार हमसे छीन सकती है। इन मौलिक अधिकारों में अपनी पसंद के व्यक्ति से शादी करना भी शामिल है और इस बात को सुप्रीम कोर्ट ने हादिया केस, 2018 में रीस्टेबलिश भी किया लेकिन शायद भारतीय जनता पार्टी के लोगों को ये बातें समझ नहीं आतीं इसलिए 'लव जिहाद' के नाम पर नागरिकों से इंटर फेथ मैरिज करने का राइट और महिलाओं से उनकी ऑथोरिटी छीनने चल दिये।

क्या है उत्तर प्रदेश का ऐंटी लव जिहाद ऑर्डिनेंस?

इस ऑर्डिनेंस के मुताबिक बल, जबर्दस्ती, धोखे या "शादी के लिए लुभाने" के तरीके से किया गया धर्म परिवर्तन गैर ज़मानती अपराध(non bailable offence) है । साथ ही अगर दोनों पार्टनर्स में से किसी एक के पैरेंट्स या भाई-बहन शादी पर ऑब्जेक्शन उठाते हैं तो वो भी मान्य होगा। अब से हिंदू या मुस्लिम मैरिज ऐक्ट के तहत इंटर फेथ शादी करने के लिए स्टेट की परमीशन लेना भी अनिवार्य है जबकी पहले केवल स्पेशल मैरिज ऐक्ट में ऐसा करना होता था।

लॉ के आते ही पुलिस ने इंटर फेथ शादियों को रोकना शुरू कर दिया है और कुछ पुरानी शादियों पर भी सवाल खड़े कर दिये। खैर, महिलाओं ने इस लॉ का विरोध किया है। वे खुल कर कह रही हैं कि हमने प्यार किया है, हमारी शादी अमान्य नहीं है। उनका चीखना, चिल्लाना, पैरेंट्स के साथ जाने से मना करना, उनका गुस्सा दिखाता है।

हक की लड़ाई

इसमें कोई शक नहीं की ज़्यादातर केसेस में महिलाएँ ही शादी के बाद अपना स्टेटस बदलती हैं परंतु ये तो हर जगह, हर धर्म, हर शादी में होता है और इस माइंडसेट को चेंज होने में वक़्त लग सकता है। इसका ये मतलब नहीं कि लोगों को प्यार करने से ही रोक दिया जाए। इस लॉ की दूसरी समस्या ये है कि ये मुस्लिम पुरुषों को बुरी लाइट में प्रेजेंट करता है। इस लॉ के पीछे ये सोच है कि मुस्लिम पुरुष शादी करते ही हिंदू लड़कियों का धर्म परिवर्तन करवाने के लिए मजबूर करते हैं जबकि इस बात का कोई प्रूव नहीं मिला है। ये लॉ बेहद कम्यूनल, बेबुनियाद और बकवास है।

आखिर क्या है फोर्सफुल कन्वर्जन?

ज्यादतर स्टेट्स में पहले ही ऐंटी कंवर्शन लॉज़ मौजूद हैं जो फोर्सफुल कंवर्शन्स को रोकने का काम करते हैं फ़िर इस नये कानून को लाने की क्या ज़रूरत पड़ गयी? दरअसल सरकार के लिए "लव जिहाद" का असली मतलब है कि लव ही जिहाद है इसलिए प्रेम करना ही छोड़ दो क्योंकि पहले जहाँ कपल्स घर से भाग कर आसानी से शादी कर लिया करते थे, इस लॉ के बाद ये असंभव हो गया है। शादी का प्रोसीजर इतना लम्बा और पेचीदा है कि स्टेट से लेकर भाई-बहन तक हर कोई इसमें इन्वोल्व हो जाएगा और शादी को रोक सकेगा। 

Read The Next Article