एक रिसर्च में सामने आया है कि 25 वर्ष से 29 वर्ष के बीच की सिर्फ 7.9 फीसदी महिलाएं हफ्ते में दो से तीन बार मास्टरबेशन करती हैं, जबकि 23.4 फीसदी मर्द हफ्ते में दो से तीन बार मास्टरबेशन करते हैं। मास्टरबेशन सेक्स के बिना ऑर्गेज्म (orgasm) पाने का आसान तरीका है। ऑर्गेज्म चाहे जैसा हो हमेशा लाभदायक ही होता है। मास्टरबेशन को लेकर लोगों में कई तरह के भ्रम होते हैं। लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि मास्टरबेशन आपके शरीर के लिए कितना ज़रूरी और अच्छा है। मास्टरबेशन के फायदे जानिए

image

मास्टरबेशन करने से-

-​पीरियड और बॉडी पेन में आराम मिलता है। मास्टरबेशन के दौरान अगर यूट्राइन कॉन्ट्रैक्शन महसूस होता है तो इससे पीरियड ब्लड आसानी से बाहर आ जाता है, जिससे उन दिनों में पेट दर्द और ऐंठन नहीं होती।

-सर्वाइकल कैंसर का खतरा कम हो जाता है। मेडिकल रिपोर्ट्स के अनुसार जो महिलाए मास्टरबेशन करती हैं उनको सर्वाइकल इंफेक्शन बहुत कम ही होता है।

-मास्टरबेशन करने वाली महिलाओं का गर्भाशय ज्यादा मजबूत होता है।

-तनाव व डिप्रेशन से बचाव भी होता है। महिलाओं को ऑर्गेज्म की समस्या का सामना करना ही पड़ता है। अगर महिला मास्टरबेशन करती है तो आर्गेज्म होने के कारण तनाव व डिप्रेशन से बच जाती हैं। जो महिलाएं मास्टरबेट करती हैं वो डिप्रेशन का शिकार कम होती हैं।

-प्रेगनेंसी का डर नहीं रहता। इसे करने से आपको कोई भी नुकसान नहीं पहुंचता है। ना तो आप बीमार पड़ेंगे और ना ही आपको प्रेगनेंट होने का कोई डर सताएगा।

-पॉजिटीव विचारों को बढ़ावा मिलता है। जब आप मैस्टरबेशन के दौरान क्लाइमेक्स पर होते हैं, तब एंडोर्फिन हॉर्मोन्स रिलीज होता है। इस हॉर्मोन्स के रिलीज के बाद आपकी बेचैनी खत्म होती है और आपको मानसिक शांति मिलती है।

-बेहतर नींद आती है। ऑर्गेज्म से ब्लड प्रेशर का खतरा कम होता है और इससे इंडॉर्फिन्स को राहत मिलती है। इसके बाद शांति से नींद आती है। किसी के लिए भी ऑर्गेज्म पाना खुशी के साथ-साथ हेल्दी भी होता है।

-मास्टरबेशन सेक्शुअल टेंशन को रिलीज करता है।

-सेक्स लाइफ में सुधार आता है। मास्टरबेशन के जरिए आप अपनी बॉडी को और भी करीब से जान पाते हैं। आप जान पाते हैं कि आपको किस चीज से से सबसे ज्यादा अच्छा महसूस होता है। इस जानकारी से न सिर्फ आप खुद को आत्मविश्वास से भरपूर पाएंगे बल्कि आप अपने पार्टनर को भी अपने बेस्ट मूव्स और पार्ट्स के बारे में बता पाएंगे।

पढ़िए : क्या है पुरुष बांझपन और इसके कारण ?

Email us at connect@shethepeople.tv